कोरोना संकट के बीच देश ने बना डाला नया रिकॉर्ड, अक्‍टूबर में हुए 200 करोड़ के UPI Transactions

यूपीआई ट्रांजैक्‍शंस के मामले में देश ने नयसा रिकॉर्ड बना डाला है.
यूपीआई ट्रांजैक्‍शंस के मामले में देश ने नयसा रिकॉर्ड बना डाला है.

नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, अक्‍टूबर 2020 के दौरान देश में 207.16 करोड़ रुपये का डिजिटल ट्रांजैक्‍शन (Digital Transaction) हुआ. एनपीसीआई के मुताबिक, पिछले साल अक्‍टूबर में यूपीआई ट्रांजैक्‍शंस (UPI Transactions) ने 100 करोड़ रुपये का आंकड़ा छुआ था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2020, 3:19 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. कोरोना संकट के बीच लोगों ने घर बैठे-बैठे नया रिकॉर्ड बना डाला है. दरअसल, अक्‍टूबर 2020 के दौरान देशभर में यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस आधारित लेनदेन (UPI Transactions) के मामले में देश ने एक महीने में 200 करोड़ रुपये के आंकड़े को पार कर लिया है. नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, अब तक कुल 3.3 लाख करोड़ रुपये के यूपीआई ट्रांजैक्‍शन हो चुके हैं. बता दें कि यूपीआई प्‍लेटफॉर्म से 189 बैंक जुड़े हुए हैं. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, इस प्‍लेटफॉर्म के जरिये सितंबर 2020 के अंत तक 3.29 लाख करोड़ रुपये मूल्‍य के कुल 180 करोड़ लेनदेन हो चुके हैं.

हर महीने बढ़ रही पेंमेंट्स ऐप इस्‍तेमाल करने वालों की संख्‍या
एनपीसीआई के मुताबिक, अक्‍टूबर 2020 के दौरान देश में 207.16 करोड़ रुपये मूल्‍य के यूपीआई ट्रांजैक्‍शन हुए. पिछले कुछ साल में भीम यूपीआई ने व्‍यक्ति से व्‍यक्ति और व्‍यक्ति से कारोबारी के बीच पैसों के लेनदेन का तरीका बदल दिया है. एनपीसीआई ने कहा कि इसकी सफलता के पीछे सबसे बड़ा कारण सुरक्षित लेनदेन रहा है. पिछले साल अक्‍टूबर में यूपीआई ट्रांजैक्‍शन के जरिये रिकॉर्ड 114.83 करोड़ रुपये का लेनदेन हुआ था. हर महीने स्‍मार्टफोन आधारित डिजिटल पेमेंट्स प्‍लेटफॉर्म का इस्‍तेमाल करने वालों की संख्‍या बढ़ती जा रही है. बता दें कि यूपीआई को 2017 में लॉन्‍च किया गया था.

ये भी पढ़ें- ट्रेन पैसेंजर्स को तगड़ा झटका! प्‍लेटफॉर्म टिकट की कीमत दोगुनी करेगा रेलवे, चुनिंदा स्‍टेशनों पर वसूलेगा यूजर चार्ज
महज 6 महीने में दोगुने मूल्‍य के हुए यूपीआई ट्रांजैक्‍शन


नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ने बताया कि अप्रैल-मई में यूपीआई यूजर्स की संख्‍या में मामूली वृद्धि हुई, लेकिन इसके बाद जून से काफी तेजी से यूजर्स की संख्‍या और ट्रांजैक्‍शन की तादाद में बढ़ोतरी हुई. इससे महज 6 महीने के भीतर यूपीआई ट्रांजेक्‍शंस के जरिये दोगुनी राशि का लेनदेन हुआ. लॉकडाउन के दौरान अप्रैल 2020 में 99.95 लाख रुपये के यूपीआइ्र ट्रांजैक्‍शंस हुए. इसके बाद अक्‍टूबर में यूपीआई ट्रांजैक्‍शंस के जरिये 207 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का लेनदेन हुआ.

ये भी पढ़ें- अब इस बैंक ने ग्राहकों को दिया फेस्टिवल गिफ्ट! सस्‍ती दरों पर मिलेगा लोन, घटाईं ब्याज दरें

NPIC कई तरह के पेमेंट प्रोडक्‍ट्स करता है उपलब्‍ध
एनपीसीआई की शुरुआत 2008 में हुई थी. ये रिटेल पेमेंट्स और देश में सेटलमेंट सिस्‍टम्‍स की मुख्‍य संस्‍था है. एनपीसीआई के तहत कई तरह के रिटेल पेमेंट प्रोडक्‍ट्स हैं. इनमें रूपे कार्ड (RuPay Card), तत्‍काल भुगतान सेवा (IMPS), यूपीआई, भारत इंटरफेस फॉर मनी (BHIM), भीम आधार (BHIM Aadhaar), नेशनल इलेक्‍ट्रॉनिक टोल कलेक्‍शन (NETC Fastag) और भारत बिल पे (Bharat BillPay) शामिल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज