निवेश में मिठास घोल शुगर कंपनियों के शेयर कर रहे मालामाल, जानें वजह

चीनी से एथेनॉल उत्पादन को सरकार की मंजूरी मिल गई है. अतिरिक्त गन्ना उत्पादन से एथेनॉल उत्पादन को बढ़ावा मिलेगा.

चीनी से एथेनॉल उत्पादन को सरकार की मंजूरी मिल गई है. अतिरिक्त गन्ना उत्पादन से एथेनॉल उत्पादन को बढ़ावा मिलेगा.

शक्कर (Sugar) कंपनियां द्वारिकेश(DWARIKESH) में 14% तो धामपुर (DHAMPUR) में 18% से ज्यादा की उछाल

  • Share this:

नई दिल्ली. शेयर बाजार में निवेश कर हर व्यक्ति अच्छा रिटर्न चाहता है लेकिन कंपनियों को लेकर उलझन बनी रहती है. आज हम आपको शुगर कंपनियों के बारे में बता रहे हैं. शुगर कंपनियों निवेश में मिठास घोल रही हैं.

शेयर बाजारों में सूचीबद्ध SUGAR शेयरों में तेजी की बहार देखने को मिल रही है. सोमवार को द्वारिकेश (DWARIKESH) में 14% तो धामपुर (DHAMPUR) में 18% से ज्यादा की उछाल आया है. पीआरएजे (PRAJ) में भी 17% ऊपर कारोबार हो रहा है. बीते एक महीने में शक्ति (SAKTHI), धामपुर (DHAMPUR) और केसीपी शुगर (KCP SUGAR) ने 25 से 30% का शानदार रिटर्न दिया है.

यह भी पढ़ें : कोरोना की वजह से इस शेयर से निवेशक हुए मालामाल, एक साल की कमाई जानकार हैरान रह जाएंगे आप

पेट्रोल में 10% एथेनॉल मिलाने की मंजूरी मिली
चीनी से एथेनॉल उत्पादन को सरकार की मंजूरी मिल गई है. अतिरिक्त गन्ना उत्पादन से एथेनॉल उत्पादन को बढ़ावा मिलेगा. साल 2022 तक पेट्रोल में 10% एथेनॉल मिलाने को मंजूरी मिल गई है. साल 2025 तक डीजल में 20% एथेनॉल मिलाने को मंजूरी मिली है. पिछले 3 सीजन में चीनी मिलों की आय 22000 करोड़ रुपए पहुंच गई है.

यह भी पढ़ें : Success Story : माता-पिता की देखभाल के लिए नौकरी छोड़ टीपीए बिजनेस किया, अब 3000 करोड़ का पोर्टफोलियो

घरेलू कारण के साथ ग्लोबल फैक्टर भी है तेजी की वजह



शुगर की इस तेजी के पीछे ना सिर्फ घरेलू कारण है बल्कि इसके पीछे ग्लोबल फैक्टर भी है. घरेलू फैक्टर्स की बात करें तो सरकार से इंटरेस्ट सबवेंशन स्कीम के तहत 422 प्रस्ताव मंजूर हुए हैं. सबवेंशन स्कीम स्कीम के तहत 1684 करोड़ लीटर क्षमता होगी. एथेनॉल ब्लेंडिंग प्रस्ताव पर 42000 करोड़ रुपए का निवेश संभव है. इसमें कंपनियां रुचि ले रही हैं.

यह भी पढ़ें : एनपीए से निपटने जून में शुरू हो सकता है बैड बैंक, सरकारी-प्राइवेट बैंकों की होगी भागीदारी 

ब्राजील और थाईलैंड में प्रोडक्शन घटने से भारत को फायदा

विशेषज्ञों के मुताबिक ब्राजील और थाईलैंड में शुगर का प्रोडक्शन घटने की आशंका है. ब्राजील और थाईलैंड दुनिया के बड़े शुगर एक्सपोर्टर हैं. ब्राजील और थाईलैंड में प्रोडक्शन घटने से भारत को फायदा होगा.

यह भी पढ़ें :  ड्रीम कार खरीद रहे हैं तो इन पांच बातों का जरूर ध्यान रखें, कीमतों में होगा फायदा 

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज