• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • TECH MAHINDRA TO COVER COVID 19 VACCINATION COST FOR EMPLOYEES ACROSS THE GLOBE NODVKJ

दुनियाभर में अपने 1.21 लाख कर्मचारियों का टीकाकरण का खर्च उठाएगी Tech Mahindra

टेक महिंद्रा

कई बड़ी कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को फ्री कोरोना का टीका लगवाने का ऐलान किया है. इनमें इंफोसिस, एक्‍सेंचर, टीवीएस मोटर, कैपजेमिनी आदि शामिल हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देश में बड़े पैमाने पर कोरोना टीकाकरण (Covid-19 Vaccination) शुरू होने के बाद अब कई कंपनियां अपने कर्मचारियों के लिए कोरोना वैक्सीन का खर्च उठाने की योजना बना रही हैं. वहीं, टेक महिंद्रा (Tech Mahindra) ने दुनियाभर में अपने कर्मचारियों के कोविड-19 टीकाकरण का खर्च खुद उठाने की घोषणा की है.

    टेक महिंद्रा से पहले भी कई कंपनियां कह चुकी हैं कि वे अपने कर्मचारियों तथा उनके परिजनों के टीकाकरण का खर्च खुद उठाएंगी. कई बड़ी कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को फ्री कोरोना का टीका लगवाने का ऐलान किया है. इनमें इंफोसिस, एक्‍सेंचर, टीवीएस मोटर, कैपजेमिनी आदि शामिल हैं.

    ये भी पढ़ें- Freecharge ऐप के जरिए करते हैं ज्यादा लेनदेन, इस क्रेडिट कार्ड के जरिए हर ट्रांजैक्शन पर मिलेगा 5 फीसदी कैशबैक

    दुनिया के 90 देशों में कंपनी के 1,21,900 कर्मचारी
    टेक महिंद्रा ने अपने सभी कर्मचारियों से कहा है कि वे सरकार के ऐप कोविन/आरोग्य सेतु के जरिए टीका लगवाने को पंजीकरण कराएं और उसके बाद आगे की प्रक्रिया का पालन करें. दुनिया के 90 देशों में टेक महिंद्रा के कर्मचारियों की संख्या 1,21,900 है.

    टेक महिंद्रा के वैश्विक प्रमुख जन अधिकारी और मार्केटिंग प्रमुख हर्षवेंद्र सोइन ने कहा, ''अपने कर्मचारियों की स्वास्थ्य देखभाल के तहत हम दुनियाभर में अपने सभी कर्मचारियों के कोविड-19 टीके का खर्च खुद उठाएंगे. यह हमारी कारोबार से पहले सेहत की प्रतिबद्धता को दर्शाता है.''

    टेक महिंद्रा ने कोविड-19 जोखिम जांच परीक्षण ‘एमहेल्दी’ की भी घोषणा की है. इस परीक्षण से यह सुनिश्चित होगा कि टेक महिंद्रा के परिसर में आने वाला प्रत्येक व्यक्ति स्वस्थ है. इससे वर्क पलेस की सुरक्षा सुनिश्चित होगी.

    देश में शुरू हो चुका है 2.O Vaccination अभियान
    गौरतलब है कि देश में 1 मार्च से कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण शुरू हो चुका है. वैक्सीनेशन में 60 साल से ऊपर की उम्र वालों के साथ-साथ 45 से 60 साल तक की उम्र के उन लोगों को भी वैक्सीन की डोज दी जा रही है, जो गंभीर बीमारियों से ग्रसित हैं. लोग सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ निजी अस्पतालों में भी कोरोना लगवा रहे हैं. 1 मार्च को पीएम मोदी ने कोरोना का पहला डोज लगवाया वहीं पीएम मोदी ने सभी से बेफिक्र होकर कोरोना का टीका लगाने की बात कही.