BigBasket में 64.3 फीसदी हिस्सेदारी खरीदेगा टाटा ग्रुप, कॉम्पिटिशन कमीशन ऑफ इंडिया की फाइलिंग में पुष्टि

रतन टाटा

रतन टाटा

टाटा ग्रुप डिजिटल मार्केट में अपनी उपस्थिति बढ़ाना चाहती है. इसके लिए वह स्नैपडील और इंडिया मार्ट में भी हिस्सेदारी खरीदने की योजना बना रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 13, 2021, 12:11 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. टाटा ग्रुप (Tata Group) अलीबाबा समर्थित देश की सबसे बड़ी ऑनलाइन ग्रॉसरी कंपनी बिगबास्केट (BigBasket) में 64.3 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने की तैयारी कर रही है. इसकी पुष्टि टाटा डिजिटल लिमिटेड (Tata Digital Ltd) द्वारा कॉम्पिटिशन कमीशन ऑफ इंडिया (Competition Commission of India) में जमा की गई एक फाइलिंग में हुई है.

बिगबास्केट की प्रतिद्वंद्वी कंपनियां ई-ग्रॉसरी बिजनेस में काफी मोटा निवेश करने जा रही है. फ्लिपकार्ट ने घोषणा की है कि वह अपने विस्तार टियर 3 और टियर 4 शहरों में करने जी रही है.

ये भी पढ़ें - निवेशकों को मिलेगी सहूलियत, केंद्र सरकार लॉन्च करेगी 'आत्मनिर्भर निवेशक मित्र' पोर्टल

रोज बुक होते हैं 3 लाख ऑर्डर
टाटा ग्रुप नए बने टाटा डिजिटल (Tata Digital) के तहत सुपर ऐप (Super App) का निर्माण कर रहा है. यह ऐप जल्द लॉन्च होने वाला है. ऐसे में उसे बिगबास्केट के बड़े हाउसहोल्ड आइटम और ग्रॉसरी प्रोडक्ट्स से अच्छा सपोर्ट मिल सकता है. बिगबास्केट पर प्रतिदिन लगभग 3 लाख ऑर्डर बुक होते हैं. बिगबास्केट 18 हजार से ज्यादा प्रोडक्ट्स की बिक्री करता है. हाल ही में इसका ग्रॉस मर्चेंडाइज वैल्यू एक बिलियन डॉलर को टच किया. लॉकडाउन के पहले फल और सब्जियों की बिक्री 16 से 18 फीसदी थी, जो अब बढ़कर 20 से 22 फीसदी हो गई है. टाटा ग्रुप डिजिटल मार्केट में अपनी उपस्थिति बढ़ाना चाहती है. इसके लिए वह स्नैपडील और इंडिया मार्ट में भी हिस्सेदारी खरीदने की योजना बना रही है.

ये भी पढ़ें- आम आदमी को झटका, फरवरी में खुदरा महंगाई बढ़ी, टूटा 3 महीने का रिकॉर्ड

बिगबास्केट में है अलीबाबा ग्रुप की बड़ी हिस्सेदारी



बिगबास्केट में सबसे अधिक 29 फीसदी हिस्सेदारी चीन के उद्योगपति जैक मा की कंपनी अलीबाबा ग्रुप की है. बिगबास्केट के दूसरे निवेशकों में अबराज ग्रुप शामिल है, जिसकी हिस्सेदारी 16.3 फीसदी, एसेंट कैपिटल की हिस्सेदारी 8.6 फीसदी, हेलियॉन वेंचर पार्टनर्स की 7 फीसदी, बेसेम्मर वेंचर पार्टनर्स की 6.2 फीसदी, मिराई एस्सेट एशिया की हिस्सेदारी 5 फीसदी, इंटनरेशनल फाइनेंस कॉर्पोरेशन की 4.1 फीसदी, सैंड्स कैपिटल की 4 फीसदी और सीडीसी ग्रुप की हिस्सेदारी 3.5 फीसदी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज