आनंद विहार-अगरतला राजधानी एक्सप्रेस में लगेंगे तेजस स्लीपर कोच, यात्रियों को मिलेंगी ये आधुनिक सुविधाएं

तेजस ट्रेन (प्रतीकात्मक तस्वीर)

तेजस ट्रेन (प्रतीकात्मक तस्वीर)

भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने फैसला किया है कि आनंद विहार-अगरतला राजधानी एक्सप्रेस में तेजस ट्रेन (Tejas Train) के स्लीपर कोच लगाए जाएंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 13, 2021, 6:11 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आनंद विहार टर्मिनल-अगरतला स्पेशल राजधानी एक्सप्रेस से सफर करना और अधिक सुविधाजनक होने वाला है. भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने फैसला किया है कि इस ट्रेन में तेजस ट्रेन के स्लीपर कोच लगाए जाएंगे. उम्मीद की जा रही है कि इस बदलाव से राष्ट्रीय राजधानी से बेहतर कनेक्टिविटी स्थापित हो पाएगी. 15 फरवरी से यह बदलाव लागू होगा.

भारतीय रेलवे की योजना है कि साल 2021-22 में इंटीग्रल कोच फैक्ट्री और मॉडर्न कोच फैक्ट्री में 500 ऐसे तेजस स्लीपर कोच तैयार किया जाए ताकि लंबी दूरी वाले ट्रेनों के कोचों को चरणबद्ध तरीके से बदला जा सके.

तेजस टाइप स्लीपर कोच की है है खासियतें

>> कोच की सभी एंट्रेंस डोर ऑटोमेटिक सेंट्रलाइज्ड है,जिसे ट्रेन का गार्ड कंट्रोल करेगा. यही नहीं रेलवे स्टेशनों से ट्रेन तब तक चलना शुरू नहीं करेगी जब तक सभी दरवाजे सही तरीके से बंद ना हो जाए.
>> कोच का अंडर फ्रेम ऑस्टेनितिक स्टेनलेस स्टील से बनाया गया है. इससे इसकी टिकाऊपन काफी ज्यादा बढ़ जाती है.

>> कोच के शौचालयों को अधिक स्वच्छ रखने के मकसद से इनमें बायो वैक्यूम टॉयलेट लगाया गया है. इसमें फ्लशिंग और बेहतर तरीके का होने के साथ साथ पानी का भी कम इस्तेमाल होगा.

>> यात्रियों को और अधिक सुविधा और आराम देने में मकसद से ये बोगी एयर सस्पेंशन से लैश होगा.



>> सभी कोचों में ऑटोमेटिक फायर अलार्म और डिटेक्शन सिस्टम लगाया गया है.

>> यात्रियों को सूचना पहुंचाने के लिए सेंट्रलाइज्ड पैसेंजर इन्फॉर्मेशन कोच कंप्यूटिंग यूनिट सभी कोच में लगाया जाएगा.

>> PICCU के जरिए यात्रियों पैसेंजर अनाउंसमेंट किया जाएगा. ट्रेन आगे किस स्टेशन में पहुंचेगी, कितना समय लगेगा, इसकी पूरी जानकारी डिजिटली दी जाएगी.

>> कोच में ऐसे CCTV कैमरे लगाए गए है जो रात के कम लाइट में भी पिक्चर की गुणवत्ता काफी बेहतर होगी.

>> मेडिकल और सुरक्षा आपातकाल के लिए इमरजेंसी टॉक बैक की सुविधा होगी.

>> सेफ्टी को बेहतर करने के लिए कोच के बेअरिंग,व्हील का ऑन बोर्ड कंडीशन की मॉनिटरिंग की जा सकती है.

>> कोच के अंदर एयर कंडीशनिंग सिस्टम के लिए हवा की गुणवत्ता की माप करने के लिए HVAC लगाया गया है.

>> कोच के टॉयलेट में कोई है या नहीं इसकी जानकारी के लिए टॉयलेट ऑक्यूपेंसी सेंसर लगाया गया है.

>> कोच में पानी की उपलब्धता की जानकारी के लिए वाटर लेवल सेंसर लगाया गया है.

>> सेफ्टी को और बेहतर सुनिश्चित करने के लिए ट्रेन में ट्रेन सुपरवाइजर एंड पावर कार मोनिटरिंग सिस्टम लगाया गया है जिसे PICCU से सीधा कनेस्ट किया जाता है.

>> शौचालयों को भी काफी आधुनिक बनाने का प्रयास किया गया है. इसमें नए डिजाइन का डस्टबिन,डोर लैच एक्टिवेटिड लाइट, इंगेजमेंट डिस्प्ले, मार्बल और एंटी ग्राफिटी कोटिंग और टच लेस टेप लगाया गया है.

>> कोच का बाहरी और आंतरिक टेक्सचर PVC फिल्म से तैयार किया गया है.

>> यात्रियों को अधिक आरामदायक यात्रा कराने के लिए PU फोम से बना सीट और बर्थ बनाया गया है।

>> बेहतर तरीके से सैनिटाइजेशन किया जा सके इसके लिए कोच में खिड़कियों में रोलर ब्लाइंड लगाया गया है।

>> प्रत्येक यात्रियों के पास मोबाइल चार्जिंग पॉइंट दिया गया है.

>> कुछ भी पढ़ने के लिए प्रत्येक यात्रियों को बर्थ रीडिंग लाइट सभी सीटों में लगाया गया है.

>> ऊपर के बर्थ पर जाने के लिए तुलनात्मक रूप से अधिक सुविधाजनक व्यवस्था की गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज