लाइव टीवी

भूल जाएं FD और सेविंग खाता! बैंक की इस सुविधा का लाभ उठाने पर मिलेगा ज्यादा मुनाफा

News18Hindi
Updated: February 6, 2020, 9:30 AM IST
भूल जाएं FD और सेविंग खाता! बैंक की इस सुविधा का लाभ उठाने पर मिलेगा ज्यादा मुनाफा
स्वीप इन अकाउंट के बारे में

अपने सेविंग बैंक अकाउंट (Saving Account) में सरप्लस फंड को स्वीप-इन डिपॉजिट में जमा कर आप अधिक ब्याज प्राप्त कर सकते हैं. साथ ही, इसकी मदद से आप अपने लिए एक पूंजी भी तैयार कर सकते हैं जो आपके इमरजेंसी के समय काम आ सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 6, 2020, 9:30 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कई बार ऐसा होता है कि हमारे पास रेग्युलर इन्वेस्टमेंट (Regular Investment) के अलावा भी कुछ ऐसे अनप्लान्ड फंड होते हैं जो हमारे बचत खाते में पड़े रहते हैं. इस रकम को न तो हम कहीं निवेश में लगाते हैं और न ही कहीं खर्च कर पाते है. अधिकतर लोग ऐसे पैसे को फिक्स्ड डिपॉजिट (Fixed Deposits) में रखने पर भरोसा करते हैं. लेकिन इसके अलावा एक ऐसा विकल्प है, जहां हम इन पैसों से ​FD से अधिक ब्याज प्राप्त कर सकते हैं. इस रकम को हम स्वीप-इन-डिपॉजिट में जमा करा अधिक ब्याज प्राप्त कर सकते हैं.

क्या है स्वीप-इन-डिपॉजिट?
स्वीप-इन सुविधा की मदद से बैंक आपके द्वारा तय किए रकम को आपके सेविंग अकाउंट (Saving Account) से स्वीप-इन-डिपॉजिट में ट्रांसफर कर देता है. इस स्वीप-इन-डिपॉजिट की अवधि 1 साल से लेकर 5 साल के लिए होती है. अवधि के आधार पर इस डिपॉजिट पर ब्याज दर भी तय किया जाता है. मोटे तौर पर इस डिपॉजिट में रखें पैसे पर आपको अधिक ब्याज मिलता है.

यह भी पढ़ें: Forbes : भारत के 30 साल से कम उम्र वाले कामयाब लोगों में भुवन बाम समेत कई नाम

Stack of bundled hundred rupee notes on white background


क्या है विभिन्न बैंकों का नियम
विभिन्न बैंकों में इस सुविधा का नाम अलग-अलग होता है. जैसे- भारतीय स्टेट बैंक (State Bank of India) में सेविंग प्लस अकाउंट की मदद से यह काम हो जाता है. इस सुविधा के मदद से SBI सेविंग अकाउंट में जरूरत से अधिक जितनी भी रकम होगी, वो ऑटोमेटिकली स्वीप-इन-डिपॉजिट में ट्रांसफर हो जाएगी. लेकिन याद रहे की यह रकम 1,000 रुपये के मल्टीपल में ही होनी चाहिए. HDFC बैंक में इस सुविधा को स्वीप-इन फिक्स्ड डिपॉजिट और ICICI बैंक में इस सुविधा को फ्लेक्सी डिपॉजिट कहा जाता है.स्वीप-इन ​सुविधा और फ्लेक्सी डिपॉजिट में एक अंतर होता है. फ्लेक्सी डिपॉजिट के मामले में बैंक अपने आप ही सरप्लस फंड को डिपॉजिट में डाल देता है. वहीं, स्वीप-इन सुविधा में आपको मैन्युअली शुरू करना होता है, जिसे आप सरप्लस फंड को मिल ट्रांसफर करने के लिए अपने सेविंग अकाउंट से लिंक करते हैं.

यह भी पढ़ें: घर बैठे आपको मिल सकते हैं 1 करोड़ रुपये! सरकार लाने जा रही ये खास योजना



कौन ले सकता है इस सुविधा का लाभ
स्वीप-इन सुविधा बैंक के सभी ग्राहकों को नहीं दिया जाता है. इसके लिए हर बैंक का अपना क्राइटेरिया होता है. आमतौर पर, इस खास सुविधा का लाभ लेने के लिए आपको कम से कम 25 हजार रुपये का FD खोलना जरूरी होता है.

क्या है इसका फायदा
इस डिपॉजिट पर न सिर्फ ज्यादा ब्याज मिलता है बल्कि एक फायदा यह भी है कि इस सुविधा की मदद से आप अपने लिए एक बड़ी पूंजी भी तैयार कर सकते हैं जोकि किसी वित्तीय इमरजेंसी में आपके काम आ सकता है. छोटी मोटी जरूरतों के लिए आपको अपने रेग्युलर इन्वेस्टमेंट या FD की जरूरत भी नहीं पड़ेगी. अगर आप समय से पहले इस रकम की निकासी करते हैं तो आपको कोई फाइन भी नहीं देना पड़ेगा.

यह भी पढ़ें:  बैंकों खाते में इतने लाख रु तक जमा की होगी गारंटी! बदला 27 साल पुराना कानून

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पैसा बनाओ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 6, 2020, 7:00 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर