अपना शहर चुनें

States

Tesla का शेयर इस साल दे चुका है 700% से ज्‍यादा रिटर्न, आज से S&P 500 में हो रही शामिल, जानें कैसे निवेश कर सकते हैं भारतीय

एलन मस्‍क की कंपनी टेस्‍ला आज एसएंडपी में शामिल हो रही है.
एलन मस्‍क की कंपनी टेस्‍ला आज एसएंडपी में शामिल हो रही है.

अमेरिकी कंपनी टेस्‍ला के संस्‍थापक एलन मस्‍क (Elon Musk) की संपत्ति में इस साल 139 अरब डॉलर से ज्‍यादा का इजाफा हुआ है. वहीं, टेस्ला के शेयर में 731 फीसदी की बढ़ोतरी (Tesla Share Return) हुई है. कंपनी का शेयर पिछले सप्‍ताह के आखिरी कारोबारी दिन 695 डॉलर के रिकॉर्ड स्तर (Tesla Stock Price) पर बंद हुआ. आज ये कंपनी वॉल स्‍ट्रीट (Wall Street) के एसएंडपी 500 (S&P 500) में शामिल हो रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 21, 2020, 8:41 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. अमेरिका की इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला (Tesla) के संस्थापक एलन मस्क (Elon Musk) की संपत्ति पिछले सप्‍ताह नए स्तर पर पहुंच गई थी. वहीं, उनकी कंपनी का शेयर साल 2020 में 700 फीसदी से ज्‍यादा उछाल दर्ज कर चुका है. अब टेस्‍ला आज यानी 21 दिसंबर 2020 से वॉल स्ट्रीट (Wall Street) के बेंचमार्क एसएंडपी 500 (S&P 500) में शामिल हो रही है. एसएंडपी में कदम रखने वाली टेस्ला अब तक की सबसे मूल्यवान कंपनी है. ब्लूमबर्ग बिलियनियर्स इंडेक्स के मुताबिक, टेस्ला के शेयर में आए उछाल से एलन मस्क की शुद्ध संपत्ति (Net Assets) 9 अरब डॉलर बढ़कर 167.3 अरब डॉलर हो गई है.

अमेजन के जेफ बेजोस ही हैं दुनिया के सबसे अमीर उद्यमी
एलन मस्‍क की संपत्ति में इस साल 139 अरब डॉलर से ज्‍यादा का इजाफा दर्ज किया गया है. वहीं, इस साल टेस्ला के शेयर में 731 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है. कंपनी का शेयर पिछले सप्‍ताह के आखिरी कारोबारी दिन रिकॉर्ड 695 डॉलर के स्तर पर बंद हुआ. इसके बाद भी अमेजन (Amazon) के फाउंडर जेफ बेजोस दुनिया के सबसे अमीर उद्यमी (Richest Person) के पायदान पर जमे हुए हैं. जेफ बेजोस 187.3 अरब डॉलर के साथ ब्लूमबर्ग बिलियनियर्स इंडेक्‍स में सबसे ऊपर काबिज हैं.

ये भी पढ़ें- रोजगार के हालात में सुधार! अक्‍टूबर 2020 में 56 फीसदी बढ़े नए EPFO सब्‍सक्राइबर
उत्‍पादन कम है, फिर भी दुनिया की सबसे मूल्‍यवान कंपनी


एसएंडपी 500 में शामिल होने के बाद टेस्‍ला के शेयरों (Tesla Shares) की खरीद-फरोख्‍त का नया दौर शुरू होने की उम्‍मीद की जा रही है. माना जा रहा है कि कंपनी के शेयरों में जबरदस्‍त उछाल दर्ज किया जाएगा. नवंबर 2020 में एडजस्‍टमेंट की घोषणा के बाद से कंपनी के शेयरों में 70 फीसदी का उछाल आ चुका है. टेस्ला दुनिया की सबसे वैल्यूएबल ऑटो कंपनी बन गई है, जबकि टोयोटा मोटर (Toyota Motor), फॉक्सवैगन (Volkswagen) और जनरल मोटर्स (GM) की तुलना में उसका उत्पादन कम है.

ये भी पढ़ें- Corona Impact: अप्रैल-नवंबर 2020 में 40 फीसदी कम हुआ Gold का आयात, चांदी में आई 65% गिरावट

वॉल स्‍ट्रीट में सबसे ज्‍यादा कारोबार करने वाला है शेयर
टेस्ला के शेयर में इस साल 731 फीसदी का उछाल आया है. इससे टेस्ला का शेयर वॉल स्ट्रीट में सबसे ज्यादा कारोबार करने वाला शेयर बन गया है. पिछले 12 महीनों से हर सत्र में औसतन कंपनी के 18 अरब डॉलर मूल्य के शेयरों का कारोबार हुआ है. इस लिहाज से टेस्‍ला ने टेक कंपनी एप्‍पल को एक पायदान खिसकाकर पहले नंबर पर कब्‍जा कर लिया है. एप्‍पल का औसत इंट्रा-डे ट्रेड 14 अरब डॉलर का है.

ये भी पढ़ें- सऊदी अरब ने Indian Economy को बताया मजबूत, कहा- सही राह पर हैं हमारी निवेश योजनाएं

टेस्‍ला के शेयरों में ऐसे पैसा लगा सकते हैं भारतीय निवेशक
भारतीय निवेशक दो तरीकों से टेस्‍ला के शेयरों में पूंजी लगा सकते हैं. इनमें पहला, सीधे विदेशी शेयर बाजार में निवेश कर सकते हैं. वहीं, दूसरा विकल्‍प म्यूचुअल फंडों के जरिये पैसा लगाना है. अमेरिकी बाजार में निवेश करने के लिए आपको सबसे पहले अमेरिकी नियामक सिक्योरिटी एक्सचेंज कमिशन (SEC) में रजिस्टर्ड किसी ब्रोकर के पास एक ट्रेडिंग अकाउंट खोलना होगा. ट्रेडिंग अकाउंट खोलने से पहले निवेशक को केवाईसी कराना होता है.

>> अमेरिका में निवेश करने के लिए डॉलर की जरूरत होगी. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की लिबरलाइज्ड रेमीटेंस स्कीम के जरिये भारतीय निवेशक अमेरिका में 2.5 लाख रुपये तक का निवेश कर सकते हैं.

>> अमेरिकी ट्रेडिंग अकाउंट में यह राशि जमा होने के बाद निवेशक अमेरिकी शेयर बाजार में निवेश कर सकता है. निवेशक अगर भारतीय बैंक अकाउंट में पैसे वापस लाना चाहे तो यह काम एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिये हो सकता है. हालांकि, भारतीय बैंक अकाउंट में पैसे वापस लाते समय डॉलर और रुपये की विनिमय दर का असर अंतिम राशि पर पड़ेगा.

>> जिस भी ब्रोकर के पास आपने ट्रेडिंग अकाउंट खोला है, वह अमेरिकी बाजार नियामक एसईसी से रजिस्टर्ड होना चाहिए.

>> अमेरिकी संस्था सिक्योरिटीज इंवेस्टर प्रोटेक्शन कॉरपोरेशन (SIBC) हर ट्रेडिंग अकाउंट को पांच लाख डॉलर तक इंश्योर करती है. निवेशक को यह चेक कर लेना चाहिए कि जिस ब्रोकर के पास उसने ट्रेडिंग खोला है, वह ब्रोकर एसआईबीसी का सदस्य है या नहीं. यह आप एसआईबीसी के वेबसाइट पर चेक कर सकते हैं.

>> वेस्टड सुरक्षित मोबाइल और वेब एप्लीकेशन के जरिये भारतीय निवेशकों को केवाईसी करने तथा पैसे जमा कर अमेरिकी शेयर बाजार में निवेश करने में मदद करती है. वेस्टेड की वेबसाइट के मुताबिक, वह अमेरिकी बाजार नियामक सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज कमिशन में रजिस्टर्ड है. ऐसे में आपका इसका भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज