कैफे कॉफी डे ने एसवी रंगनाथ को बनाया अंतरिम चेयरमैन, 8 अगस्त को होगी अगली बैठक

लोकप्रिय कॉफी रिटेल चेन कैफे कॉफी डे (CCD) के मालिक वीजी सिद्धार्थ का शव बरामद होने के बाद कैफे कॉफी डे ने एसवी रंगनाथ को अपना अंतरिम चेयरमैन नियुक्त किया है.

News18Hindi
Updated: July 31, 2019, 3:28 PM IST
कैफे कॉफी डे ने एसवी रंगनाथ को बनाया अंतरिम चेयरमैन, 8 अगस्त को होगी अगली बैठक
एसवी रंगनाथ कैफे कॉफी डे के अंतरिम चेयरमैन नियुक्त
News18Hindi
Updated: July 31, 2019, 3:28 PM IST
लोकप्रिय कॉफी रिटेल चेन कैफे कॉफी डे (CCD) के मालिक वीजी सिद्धार्थ का शव बरामद होने के बाद कैफे कॉफी डे ने एसवी रंगनाथ को अपना अंतरिम चेयरमैन नियुक्त किया है. वहीं बोर्ड ने नितिन बागमाने को अंतरिम चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (COO) बनाया है. रंगनाथ पहले कॉफी डे एंटरप्राइज में नॉन-एग्जिक्यूटिव इंडिपेंडेंट डायरेक्टर थे. बागमाने बोर्ड ऑफ टैंगलिन डेवलपमेंट्स लिमिटेड के बोर्ड मेंबर थे. यह कॉफी डे एंटरप्राइज की सब्सिडियरी है. बोर्ड मीटिंग की अगली बैठक 8 अगस्त को बुलाई गई है, जिसमें आगे की रणनीति पर फैसला लिया जाएगा. बता दें कि सोमवार शाम से लापता कैफे कॉफी डे (सीसीडी) के संस्थापक और कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एसएम कृष्णा के दामाद वीजी सिद्धार्थ की लाश बुधवार को मिली.

कंपनी ने घोषणा की है कि सिद्धार्थ और कंपनी की तरफ से किए सभी लेनदेन की जांच की जाएगी. सिद्धार्थ ने लापता होने से दो दिन पहले एक लेटर लिखा था. इसमें उन्होंने एक प्राइवेट इक्विटी पार्टनर और इनकम टैक्स डिपार्टमेंट पर शोषण का आरोप लगाया है. कंपनी के बोर्ड ने एक एग्जिक्यूटिव कमिटी बनाने का भी फैसला किया है. इसमें रंगनाथ, बागमाने और आर राम मोहन (कॉफी डे एंटरप्राइज के CFO) शामिल होंगे.

नौकरी छोड़कर शुरू की थी कंपनी- आपको बता दें कि सिद्धार्थ ने नौकरी छोड़कर कारोबार की शुरुआत की थी. वह नौकरी छोड़कर बेंगलुरु वापस आ गए और बचे हुए 2 लाख रुपये से फाइनेंशियल कंपनी खोली. उन्होंने सिवान सिक्यॉरिटीज के साथ कारोबार की शुरुआत की. बाद में यह कंपनी साल 2000 में way2wealth securities ltd बनी.

सिद्धार्थ इसे बेहद सफल निवेश बैंकिंग और स्टॉक ब्रोकिंग कंपनी बनाने में सफल रहे.  वीजी सिद्धार्थ, भारत के सफल बिजनेसमैन में से एक थे. उन्होंने कम समय में अपनी बड़ी पहचान बनाई थी. कैफे कॉफी डे के फाउंडर ने कभी 5 लाख रुपये के साथ अपने सफर की शुरुआत की और वह भारत के 'कॉफी किंग' भी कहलाते हैं.

ये भी पढ़ें: 50 करोड़ मज़दूरों को लेकर सरकार ने उठाया बड़ा कदम! अब सीधा खाते में आएगा वेतन

क्यों परेशान थे सिद्धार्थ-कारोबार में घाटे से परेशान थे वीजी सिद्धार्थ. ‘कैफे कॉफी डे’ लंबे समय से घाटे में चल रही है. उन्होंने कंपनी के कर्मचारियों और बोर्ड ऑफ डायरेक्टर को इस बारे में एक लेटर भी लिखा है, जिसमें इनकम टैक्स डिपार्टमेंट पर प्रताड़ना का आरोप भी लगाया है.

फिलहाल आशंका जताई जा रही थी कि कारोबार से जुड़ी परेशानियों के चलते ही उन्होंने आत्महत्या की होगी. उन पर सितंबर 2017 से ही अघोषित संपत्ति रखने के मामले में जांच चल रही थी.
Loading...

लेटर में वीजी सिद्धार्थ ने ये लिखा था-वीजी सिद्धार्थ ने इस चिट्ठी में लिखा है कि मैंने बहुत संघर्ष किया और इस दौरान अपनी कंपनी और सब्सिडियरी कंपनी में 30 हजार नौकरियां दीं. लेकिन एक इक्विटी पार्टनर के दबाव को और बर्दाश्त नहीं कर सकता.

वह मुझ पर लगातार उन शेयरों को बायबैक करने के लिए दबाव बना रहे हैं, जिसका ट्रांजैक्शन मैंने आंशिक रूप से छह महीने पहले एक दोस्त के साथ पूंजी इकट्ठा करने के लिए किया था.

उन्होंने कहा कि मैंने लंबे समय तक अपनी कंपनी को मुनाफे में लाने का प्रयास किया, लेकिन इसमें फेल रहा. इसलिए मैं उन सभी लोगों से माफी मांगता हूं, जिन्होंने मुझ पर भरोसा जताया.

ये भी पढ़ें-इस बैंक ने ग्राहकों को दिया तोहफा, सस्ती हुई होम लोन की EMI

1996 में खोला था पहला स्टोर-सिद्धार्थ ने कैफे कॉफी डे (सीसीडी) का पहला स्टोर 1996 में बेंगलुरू में खोला. यह अब भारत में कॉफी रेस्तरां की सबसे बड़ी चेन है. इस चेन के भारत और विदेश में 1,700 से अधिक आउटलेट हैं. सिद्धार्थ के लापता होने की खबर के बाद बीएसई में सीसीडी का शेयर 20 प्रतिशत तक गिर गया.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 31, 2019, 2:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...