स्पेक्ट्रम नीलामी के लिए एक मार्च से शुरू होंगी बोलियां, 5 फरवरी तक आवेदन कर सकती हैं कंपनियां

हाल ही में स्पेक्ट्रम नीलामी को कैबिनेट ने दी थी हरी झंडी

हाल ही में स्पेक्ट्रम नीलामी को कैबिनेट ने दी थी हरी झंडी

1 मार्च से स्पेक्ट्रम की नीलामी (Spectrum Auction) शुरू होगी. स्पेक्ट्रम नीलामी के आवेदन मंगाने की शुरुआत हो गई है.

  • Share this:
नई दिल्ली. छठे दौर में 3.92 लाख करोड़ रुपये की स्पेक्ट्रम नीलामी (Spectrum Auction) के लिए बोलियों की प्रक्रिया एक मार्च से शुरू होंगी. बुधवार को जारी एक सरकारी नोटिस में इसकी जानकारी दी गई है. केंद्रीय मंत्रिमंडल से 2,251.25 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की नीलामी की मंजूरी पहले ही मिल चुकी है. इनकी कीमत 17 दिसंबर 2020 की आधार दर के हिसाब से 3.92 लाख करोड़ रुपये है.

ये भी पढ़ें- World Bank का अनुमान! वित्‍त वर्ष 2021 के दौरान Indian economy में आएगी 9.6% की गिरावट

दूरसंचार सेवा प्रदाताओं को 5 फरवरी तक आवेदन करना होगा

दूरसंचार विभाग (Department of Telecom) ने प्री-बिड कांफ्रेंस के लिए 12 जनवरी का समय तय किया है. इस नोटिस को लेकर 28 जनवरी तक स्पष्टीकरण मांगा जा सकता है. नीलामी में भाग लेने के लिए दूरसंचार सेवा प्रदाताओं को 5 फरवरी तक आवेदन दायर करना होगा.
ये भी पढ़ें- HSRP: दिल्‍ली में रह रहे दूसरे राज्‍यों के लोगों के लिए खुशखबरी! जल्‍द राजधानी में ही बनवा सकेंगे नई नंबर प्लेट

24 फरवरी को होगी बोलीदाताओं की अंतिम लिस्ट की घोषणा

नोटिस के अनुसार, बोलीदाताओं की अंतिम लिस्ट की घोषणा 24 फरवरी को होगी. इस दौर में 700 मेगाहर्ट्ज, 800 मेगाहर्ट्ज, 900 मेगाहर्ट्ज, 2100 मेगाहर्ट्ज, 2300 मेगाहर्ट्ज और 2500 मेगाहर्ट्ज के लिये बोलियां एक मार्च से शुरू होने वाली हैं.



4 साल पहले हुई थी स्पेक्ट्रम नीलामी

हाल ही में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने स्पेक्ट्रम की अगले दौर की नीलामी के लिए दिशानिर्देशों को मंजूरी दी थी. सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा था कि पिछला स्पेक्ट्रम का आवंटन चार साल पहले हुआ था. इसलिए अब चार साल बीत जाने की वजह से इंडस्ट्री की तरफ से इसकी जरूरत महसूस की जा रही थी. प्रसाद ने कहा, "अगली स्पेक्ट्रम नीलामी की शर्तें 2016 की नीलामी की तरह ही रहेंगी."

सरकार ने साल 2016 में 65789 करोड़ रुपए जुटाए

गौरतलब है कि चार साल पहले सरकार ने स्पेक्ट्रम नीलामी के जरिए सिर्फ 65789 करोड़ रुपए जुटाए थे. वहीं, बिक्री के लिए 5.63 ट्रिलियन मूल्य के एयरवेज के हिस्से को सेल के रूप में रखा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज