SBI कैपिटल करेगी आम्रपाली ग्रुप के छह अटके प्रोजेक्ट्स की फंडिंग, सुप्रीम कोर्ट ने दी हरी झंडी

SBI कैपिटल करेगी आम्रपाली ग्रुप के छह अटके प्रोजेक्ट्स की फंडिंग, सुप्रीम कोर्ट ने दी हरी झंडी
प्रतीकात्मक तस्वीर

Amrapali Group: रियल एस्टेट सेक्टर के लिए सरकार द्वारा प्रायोजित स्ट्रेस फंड का प्रबंधन करने वाली SBICAP ने पहले सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि उसने आम्रपाली ग्रुप की छह रुकी हुई परियोजनाओं के लिए 625 करोड़ रुपये देने का फैसला किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 1, 2020, 9:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने मंगलवार को आम्रपाली ग्रुप (Amrapali Group) के हजारों घर खरीदारों (Home buyers) को राहत देते हुए SBICAP वेंचर्स के लिए देय ब्याज के मुद्दे को हल कर दिया और छह रुकी हुई परियोजनाओं के लगभग 7000 आवासीय इकाइयों की फंडिंग की रुकावट को साफ कर दिया. एसबीआई कैप आम्रपाली ग्रुप के छह रुके हुए प्रोजेक्ट की फंडिंग करेगी.

रियल एस्टेट सेक्टर के लिए सरकार द्वारा प्रायोजित स्ट्रेस फंड का प्रबंधन करने वाली SBICAP ने पहले सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि उसने आम्रपाली ग्रुप की छह रुकी हुई परियोजनाओं के लिए 625 करोड़ रुपये देने का फैसला किया है. जस्टिस अरुण मिश्रा और यू यू ललित की पीठ ने निर्देश दिया कि चार हफ्ते के भीतर कानूनी ढांचा अदालत के समक्ष प्रस्तुत किया जाएगा, जिसके तहत SBICAP को 12 फीसदी आंतरिक दर का भुगतान किया जाएगा.

यह भी पढ़ें- एक से ज्यादा Account खोलना पड़ेगा भारी, आ सकता है इनकम टैक्स का नोटिस



पीठ ने कहा कि परियोजनाओं का निर्माण राज्य द्वारा संचालित नेशनल बिल्डिंग्स कंस्ट्रक्शन कॉरपोरेशन (NBCC) द्वारा किया जाएगा और निगरानी एक अदालत द्वारा नियुक्त समिति द्वारा की जाएगी. जिन छह आम्रपाली परियोजनाओं के लिए निर्माण कार्य शुरू किया गया है उनमें सिलिकॉन वैली -1 और 2, क्रिस्टल होम्स (Crystal Homes), सेंचुरियन पार्क लो राइज (Centurian Park Low Rise), सेंचुरियन पार्क ओ 2 वैली (Centurian Park O2 Valley)और सेंचुरियन पार्क ट्रॉपिकल गार्डन (Centurian Park Tropical Garden) शामिल हैं, जिनमें लगभग 6970 रेजिडेंशियल यूनिट्स होंगे.
शीर्ष अदालत ने दालत के रिसीवर वरिष्ठ अधिवक्ता आर वेंकटरमनी से आम्रपाली की अन्य रुकी हुई परियोजनाओं के वित्तपोषण के लिए बैंकों के कंसोर्टियम बनाने की संभावना का पता लगाने के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक के साथ चर्चा करने के लिए पूछा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज