Home /News /business /

तेजस एक्सप्रेस के लेट होने पर हर बार नहीं मिलेगा रिफंड! IRCTC ने रखी ये शर्त

तेजस एक्सप्रेस के लेट होने पर हर बार नहीं मिलेगा रिफंड! IRCTC ने रखी ये शर्त

देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस

देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस

IRCTC के मुताबिक, अगर तेजस एक्सप्रेस दैवीय आपदा की वजह से लेट होती है तो वो इसका मुआवजा यात्रियों को नहीं देगी. कंपनी से 'एक्ट ऑफ गॉड' बताया है. ऐसे में कोहरे की वजह से दरी होने पर यात्रियों को रिफंड नहीं मिलेगा.

    नई दिल्ली. अगर आप भी देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस (Tejas Express) में यात्रा करने की योजना बना रहे हैं और इसपर मिलने वाली सुविधाओं का लाभ लेना चाहता हैं तो आपको ​थोड़ी निराशा हो सकती है. तेजस एक्सप्रेस देश की पहली ऐसी ट्रेन है, जो देरी होने पर यात्रियों को मुआवजा देती है. हालांकि इस ट्रेन का संचालन करने वाली भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम (IRCTC) ने मुआवजे से जुड़े नियमों में बदलाव करने का फैसला लिया है. इस बदलाव के बाद धुंध के कारण यदि तेजस ट्रेन लेट होती है तो यात्रियों को मुआवजा नहीं दिया जाएगा.

    क्यों मुआवजा नहीं देगी IRCTC
    IRCTC ने कहा है कि अगर किसी प्राकृतिक आपदा की वजह से तेजस एक्सप्रेस लेट होती है, तो यात्रियों को इसके लिए कोई मुआवजा नहीं दी जाएगी. IRCTC ने कहा है कि प्राकृतिक आपदा 'एक्ट ऑफ गॉड' के अंतर्गत आता है, ऐसे में यात्रियों को दैवीय आपदा की वजह से तेजस एक्सप्रेस में देरी होने पर वो इसका मुआवजा नहीं भरेगी. सर्दी के मौसम में कोहरे की वजह से तेजस एक्सप्रेस लेट होती है तो इसका फायदा यात्रियों को नहीं मिले सकेगा, क्योंकि आईआरसीटीसी के मुताबिक, फॉग को एक्ट ऑफ गॉड माना जाएगा.

    ये भी पढ़ें: केंद्र सरकार की स्कीम्स की मदद से कम लागत में शुरू करें यह बिजनेस, हर साल होगी मोटी कमाई

    19 अक्टूबर को लेट होने पर भरा था 1.62 लाख रुपये का मुआवजा
    बता दें कि बीते 19 अक्टूबर को तेजस एक्सप्रेस पहली बार 3 घंटे के​ लिए लेट हुई थी. इसके बाद आईआरसीटीसी ने इस ट्रेन के यात्रियों को 1 लाख 62 हजार रुपये का मुआवजा भरा था. आईआरसीटीसी ने कुल 950 यात्रियों को मुआवजा भरा था. भारतीय रेल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ कि ट्रेन लेट होने पर यात्रियों को मुआवजा दिया गया.

    3 घंटे की हुई थी देरी
    19 अक्टूबर को तेजस एक्सप्रेस में लखनऊ से अपने तय समय सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर चलनी थी. लेकिन, इस दिन यह ट्रेन 9 बजकर 55 मिनट चली और दोपहर 3 बजकर 40 मिनट पर दिल्ली पहुंची. शेड्यूल के हिसाब से नई दिल्ली पहुंचने का सयम 12 बजकर 25 मिनट है. इसी वजह से नई दिल्ली से लखनऊ जाने के लिए भी यह ट्रेन लेट हुई. इसके बाद आईआरसीटीसी ने लखनऊ से दिल्ली आए 450 यात्रियों को 250 रुपये प्रति यात्री और ​नई दिल्ली से लखनऊ गए 500 यात्रियों को 100-100 रुपये का मुआवजा दिया था.

    ये भी पढ़ें: रेल यात्री ध्यान दें! बदल चुका है PNR से जुड़ा ये नियम, अब ट्रेन छूटने पर आसानी से मिलेगा रिफंड

    Tags: Business news in hindi, Indian railway, Indian Railway Catering and Tourism Corporation, Irctc

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर