होम /न्यूज /व्यवसाय /विदेशी निवेशकों की साल 2009 के बाद भारतीय बाजारों में सबसे बड़ी बिकवाली, लगातार पांचवें महीने पैसे निकाले

विदेशी निवेशकों की साल 2009 के बाद भारतीय बाजारों में सबसे बड़ी बिकवाली, लगातार पांचवें महीने पैसे निकाले

 पिछले एक साल में एफपीआई ने भारतीय शेयरों से करीब आठ अरब डॉलर निकाले हैं. यह 2009 के बाद सबसे ऊंचा आंकड़ा है.

पिछले एक साल में एफपीआई ने भारतीय शेयरों से करीब आठ अरब डॉलर निकाले हैं. यह 2009 के बाद सबसे ऊंचा आंकड़ा है.

डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, एक से 18 फरवरी के दौरान एफपीआई ने शेयरों से 15,342 करोड़ रुपये और ऋण या बांड बाजार से 3 ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली . विदेशी निवेशकों भारतीय बाजारों में बिकवाली के नाम पर रूकने का नाम ही नहीं ले रहे हैं. लगातार पांचवे महीने एफपीआई बिकवाल बने हुए हैं. विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने फरवरी माह में अबतक भारतीय बाजारों से 18,856 करोड़ रुपये निकाले हैं. भू-राजनीतिक तनाव और अमेरिकी केंद्रीय बैंक द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी की संभावना के बीच एफपीआई की निकासी बढ़ी है.

डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार, एक से 18 फरवरी के दौरान एफपीआई ने शेयरों से 15,342 करोड़ रुपये और ऋण या बांड बाजार से 3,629 करोड़ रुपये की निकासी की है. इस दौरान उन्होंने हाइब्रिड माध्यमों में 115 करोड़ रुपये का निवेश किया है.

फरवरी में शुद्ध निकासी 18,856 करोड़ रुपये
इस तरह उनकी शुद्ध निकासी 18,856 करोड़ रुपये रही है. यह लगातार पांचवां महीना है जबकि विदेशी कोषों ने भारतीय बाजारों से निकासी की है.

यह भी पढ़ें- ऑनलाइन पीएफ ट्रांसफर के लिए क्या करना होगा, जानिए कैसे करते हैं अप्लाई

मॉर्निंगस्टार इंडिया के एसोसिएट निदेशक-प्रबंधक शोध हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘भू-राजनीतिक तनाव और फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी की संभावना के बीच एफपीआई हाल के समय में भारतीय शेयरों से निकासी कर रहे हैं. अमेरिकी केंद्रीय बैंक द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी का संकेत दिए जाने के बाद उनकी बिकवाली भी तेज हुई है.’’

करीब आठ अरब डॉलर निकाले
कोटक सिक्योरिटीज के इक्विटी शोध (खुदरा) प्रमुख श्रीकांत चौहान ने कहा कि अमेरिका और रूस के बीच यूक्रेन को लेकर तनाव बढ़ने से निवेशकों का रुख बांड और सोने जैसे सुरक्षित निवेश विकल्पों की तरफ हो गया है. उन्होंने बताया कि पिछले एक साल में एफपीआई ने भारतीय शेयरों से करीब आठ अरब डॉलर निकाले हैं. यह 2009 के बाद सबसे ऊंचा आंकड़ा है.

मार्केट कैप 
सेंसेक्स की शीर्ष 10 में से पांच कंपनियों के  मार्केट कैप में बीते सप्ताह 85,712.56 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई. सबसे अधिक लाभ में टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) रही. समीक्षाधीन सप्ताह में टीसीएस का बाजार पूंजीकरण 36,694.59 करोड़ रुपये बढ़कर 14,03,716.02 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. रिलायंस इंडस्ट्रीज का बाजार मूल्यांकन 32,014.47 करोड़ रुपये के उछाल के साथ 16,39,872.16 करोड़ रुपये रहा.

एचडीएफसी ने सप्ताह के दौरान 2,703.68 करोड़ रुपये जोड़े और उसका बाजार पूंजीकरण 4,42,162.93 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. बजाज फाइनेंस का बाजार मूल्यांकन 1,518.04 करोड़ रुपये के उछाल के साथ 4,24,456.6 करोड़ रुपये रहा.

Tags: FPI, Market, Share market, Stock Markets

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें