Home /News /business /

Term Insurance : प्रीमियम बढ़ने के डर से न करें जल्दबाजी, खरीदने से पहले इन बातें का रखें ध्यान

Term Insurance : प्रीमियम बढ़ने के डर से न करें जल्दबाजी, खरीदने से पहले इन बातें का रखें ध्यान

लगातार बढ़ रहे क्लेम की वजह से टर्म इंश्योरेंस महंगा होता जा रहा है, खरीदने से पहले इन बातों का रखें ध्यान

लगातार बढ़ रहे क्लेम की वजह से टर्म इंश्योरेंस महंगा होता जा रहा है, खरीदने से पहले इन बातों का रखें ध्यान

Term Insurance Plan Premium Hike this year select best plan, टर्म इंश्योरेंस के प्रीमियम में हो सकता है इजाफा, खरीदने से पहले चुनें सबसे अच्छा प्लान, जरूरतों और महंगाई दर का रखें ध्यान

    नई दिल्ली. कोविड-19 महामारी के जोखिम और बढ़ती मांग के दबाव में बीमा कंपनियां टर्म इंश्योरेंस (Term Insurance) के प्रीमियम (Premium) लगातार बढ़ा रही हैं. आगे भी कीमतें बढ़ने का अनुमान है. ऐसे में प्रीमियम बढ़ने के डर से टर्म बीमा खरीदने में जल्दबाजी न करें. बढ़ती कीमतों की परवाह किए बिना अपनी आर्थिक जरूरतों और महंगाई दर को ध्यान में रखकर टर्म बीमा लें.

    बैंक बाजार के सीईओ (CEO) आदिल शेट्टी का कहना है कि टर्म इंश्योरेंस की महत्ता तब और बढ़ जाती है, जब बीमाधारक की असामयिक मौत के बाद परिवार पर कर्ज और अन्य देनदारियों का बोझ अचानक आ पड़ता है. ऐसे वित्तीय बोझ से बचने के लिए टर्म बीमा पॉलिसी खरीदते समय अपनी देनदारी, बच्चों की शिक्षा पर खर्च, कमाई के स्रोत, पत्नी की आय और परिवार की स्वास्थ्य संबंधी जरूरतों का ध्यान रखें. टर्म बीमा हमेशा जरूरतों के अनुसार लेना चाहिए, जिसमें कवर (Cover) आपकी सालाना आय का 10-20 गुना हो.

    ये भी पढ़ें- बंपर कमाई का मौका! शेयर बाजार में निवेश करते हैं तो 2022 में ये छह E-Vehicles कंपनियां करा सकती हैं मोटा मुनाफा

    जरूरतों के हिसाब से बढ़ाते रहें कवर
    वह बताते हैं कि अगर आपके पास पहले से कोई टर्म बीमा पॉलिसी है तो परिवार की जरूरतों के अनुसार हर साल इसका कवर बढ़ाते रहें. इसमें कई एड-ऑन भी मिलते हैं. मसलन, एक्सीडेंट डेथ बेनिफिट या मंथली इनकम. यहां आपका पूरा ध्यान बेसिक कवर पर होना चाहिए और जरूरत पड़े, तभी एड-ऑन खरीदना चाहिए. कोई भी एड-ऑन अपने जीवन में मौजूदा जोखिम को देखकर ही लें।

    ये भी पढ़ें- आपका Aadhaar Card असली है या नकली? घर बैठे ऐसे करें पता

    उत्पादों की तुलना करें, सेटलमेंट रेश्यो जरूर देखें
    बीमा क्षेत्र के जानकारों का कहना है कि इंश्योरेंस कंपनियों के टर्म बीमा प्लान अलग-अलग होते हैं. ऐसे में अपनी जरूरतों के आधार पर विभिन्न कंपनियों के उत्पादों की तुलना के बाद ही बेहतर टर्म बीमा खरीदें. इनकी तुलना करते समय पॉलिसी के विभिन्न पहलुओं मसलन बीमा कवरेज, मैच्योरिटी की उम्र और दावा निपटान का रिकॉर्ड आदि मानकों की जांच जरूर करें. कंपनियों की सेटलमेंट रेश्यो भी जरूर देखें. बीमा रेगुलेटर इरडा (IRDAI) ने हाल ही में 2020-21 के लिए बीमा कंपनियों के सेटलमेंट रेश्यो का डाटा जारी किया है.

    भूलकर भी न करें ये गलतियां
    अधूरी जानकारी : टर्म बीमा खरीदते समय अपनी पूरी मेडिकल हिस्ट्री का खुलासा करें. ऐसा नहीं करने पर क्लेम के दौरान दिक्कतें आ सकती हैं और आपका क्लेम खारिज हो सकता है.
    कम अवधि का प्लान : कम अवधि वाला प्लान खरीदने की गलती न करें. 30 साल की उम्र में 10 साल की अवधि का प्लान चुनते हैं तो 40 वर्ष की उम्र में 10 साल के लिए अगला प्लान खरीदना पड़ेगा, जो महंगा पड़ेगा. इसके बदले 30 वर्ष की ही उम्र में ही 20 साल के लिए प्लान खरीद लें.
    जल्द पॉलिसी न खरीदना : टर्म बीमा जितनी जल्द खरीदेंगे, उतना ही कम प्रीमियम चुकाना पड़ेगा. उम्र बढ़ने के साथ आपको अधिक प्रीमियम चुकाना पड़ सकता है.

    सिर्फ प्रीमियम को ही मानक न बनाएं
    बीमा एवं निवेश सलाहकार स्वीटी मनोज जैन का कहना है कि टर्म बीमा मौजूदा माहौल में बुनियादी जरूरतों का हिस्सा बन गया है. यह आपके बाद परिवार की आर्थिक जरूरतें पूरी करने में काफी मददगार साबित हो सकता है. इसलिए टर्म बीमा पॉलिसी चुनते समय सिर्फ प्रीमियम को ही मानक न बनाएं. सस्ती पॉलिसी में हो सकता है कि अहम राइडर्स न शामिल हों, जिसका खामियाजा आपको और आपके परिवार को भुगतान पड़ सकता है.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर