Home /News /business /

sukanya samriddhi scheme public provident fund senior citizen scheme interest rates hiked soon nodvkj

Good News: सुकन्‍या समृद्धि और पीपीएफ समेत छोटी बचत योजनाओं पर जल्‍द बढ़ेंगी ब्‍याज दरें! जानिए डिटेल

छोटी बचत योजनाओं पर जल्द बढ़ सकता है ब्याज

छोटी बचत योजनाओं पर जल्द बढ़ सकता है ब्याज

अगर आप छोटी बचत योजना जैसे- PPF, सुकन्या समृद्धि योजना, किसान विकास पत्र, NSC में निवेश करते हैं तो आपको ज्यादा ब्याज का तोहफा मिल सकता है. बढ़ते रेपो रेट और कर्ज की दर बढ़ने से कयास लगाए जा रहे हैं कि छोटी बचत योजनाओं के ब्याज में भी बढ़ोतरी हो सकती है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. छोटी बचत योजनाओं में पैसे लगाने वाले निवेशकों के लिए खुशखबरी है. सुकन्‍या समृद्धि और पीपीएफ समेत पोस्ट ऑफिस बचत योजनाओं पर आपको अगले माह से अधिक ब्याज मिल सकता है. अर्थशास्त्रियों का अनुमान है कि रिजर्व बैंक की ओर से रेपो रेट में बढ़ोतरी किए जाने के बाद सरकार छोटी बचत पर ब्याज दरों में इजाफा कर सकती है.

लंबे समय से नहीं बढ़ी हैx ब्याज दरें
केंद्र सरकार हर तीन महीने पर छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों की समीक्षा करती है. पिछले 2 साल से छोटी बचत पर ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं हुआ है. मार्च में हुई समीक्षा में भी दरें अपरिवर्तित रखी गई थीं.

पोस्ट ऑफिस बचत योजनाओं पर वर्तमान ब्याज दरें
यहां हम पोस्ट ऑफिस बचत योजनाओं पर वर्तमान ब्याज दरें के बारे में बता रहे हैं, जो इस साल 1 अप्रैल से लागू हुई हैं और इस महीने के अंत तक यानी 30 जून तक वैध रहेंगी.

i. पब्लिक प्रोविडेंट फंड: 7.1 फीसदी
ii. नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट: 6.8 फीसदी
iii. सुकन्या समृद्धि योजना: 7.6 फीसदी
iv. किसान विकास पत्र: 6.9 फीसदी
v. सेविंग डिपॉजिट: 4 फीसदी
vi. 1 साल की टाइम डिपॉजिट: 5.5 फीसदी
vii. 2 साल की टाइम डिपॉजिट: 5.5 फीसदी
viii. 3 साल की टाइम डिपॉजिट: 5.5 फीसदी
ix. 5 साल की टाइम डिपॉजिट: 6.7 फीसदी
x. 5 साल की आरडी: 5.8 फीसदी
xi. 5 साल की वरिष्ठ नागरिक सेविंग्स स्कीम: 7.4 फीसदी
xii. 5 साल मंथली इनकम अकाउंट: 6.6 फीसदी

ये भी पढ़ें- काम की बात : सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट से संवारे बेटी का भविष्य, टैक्स बेनिफिट भी पाएं

छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरें बढ़ने की उम्मीद क्यों
भारतीय रिजर्व बैंक ने देश में बढ़ती मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए मौद्रिक नीति समिति की दो बैठकों में अपनी रेपो दरों में 90 बेसिस प्वाइंट्स की बढ़ोतरी की है. हालांकि इसका मतलब है कि उधारकर्ताओं को कई लोन टेन्योर पर अधिक ब्याज देना होगा. इसका यह भी अर्थ है कि निवेशकों को बेहतर रिटर्न मिल सकता है. रेपो रेट बढ़ने के कारण कई नेशनलाइज्ड और प्राइवेट बैंक अपनी एफडी और आरडी दरों में बढ़ोतरी कर रहे हैं. यही कारण है कि सरकार अगले महीने से पीपीएफ, एमआईएस और एसएसवाई जैसी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में बढ़ोतरी के बारे में फैसला ले सकती है.

Tags: Post Office, Post office MIS, PPF, Public Provident Fund

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर