Good News: इन 7 कंपनी के कर्मचारियों को मुफ्त में मिलेगी वैक्सीन, परिवार को भी किया जाएगा शामिल

Coronavaccine

Coronavaccine

देश में बड़े पैमाने पर कोरोना टीकाकरण (coronavirus vaccine) शुरू होने के बाद अब कई कंपनियां अपने कर्मचारियों के लिए कोरोना वैक्सीन का खर्च उठाने की योजना बना रही हैं. इसी के तहत कई कंपनियों की ओर से कर्मचारियों के लिए बड़ा ऐलान किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 4, 2021, 12:31 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में बड़े पैमाने पर कोरोना टीकाकरण (coronavirus vaccine) शुरू होने के बाद अब कई कंपनियां अपने कर्मचारियों के लिए कोरोना वैक्सीन का खर्च उठाने की योजना बना रही हैं. इसी के तहत कई कंपनियों की ओर से कर्मचारियों के लिए बड़ा ऐलान किया गया है. कंपनी अब अपने स्टाफ के कोविड वैक्सिनेशन का खर्च वहन करेगी. इसमें आईटी क्षेत्र की दिग्गज कंपनी इंफोसिस (Infosys) और सॉफ्टवेयर कंसल्टिंग फर्म एक्‍सेंचर (Accenture), टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस (TCS), स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI)और आरपीजी ग्रुप्स (RPG Groups) शामिल हैं. इन सभी कंपनियों के कर्मचारियों और उनके परिवार का कोविड वैक्सिनेशन का खर्च कंपनी खुद उठाएगी. इसके अलावा इंडियन बैंक्स एसोसिएशन (Indian Banks Association) ने अपने सभी मेंबर बैंकों को भी एडवायजरी जारी की है, जिसमें बैंकों से इंप्लॉइज के वैक्सिनेशन का खर्च उठाने पर विचार करने को कहा गया है.

क्या कहना है कंपनियों का?
इंफोसिस और एक्‍सेंचर ने बुधवार को कहा कि भारत में अपने कर्मचारियों के लिए कोविड-19 टीकाकरण का पूरा खर्च स्‍वयं उठाएगी. इंफोसिस के चीफ ऑपरेटिंग ऑफ‍िसर प्रवीण राव ने कहा कि इंफोसिस अपने कर्मचारियों एवं उनके परिजनों को कोविड-19 टीका लगाने के लिए हेल्‍थकेयर प्रोवाइडर्स के साथ पार्टनरशिप करने की संभावना तलाश रही है. एक्‍सेंचर ने भी कहा है कि वह अपने कर्मचारियों और उनके आश्रितों के कोविड-19 टीकाकरण का पूरा खर्च वहन करेगी. कंपनी ने कहा कि वह अपने उन कर्मचारियों और उन पर निर्भर लोगों के कोविड वैक्सिनेशन का खर्च वहन करेगी, जो कंपनी के मेडिकल बेनिफिट प्रोग्राम में कवर हैं. बता दें कि भारत में एक्सेंचर के 2 लाख कर्मचारी हैं.

ये भी पढ़ें- घर खरीदने का शानदार मौका! होम लोन पहुंचा 15 साल के सबसे निचले स्तर पर, यहां चेक करें डिटेल्स..
SBI ने क्या कहा?


वहीं, SBI ने अपने कर्मचारियों को एक इंटरनल कम्युनिकेशन में कहा कि आईबीए ने सरकार के समक्ष प्रस्ताव रखा है कि बैंक इंप्लॉइज को वैक्सिनेशन के लिए वरीयता लिस्ट में शामिल किया जाए. इस पर अभी मंजूरी मिलना बाकी है. इस बीच आईबीए ने सभी बैंकों को निर्देश दिया है कि वे अपने कर्मचारियों को उनके और उन पर निर्भर सदस्यों के वैक्सिनेशन की कॉस्ट रिइंबर्स करें. यह कॉस्ट वही होगी जो सरकार ने तय की है. इसलिए एसबीआई अपने 2.5 लाख कर्मचारियों के वैक्सिनेशन का खर्च उठाएगा.

ये भी पढ़ें-  COVID 19 के बाद घर खरीदने के मामले में पुरुषों से आगे निकलीं महिलाएं, उठाना चाहती हैं ये लाभ, पढ़ें पूरी खबर

RPG और TCS का भी ऐलान
RPG ग्रुप भी अपने स्टाॅफ का वैक्सिनेशन खर्च उठाने का ऐलान किया है. कंपनी में लगभग 25000 कर्मचारी काम करते हैं. वहीं, TCS का कहना है कि हमने अपने कर्मचारियों और उनके परिवार को महामारी की शुरुआत से सहयोग किया है. इसमें कोविड टेस्टिंग और इलाज शामिल है. यह सहयोग टीकाकरण के चरण में भी जारी रहेगा. इसके अलावा वेदांता, एनटीपीसी ने भी कर्मचारियों के वैक्सिनेशन का खर्च उठाने का फैसला किया है. एनटीपीसी का कहना है कि वह अपने लगभग 19,000 कर्मचारियों और उनके परिवार के वैक्सिनेशन की लागत को रिइंबर्स करेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज