खुशखबरी: घर खरीदारों को बड़ी राहत! वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सौंपी घर की चाबी, जानिए पूरी डिटेल

. स्वामीह स्कीम के तहत 72 परियोजनाओं को 6,995 करोड़ रुपये की फंडिंग मिल चुकी है

. स्वामीह स्कीम के तहत 72 परियोजनाओं को 6,995 करोड़ रुपये की फंडिंग मिल चुकी है

सालों से अटके फ्लैट्स का काम तेजी से हो रहा है. सरकार द्वारा जारी स्पेशल फंड की मदद से अब तक कई लोगों को अपना घर मिल चुका है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि अफोर्डेबल एंड मिड इनकम हाउसिंग (SWAMIH) फंड के लिए विशेष विंडो से 1.16 लाख होम लोन लेने वालों को फायदा होगा.

  • Share this:

नई दिल्ली. सालों से अटके फ्लैट्स का काम तेजी से हो रहा है. सरकार द्वारा जारी स्पेशल फंड की मदद से अब तक कई लोगों को अपना घर मिल चुका है. गुरुवार की शाम वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि अफोर्डेबल एंड मिड इनकम हाउसिंग (SWAMIH) फंड के लिए विशेष विंडो से 1.16 लाख होम लोन लेने वालों को फायदा होगा. बता दें कि मंत्रालय ने अटकी पड़ी आवासीय परियोजनाओं को पूरा करने के लिए वर्ष 2019 में स्पेशल विंडो फॉर अफोर्डेबल एंड मिड इनकम हाउसिंग (SWAMIH) योजना शुरू की थी. इस स्कीम के तहत मुंबई स्थित रिवाली पार्क में तैयार होने वाली पहली आवासीय परियोजना में फ्लैट बुक करने वाले 640 खरीदारों को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को चाबी सौंपी.

फंड के अभाव में अटकी थी परियोजना

स्वामीह फंड के तहत 1,500 अटकी पड़ी आवासीय परियोजनाओं को पूरा करने के लिए 25,000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है. इस फंड का प्रबंधन एसबीआइ कैप वेंचर्स लिमिटेड कर रही है और इस स्कीम को वित्त मंत्रालय के आर्थिक कार्य विभाग की निगरानी में चलाया जा रहा है. बता दें कि ये परियोजनाएं पहले से दो-तिहाई तैयार थीं, लेकिन आखिरी चरण में फंड के अभाव में अटक गई थी. स्वामीह स्कीम के तहत 72 परियोजनाओं को 6,995 करोड़ रुपये की फंडिंग मिल चुकी है.। इन 72 परियोजनाओं में 44,115 फ्लैट हैं.

ये भी पढ़ें- Gold Price Today: अक्षय तृतीया पर आज सस्ता हुआ सोना! कीमतों में लगातार गिरावट, फटाफट चेक करें लेटेस्ट रेट्स
सभी को घर उपबल्ध कराना योजना का उद्देश्य

वित्त मंत्री ने कहा कि जिस मकान के लिए लोगों ने वर्षो तक इंतजार किया, लॉकडाउन जैसे मुश्किल दौर में उसकी चाबी पाकर उन्हें बेहद खुशी हो रही है. वित्त मंत्री ने कहा कि भारत सरकार ने विभिन्न समस्याओं से जूझ रही सस्ती और मध्यम आय वाली आवासीय परियोजनाओं को धन मुहैया कराने की दिशा में कदम बढ़ाया, जिससे उन घर खरीदने वालों को राहत मिली जिन्होंने अपनी गाढ़ी कमाई का निवेश इन परियोजनाओं में किया था. निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार का यह मानना ​​है कि एक बार इन घरों का निर्माण पूरा हो जाने के बाद, इन परियोजनाओं में बड़ी मात्रा में फंसी पूंजी बाहर निकल आएगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज