लाइव टीवी

सुप्रीम कोर्ट ने कहा-कार चोरी की लेट जानकारी पर खारिज नहीं हो सकता इंश्योरेंस क्‍लेम

News18Hindi
Updated: January 25, 2020, 3:15 PM IST
सुप्रीम कोर्ट ने कहा-कार चोरी की लेट जानकारी पर खारिज नहीं हो सकता इंश्योरेंस क्‍लेम
वाहन चोरी की बढ़ती वारदातों के बीच सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला लोगों को काफी राहत देने वाला है. चोरी की ऐसी वारदातों के बाद लोग अक्‍सर परेशान हो जाते हैं. वे पुलिस को तो सूचना दे देते हैं. लेकिन, यही जानकारी इंश्‍योरेंस कंपनी को देना भूल जाते हैं.

वाहन चोरी की बढ़ती वारदातों के बीच सुप्रीम कोर्ट का यह फैसला लोगों को काफी राहत देने वाला है. चोरी की ऐसी वारदातों के बाद लोग अक्‍सर परेशान हो जाते हैं. वे पुलिस को तो सूचना दे देते हैं. लेकिन, यही जानकारी इंश्‍योरेंस कंपनी को देना भूल जाते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 25, 2020, 3:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अगर कार चोरी (Car Theft) की सूचना देने में किसी वजह से देर हो जाती है तो इस आधार पर कंपनी  क्‍लेम (Insurance Claim) को खारिज नहीं कर सकती हैं. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने इंश्योरेंस क्लेम के मामले में फैसला सुनाते हुए ये बातें कहीं है.कंपनी की याचिका को खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने कहा कि अगर मामले की पुलिस को तुरंत जानकारी दी जाती है तो वाहन को खोजने की प्रक्रिया पारदर्शी और तेज होगी. वाहन चोरी के मामले में इंश्योरेंस कंपनी और सर्वेयर की भूमिका सिमित होती है. इसलिए मामले में अगर पुलिस को सूचना दे दी जाती है और इंश्योरेंस कंपनी को सूचना देने में देरी भी होती है तो कंपनियां इसे आधार बनाकर क्लेम को देने से मना नहीं कर सकती हैं.

>> जस्टिस एनवी रमन्ना, आर सुभाष रेड्डी और बीआर गवई की बेंच ने साल 2017 में सुप्रीम कोर्ट के फैसले से सहमति जताई.

>> सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि गाड़ी चोरी की जानकारी देने में अगर देरी हो जाने को आधार बनाकर बीमा कंपनी क्लेम देने से मना कर देती है तो यह काफी अधिक तकनीकी पहलू हो जाएगा.

ये भी पढ़ें-अगले हफ्ते लगातार 3 दिन बंद रहेंगे बैंक, पहले ही निपटा लें बैंक से जुड़े काम

>> शर्त यह है कि पुलिस को इस बारे में समय से सूचित कर दिया गया हो. देखने में आया है कि कई बार किसी वजह से वाहन चोरी की सूचना इंश्योरेंस कंपनी को देने में देर हो जाती है.

>> कंपनी ने कहना था कि कॉमर्शियल व्‍हीकल्‍स पैकेज पॉलिसी के स्‍टैंडर्ड फॉर्म में उसने साफ कर रखा है कि वाहन चारी के मामले में इसकी सूचना तुरंत कंपनी को दी जानी चाहिए. अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो कंपनी क्‍लेम को खारिज कर सकती है.

ये भी पढ़ें-बदल गया आपके पोस्ट ऑफिस खाते से जुड़ा बड़ा नियम!ये भी पढ़ें-PF का पैसा दोगुना करने के लिए अपनाएं ये तरीका, जानिए इससे जुड़ी सभी बातें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 25, 2020, 3:08 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर