महिलाओं के लिए 'कोरोना कवच', साड़ी खरीदने पर फ्री में मिल रहा मैचिंग मास्क, सेनिटाइजर, काढ़ा और होमियोपैथी दवा

महिलाओं के लिए 'कोरोना कवच', साड़ी खरीदने पर फ्री में मिल रहा मैचिंग मास्क, सेनिटाइजर, काढ़ा और होमियोपैथी दवा
साड़ी खरीदने पर कोरोना से लड़ने के लिए जरूरी सामान

सूरत के एक कारो​बारियों कोरोना वायरस के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए साड़ी बॉक्स के साथ एक कोरोना कवच भी दे रहा है. इसमें मैचिंग मास्क, सेनिटाइजर, आयुर्वेदिक काढ़े का पाउडर और होमियोपैथी दवा होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 17, 2020, 11:06 PM IST
  • Share this:
सूरत. अगर साड़ी खरीदते वक्त साड़ी के बॉक्स में मास्क, सेनिटाइजर, आयुर्वेदिक काढ़े का पाउडर और होमियोपैथी की दवाई भी मिले तो हैरान न हों. दरअसल, कोरोना के खिलाफ की लड़ाई में लोगो में जागरूता फैलाने के मकसद से सूरत के कपड़ा कारोबारी एक नए मिशन से साथ आये है. साड़ी खरीदो, कोरोना से मजबूती से लड़ो, इस नारे के साथ साड़ी के कारो​बारियों ने एक नए जागरूकता अभियान शुरू किया है.

जब आप सूरत में बनी कोई साड़ी खरीदना चाहे तो व्यापारी आपको 'कोरोना कवच' (Corona Kavach) नाम से एक बॉक्स ऑफर करेगा. दरअसल, यह साड़ी का ही बॉक्स होगा. जिसके अंदर साड़ी तो होगी साथ में मैचिंग मास्क, सेनिटाइजर, आयुर्वेदिक काढ़े का पाउडर और होमियोपैथी की दवाई होगी, जो आपको कोविड-19 से बचाने में मदद करेंगे.

फ्री में मिलेगा कोरोना कवच
सूरत एक बड़ा टेक्सटाइल मार्केट (Textile Market, Surat) है जहां की साड़ियां देश-दुनिया में मशहूर है. ऐसे में समय समय पर साड़ियों के प्रमोशन के लिए तरह तरह के प्रयोग किये जाते रहे है लेकिन इस बार इसे जागरूकता अभियान के साथ जोड़ा जा रहा है. देहात से लेकर शहर तक लोगों में जागरूकता को और बढ़ावा देने पर जोर है.
यह भी पढ़ें: PM Kisan-गांव लौटे लोगों के खाते में आएंगे 2000 रुपये,इस नंबर पर लें जानकारी





व्यापारियों का मानना है कि साड़ी हर महिला की पसंद होती है और हर घर में एक साड़ी भी खरीदी जाए तो हर घर तक कोविड-19 के खिलाफ जागरूकता को बल मिलेगा. साड़ी के साथ कोविड कवच की जो भी सामग्री दी जा रही है इसका एक भी पैसा नही लिया जा रहा,जो भी कीमत होगी वह साड़ी की ही होगी. साड़ी की कीमत 500 रुपये से लेकर 5000 तक है.

दो लाख से ज्यादा साड़ियों का ऑर्डर मिला
व्यापारी का दावा है कि इन साड़ियां की मांग राजस्थान, यूपी, बिहार में ज्यादा है. व्यापारी का दावा यह भी है कि अबतक तीस हजार साड़ियां बेची जा चुकी है जबकि तकरीबन दो लाख साड़ियों का ऑर्डर है. दरअसल इस नायाब जागरूकता अभियान के पीछे की जो भी मार्केटिंग फॉर्म्युला हो लेकिन फिलहाल चर्चा का केंद्र बनने में सफल रही हैं.

कीर्तश पटेल,सूरत​

यह भी पढ़ें: Post Office की स्कीम में लगाएं पैसा, रोजाना 100 रुपए के निवेश से बनाएं 5 लाख
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading