लाइव टीवी

करते हैं म्यूचुअल फंड में निवेश तो ऐसे बचाएं TDS, नहीं होगी डिविडेंड पर टैक्स की चिंता

News18Hindi
Updated: February 13, 2020, 7:15 PM IST
करते हैं म्यूचुअल फंड में निवेश तो ऐसे बचाएं TDS, नहीं होगी डिविडेंड पर टैक्स की चिंता
म्यूचुअल फंड पर टीडीएस बचाने के लिए क्या उपाय है?

नए वित्तीय वर्ष शुरू होने से ठीक पहले सैलरीड क्लास (Salaried Class) के लिए ये जानना जरूरी है कि उन्हें​ विभिन्न तरह के निवेश पर TDS बचाने के लिए क्या वि​कल्प है. आखिर कैसे म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) में निवेश पर TDS कैसे बचाया जा सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 13, 2020, 7:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली.​ नया वित्तीय वर्ष शुरू होने में अब डेढ़ महीने से भी कम समय है. सैलरीड क्लास के लिए ये डेढ़ महीना टैक्स बचत (Tax Savings) के लिए काफी चिंताजनक होता है. हर किसी को इस बात की चिंता होती है कि आखिर ऐसा क्या विकल्प अपनाया जाए ताकि टैक्स के मोर्चे पर उन्हें राहत मिल सके. ऐसे में आज हम आपको इस बात की जानकारी देंगे कि अगर आपने म्यूचुअल फंड में निवेश किया है तो इस पर TDS कैसे बचाया जाए.

क्या है नियम
म्यूचुअल फंड पर लगने वाले TDS को लेकर टैक्स एक्सपर्ट मुकेश पटेल का कहना है कि सीबीडीटी ने इस पर सफाई देते हुए कहा है कि सेक्शन 194K के तहत TDS काटा जाएगा. 5000 रुपये से ज्यादा डिविडेंड पर 10 फीसदी TDS लगेगा. म्यूचुअल फंड के कैपिटल गेन्स पर TDS नहीं कटेगा. डिविडेंड को दोबारा निवेश करने पर भी TDS कटेगा. इनकम टैक्स रिटर्न में इसकी जानकारी देनी होगी.

यह भी पढ़ें: जानिए क्यों नहीं मिल रहे 1.16 करोड़ किसानों को PM-किसान स्कीम के ₹6000



कैसे बचेगा टैक्स
म्यूचुअल फंड पर TDS बचाने का फंडा ये है कि आपकी इनकम टैक्स छूट की सीमा से अधिक आमदनी न हो. 60 साल से कम उम्र वाले फॉर्म 15G का फायदा ले सकते है. वहीं सीनियर सिटीजन, फॉर्म 15H के जरिए TDS बचा सकते है. फॉर्म 15G और 15H के जरिए डिविडेंड पर TDS बचा सकते हैं.सरकार की इस स्कीम का उठाएं फायदा
केंद्र सरकार की विवाद से विश्वास स्कीम के दायरे में PMLA और बेनामी ट्रांजैक्शंस एक्ट के मामले नहीं आएंगे. विदेश से संपत्ति और आय की जानकारी छिपाने पर भी इस स्कीम का फायदा नहीं ले पाएंगे. विवाद से विश्वास स्कीम 30 जून तक खुली रहेगी. 31 मार्च 2020 तक बकाया टैक्स चुकाने पर ब्याज और पेनल्टी से बचा जा सकेगा.



 

हालांकि इस स्कीम की डेडलाइन मिस होने पर 10% अतिरिक्त भुगतान करना होगा. पेनल्टी और ब्याज को लेकर विवाद है तो रकम का 25% अदा करें. विवाद से विश्वास स्कीम की पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन की जाएगी. नई टैक्स व्यवस्था चुनने पर PPF में निवेश पर टैक्स छूट नहीं मिलेगी. हालांकि PPF खाते से मिलने वाले ब्याज पर छूट मिलती रहेगी.

यह भी पढ़ें: इधर बिजली चोरी की उधर घर पर आ जाएगी पुलिस, होगी रियल टाइम मॉनिटरिंग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 13, 2020, 5:56 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर