टाटा कैपिटल का दावा, कैफे कॉफी डे पर कोई बकाया नहीं

टाटा कैपिटल फाइनेंशियल सर्विसेज (टीसीएफएस) ने कहा है कि कैफे कॉफी डे (सीसीडी) के संस्थापक वी जी सिद्धार्थ ने अपने सभी कर्ज चुका दिये थे और सीसीडी पर कंपनी का कोई कर्ज बकाया नहीं है.

News18Hindi
Updated: August 4, 2019, 2:06 PM IST
टाटा कैपिटल का दावा, कैफे कॉफी डे पर कोई बकाया नहीं
कैफे कॉफी डे (सीसीडी) समूह के पूर्व प्रमुख वीजी सिद्धार्थ (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: August 4, 2019, 2:06 PM IST
टाटा कैपिटल फाइनेंशियल सर्विसेज (टीसीएफएस) ने कहा है कि कैफे कॉफी डे (सीसीडी) के संस्थापक वी जी सिद्धार्थ ने अपने सभी कर्ज चुका दिये थे और सीसीडी पर कंपनी का कोई कर्ज बकाया नहीं है. टीसीएफएस का बयान ऐसे समय में आया है जब यह चर्चा है कि कॉफी क्षेत्र के दिग्गज सिद्धार्थ ने वित्तीय दबाव की वजह से अपनी जान दी है.

आपको बता दें कि कैफे कॉफी डे (सीसीडी) चलाने वाले दिग्गज कारोबारी वी. जी सिद्धार्थ की कंपनी ' कॉफी डे एंटरप्राइजेज लिमिटेड' की देनदारी 2018-19 में दोगुनी होकर 5,200 करोड़ रुपये हो गई. इसके अलावा उनकी गैर-सूचीबद्ध रीयल्टी समेत अन्य इकाइयों पर भी कर्ज है. शेयर बाजार और कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय को दी गई सूचना से इसकी जानकारी मिली है.

कैफे कॉफी डे पर कोई बकाया नहीं-टीसीएफएस ने कहा कि वित्त वर्ष 2017-18 में सीसीडी समूह पर उसका 165 करोड़ रुपये का बकाया था लेकिन उसने मार्च, 2019 तक पूरी राशि चुका दी गयी थी. टाटा कैपिटल लिमिटेड की सब्सिडयरी कंपनी टीसीएफएस ने कहा कि कैफे कॉफी डे समूह की किसी भी कंपनी पर उसका बकाया नहीं है.

ये भी पढ़ें-किसानों की 3000 रुपये पेंशन वाली योजना के लिए यहां कराना होगा रजिस्ट्रेशन! जानिए इसके बारे में सबकुछ...

सिद्धार्थ ने शेयरों को गिरवी रखकर जुटाई थी पूंजी-सीसीडी के फाउंडर सिद्धार्थ सोमवार शाम को लापता हो गए थे और 36 घंटे की कड़ी खोजबीन के बाद बुधवार को उनका शव बरामद हुआ.

सिद्धार्थ और उनके परिवार ने कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी के 75 प्रतिशत से ज्यादा शेयरों को गिरवी रखा हुआ है. एक साल पहले यह आंकड़ा 60 प्रतिशत था. सिद्धार्थ की कई इकाइयां हैं , जिन्होंने बैंकों और वित्तीय संस्थानों समेत अन्य संगठनों से पैसा उधार लिया था.

ये भी पढ़ें-ट्रेन से भी कम दामों में हवाई यात्रा करा रही है एयर इंडिया
Loading...

सिद्धार्थ ने सीसीडी के निदेशक मंडल को लिखे पत्र में कहा है कि उन पर एक निजी इक्विटी साझेदार का दबाव है , जो मुझे शेयर वापस खरीदने के लिए मजबूर कर रहा है. मैंने 6 महीने पहले एक दोस्त से बड़ी रकम उधार लेकर इस लेनदेन का कुछ हिस्सा पूरा किया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 4, 2019, 1:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...