लाइव टीवी

1 करोड़ रुपये में शुरू किया था बिजनेस, अब हर महीने कमा रही लाखों

News18Hindi
Updated: December 22, 2019, 4:19 PM IST

अवनीत मक्कड़ ने 2010 में अपनी बेटी के लिए गणित आसान बनाने एक पहल की और आज देश के सबसे सक्सेफुल स्टार्टअप बन गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 22, 2019, 4:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. गणित (Maths) एक ऐसा विषय रहा हैं जिसे पढ़ने और पढ़ाने के लिए कभी न कभी हम सब ने खूब पापड़ बेले है और यकीन मानइये आज भी गणित परीक्षा की बात मुझे नाइट्मेर दे सकती हैं. गणित के प्रति ऐसे डर को दूर करने के लिए और साथ की इसके कॉन्सेप्ट्स को बच्चों को आसान भाषा में समझाने का जिम्मा उठाया है अवनीत मक्कड़ ने 2010 में अपनी बेटी के लिए गणित आसान बनाने की एक पहल आज देश के सबसे सक्सेफुल स्टार्टअप (Startup) बन गई है.

बच्चों में गणित के प्रति बढ़ी दिलचस्पी
मैथमैटिक्स के दो वारिस हैं अल्जेब्रा और जियोमैट्री और ये मशहूर हैं मासूम बच्चों में खौफ फैलाने के लिए. इनकी दहशत इतनी है की बच्चे तो बच्चे पेरेंट्स में भी इसका खौफ बना हुआ है. एक मां ऐसी थी जिसका पसंदीदा विषय रहा है गणित. लेकिन अपनी बेटी में गणित को लेकर बढ़ रहे फोबिया को देखते हुए इन्हें काफी बुरा लगता था. इसिलिए इन्होंने ढूंढा एक ऐसा विकल्प जो टेक्नोलॉजी की मदद से बना रहा है गणित को आसान और मजेदार. हम बात कर रहे है, बेंगलुरु की अवनीत मक्कड़ की. इनका स्टार्टअप CarveNiche Technologies बच्चों में गणित के प्रति दिलचस्पी बढ़ा रहा है.

ये भी पढ़ें: 31 दिसंबर से पहले निपटा लें ये 4 काम, नहीं तो नए साल में होगी परेशानी

CarveNiche का beGalileo डिजाइन्ड काफी यूनिक तरह प्रोडक्ट है. इसमें सबसे पहले बच्चे का मिडास टेस्ट (Midas Test) लिया जाता है. इस AI बेस्ट टेस्ट से पता लगता है कि लर्निंग प्रोसेस में बच्चा कहां अटक रहा है. इससे बच्चे को आगे कैसे सिखाया जाना चाहिए इसकी दिशा तय होती है.

केजी से लेकर 10वीं क्लास के बच्चे के लिए उपयोगी
इस टेस्ट से लर्निंग गैप पता लदाने के बाद बच्चे की जरुरतों के हिसाब से पर्सनलाइज्ड AI पाथ जेनरेट होता है. beGalileo के प्लेटफॉर्म पर बच्चों जहां संघर्ष कर रहे है, वहां फोकस करते हुए उन टॉपिक्स को मजबूत किया जाता है. इस प्रोडक्ट की सबसे बड़ी खासियत है कि ये केजी (KG) से लेकर 10th क्लास के बच्चे किसी भी स्टेज पर इस्तेमाल करना शुरू कर सकते है. बच्चा चौथे क्लास का हो या सातवें क्लास, एक बार beGalileo पर पढ़ने के बाद गणित का डर भाग जाता है और फिर ये सबसे पसंदीदा विषय बनता है. 

फ्रेंचाइजी के जरिए कमाई का मौका
CarveNiche Technologies पर्सनलाइज्ड लर्निंग की क्वालिटी बरकरार रखने के लिए B2B पर प्रोडक्ट रीटेल नही कर रही. इसिलिए beGalileo सिर्फ B2C पर रिटेल होता है. कंपनी ने टिचर ट्रेनिंग देकर beGalileo सेंटर्स बनाए है. फ्रेंचाइजी मॉडल से बने इन सेंटर्स को ज्यादातर गणित शिक्षक से चला रहे है. टीचर्स की क्षमता जांचने के बाद ट्रेनिंग देकर इन सेंटर्स को शुरू किया जा सकाता है. इन होम बेस्ड सेंटर्स को कम से कम लागत में शुरू किया जा सकता है. जिनके लिए सेंटर जाना मुमकीन नही ऐसे ग्राहकों के लिए कंपनी सबस्क्रिबशन बॉक्स के जरिए प्रोडक्ट की रिटेलिंग करती है.

ये भी पढ़ें: Sunday Special: साल 2019 में PF नियमों में हुए ये बड़े बदलाव, जानें आपको क्या होगा फायदा?

21 शहरों में 900 से ज्यादा सेंटर्स
ज्यादा कंज्यूमर तक पहुंचने के लिए हर महीने 1500 की फीस beGalileo के लिए चार्ज की जाती है. कंपनी इसमें से 60% हिस्सा शिक्षकों को देती है. 21 शहरों में 900 से ज्यादा beGalileo सेंटर्स कंपनी चला रही है. 1 करोड रुपये की पर्सनल सेविंग्स से Avneet ने बिजनेस को शुरू किया, 10 लाख ड़लर का निवेश कंपनी अब तक जुटा चुकी है.

मैथ्स के साथ-साथ बच्चों की लॉजिकल और रिजनिंग स्कील चमका कर रही हैं. कंपनी आगे चलते हुए इन्हें कोडिंग और AI लर्निंग में प्रोडक्ट डेवलप करने पर फोकस बना रही है. इसी के साथ ग्राहकों तक पहुंच बढ़ाने पर भी खासा फोकस बना हुआ है. इस विस्तार के लिए नए साल में कंपनी बड़ा इंस्टीट्यूशनल फंड राउंड जुटाने की तैयारी में फाउंडर अवनीत मक्कड़ और विवेक शौर्या जुटे है.

ये भी पढ़ें: इस बिजनेस को शुरू करने के लिए मोदी सरकार दे रही ₹2.50 लाख, हर महीने होगी मोटी कमाई!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इनोवेशन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 22, 2019, 2:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर