टाटा पावर सोलर ने प्लांट विस्तार किया, मैन्युफैक्चरिंग क्षमता दोगुनी कर 1,100 मेगावाट की

टाटा पावर सोलर सिस्टम लिमिटेड के पास एक अप्रैल 2021 तक 10,000 करोड़ रुपए की ऑर्डर थे. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

टाटा पावर सोलर सिस्टम लिमिटेड के पास एक अप्रैल 2021 तक 10,000 करोड़ रुपए की ऑर्डर थे. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

टाटा पावर सोलर सिस्टम लिमिटेड (Tata Power Solar Systems Ltd) ने बेंगलुरू में अत्याधुनिक मैन्युफैक्चरिंग प्लांट का विस्तार किया है. अब सौर सेल और मोड्यूल मैन्युफैक्चरिंग क्षमता दोगुनी कर 1,100 मेगावाट हो गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 2:00 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. टाटा पावर सोलर सिस्टम लिमिटेड (Tata Power Solar Systems Ltd) ने अपनी सौर सेल और मोड्यूल मैन्युफैक्चरिंग क्षमता दोगुनी कर 1,100 मेगावाट कर ली है. बुधवार को कंपनी ने एक बयान में कहा कि कंपनी के बेंगलुरू में अत्याधुनिक मैन्युफैक्चरिंग प्लांट का विस्तार किया गया है.
कंपनी के मुताबिक अब सेल और मोड्यूल की कुल उत्पादन क्षमता बढ़कर 1,100 मेगावाट हो गई है. बयान के अनुसार सौर मोड्यूल की मांग में उल्लेखनीय वृद्धि तथा आत्मनिर्भर भारत के लिए सरकार की अनुकूल नीतियों की वजह से आने वाले समय इसमें और तेजी की उम्मीद को देखते हुए प्लांट का विस्तार किया गया है.

यह भी पढें : Success Story : लॉकडाउन में सांसद ने नौकरी से निकाला तो राजमा-चावल ने बदल दी इस कपल की जिंदगी

कंपनी का राजस्व 2,353 करोड़ रुपए पर पहुंचा
टाटा पावर का बेंगलुरू में सौर उपकरण मैन्युफैक्चरिंग प्लांट (Tata Power Solar manufacturing plant in Bengaluru) देश का प्रमुख एकीकृत सेल और मोड्यूल मैन्युफैक्चरिंग प्लांट है. दिसंबर 2020 की वित्तीय आय के अनुसार कंपनी का राजस्व 2,353 करोड़ रुपये था और एक अप्रैल 2021 तक 10,000 करोड़ रुपये की ऑर्डर लंबित थी.


यह भी पढें : नौकरी की बात :  इंटरव्यू में नई स्किल के बेहतर प्रदर्शन से मिलेगी जॉब की गारंटी, जानिए ऐसे ही अहम मंत्र

टाटा पाॅवर गुजरात ऊर्जा निगम के लिए लगाएगा 60 मेगावाट का सौर ऊर्जा प्लांट
टाटा पाॅवर गुजरात ऊर्जा विकास निगम (जीयूवीएनएल) के लिए वहां 60 मेगीावाट का सौर ऊर्जा प्लांट लगाएगा. इसके लिए जीयूवीएनएल से कंपनी काे वर्क ऑर्डर मिला है. यह समझाैता 25 वर्ष के लिए हुआ है. जनवरी 2021 में हुए टेंडर में कंपनी ने सबसे ऊंची बाेली लगाकर यह वर्क ऑर्डर हासिल किया है. पाॅवर पर्चेज एग्रीमेंट की तारीख से 18 महीने के भीतर प्लांट का निर्माण पूरा करना है. यह जानकारी टाटा पाॅवर के सीईओ सह एमडी डॉ. प्रवीर सिन्हा ने दी है. उनके मुताबिक इस प्लांट से प्रति वर्ष लगभग 156 मेगा यूनिट ऊर्जा उत्पन्न होने की उम्मीद है. इससे 156 मिलियन किलोग्राम कार्बन डाई-ऑक्साइड की मात्रा कम हाेगी. इस प्रोजेक्ट के साथ ही टाटा पाॅवर की नवीकरणीय क्षमता बढ़कर 4007 मेगावाट हो जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज