Covid-19 Vaccination: अपोलो अस्पताल में कल से 18 साल से अधिक उम्र के लोगों को लगेगी वैक्सीन, जानिए डिटेल्स

कोविड-19 वैक्सीनेशन (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कोविड-19 वैक्सीनेशन (प्रतीकात्मक तस्वीर)

देश में 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों के लिए कोरोना टीकाकरण का अभियान 1 मई से प्रारंभ हो रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2021, 9:17 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. अपोलो अस्पताल (Apollo Hospitals) की ओर से एक मई से 18-45 साल के आयु वर्ग के लोगों को कोविड-19 वैक्सीनेशन (Covid-19 Vaccination) लगाने का काम शुरू करेगा. इसके लिए कोविशील्ड (Covi shield) वैक्सीन का इस्तेमाल किया जाएगा. समूह ने एक बयान में कहा कि देश के नागरिकों के कोविड-19 वैक्सीनेशन की अहमियत को देखते हुए और कोविड संक्रमण के खतरे कम करने के लिए अपोलो अस्पताल ने सरकार के दिशानिर्देशों का ध्यान में रखते हुए कोविड वैक्सीन खरीदी है.



देश में 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों के लिए कोरोना टीकाकरण का अभियान 1 मई से प्रारंभ हो रहा है. मालूम हो कोरोना वैक्सीनेशन से जुड़ी पाबंदियां हटाते हुए केंद्र सरकार ने 1 मई से 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी व्यक्तियों के टीकाकरण की इजाजत दे दी है. 



अपोलो हॉस्पिटल्स ग्रुप्स की एक्जिक्यूटिव वाइस चेयरपर्सन शोभना कामीनी ने कहा कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर एक सुनामी की तरह है जो बड़े पैमाने पर लोगों को अपने चपेट में ले रही है. वैक्सीनेशन प्रोग्राम के लिए निजी अस्पतालों को निर्माताओं से सीधे वैक्सीन खरीदने की अनुमति देने का सरकार का फैसला कोविड 19 खतरे का मुकाबला करने के लिए एक बहुत आवश्यक कदम है जो वैक्सीनेशन कार्यक्रम को तेजी से ट्रैक पर डाल देगा क्योंकि हम अपनी बड़ी आबादी के वैक्सीनेशन के लिए आगे बढ़ रहे है. संक्रमण की दूसरी लहर ने छोटे रोगियों को भी प्रभावित किया है और 18 वर्ष की आयु से ऊपर के सभी लोगों का वैक्सीनेशन लगातार बढ़ रहे मामले को रोकने और कोविड मुक्त भविष्य को वास्तविकता में करीब लाने में मदद करेगा.    



16 जनवरी से शुरू हुआ था वैक्सीनेशन ड्राइव 


कोरोना वैक्सीनेशन से जुड़ी पाबंदियां हटाते हुए केंद्र सरकार ने 1 मई से 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी व्यक्तियों के टीकाकरण की इजाजत दे ती है. हालांकि दिल्ली, एमपी, छत्तीसगढ़ समेत एक दर्जन से ज्यादा राज्य शिकायत कर चुके हैं कि उनके पास वैक्सीन ही नहीं हैं कि इस आयु वर्ग के लोगों को टीका लगाया जा सके. देश में कोरोना टीकाकरण का अभियान 16 जनवरी से शुरू हुआ था. शुरुआती दौर में हेल्थकेयर वर्कर और फ्रंट लाइन वर्करों को टीका लगाने का अभियान चला था. बाद में 60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों और 45 साल से अधिक उम्र के बीमार लोगों के लिए टीका लगना शुरू हुआ था. आखिरी में सरकार ने 45 साल से ज्यादा आयु के सभी लोगों के लिए टीकाकरण प्रारंभ किया था. हालांकि राज्य लगातार मांग कर रहे थे कि वैक्सीनेशन में आयु से लगी पाबंदियां हटाई जाएं और सभी वयस्कों को टीका लगाया जाए. 



ये भी पढ़ें - Company Result : रिलायंस के नेट प्रॉफिट में 34.8% का उछाल, 7 रुपए प्रति शेयर डिविडेंड घोषित







कम हुई है वैक्सीन की कीमतें 



राज्य सरकारों ने भी यह मांग की है कि उन्हें भी केंद्र सरकार की तरह ही कम कीमत पर कोरोना वैक्सीन मुहैया कराई जाए. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने अपनी कोविशील्ड वैक्सीन की कीमत राज्यों के लिए 400 से घटाकर 300 रुपये कर दी है. जबकि भारत बायोटेक ने अपनी वैक्सीन कोवैक्सिन की कीमत राज्यों के लिए 600 से घटाकर 400 रुपये कर दी है. 


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज