Home /News /business /

the government has amended the rules related to income tax know new rule rrmb

Income Tax से जुड़े नियमों में सरकार ने कर दिया संशोधन, बहुत जरूरी है आपके लिए इन बदलावों को जानना

सरकार ने लोकसभा में बजट 2022 (Budget 2022) के कुछ संसोधन में पेश किए.

सरकार ने लोकसभा में बजट 2022 (Budget 2022) के कुछ संसोधन में पेश किए.

सरकार ने लोकसभा में बजट 2022 (Budget 2022) के कुछ प्रपोजल्‍स में संशोधन किए हैं. मुख्‍यत: ये संशोधन इनकम टैक्‍स से संबंधित है. क्रिप्‍टोकरेंसी को लेकर भी सरकार ने स्‍पष्‍ट किया है कि एक क्रिप्‍टो में हुए लाभ या हानि को दूसरी क्रिप्‍टो के लाभ-हानि से सेटऑफ नहीं किया जा सकता.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. सरकार ने लोकसभा में बजट 2022 (Budget 2022) के कुछ संशोधन पेश किए हैं. इनकम टैक्‍स से जुड़े इन संशोधनों के बाद अब आयकरदाता (Income Tax Payer) लॉस रिटर्न (Loss Return) को भी अपडेट कर सकेंगे. वहीं, आयकर विभाग (Income tax department) को असेसमेंट वर्ष 2020-21 के लिए असेसमेंट पूरा करने के लिए अतिरिक्‍त समय भी मिल गया है. पहले असेसमेंट 31 मार्च 2022 तक पूरा किया जाना था, जिसकी समय सीमा अब 30 सितंबर 2022 कर दी गई है.

बजट एक फरवरी 2022 को पेश किया गया था. आम जनता और विशेषज्ञों से मिली प्रतिक्रियाओं के बाद आमतौर पर सरकार बजट प्रपोजल्‍स में संशोधन करती है और इन्‍हें लोकसभा में पेश किया जाता है. विशेषज्ञों का कहना है गुरुवार को पेश किए बजट संशोधन, इनकम टैक्‍स से संबंधित होने के कारण आम जनता के लिए काफी महत्‍वपूर्ण है.

लॉस रिटर्न को अपडेट किया जा सकेगा

अपडेटेड रिटर्न का प्रावधान बजट 2022 (Budget 2022) में पेश किया गया था. यह उन आयकरदाताओं के लिए है जो कुछ आय की घोषणा करने से चूक गए हैं. एक असेसमेंट वर्ष (Assessment Year) के अंत के 2 वर्षों के भीतर एक अपडेटेड रिटर्न (Updated Return) दाखिल किया जा सकता है. उदाहरण के लिए, यदि आप वित्त वर्ष 2021-22 के लिए कुछ आय की घोषणा करने से चूक जाते हैं, तो यह असेसमेंट वर्ष 2022-23 में तब्दील हो जाता है. नए प्रावधानों के अनुसार आप वित्त वर्ष 2024-25 तक अपडेटेड रिटर्न दाखिल कर सकते हैं.

लोकसभा में गुरुवार को पेश किए गए संशोधन के बाद अब इस सुविधा को लॉस रिटर्न के लिए भी शुरू कर दिया गया है. एक लॉस रिटर्न वह है जहां नेट लॉस घोषित किया जाता है और कोई कर देय नहीं होता है. अपडेटेड रिटर्न वह रिटर्न है जो आप किसी असेसमेंट वर्ष के दो साल के भीतर दायर किया जाता है. अपडेटेड रिटर्न में आप उस इनकम को शामिल करते हैं जिन्‍हें आप पहले आईटीआर में शामिल करना भूल गए थे और इस पर आपको टैक्‍स और पेनल्‍टी, दोनों देनी होती है. बेंगलुरु के चार्टर्ड अकाउंटेंट प्रकाश हेगड़े ने लाइव मिंट को बताया कि संशोधित वित्त विधेयक उन व्यक्तियों को अनुमति अपडेटेड रिटर्न दाखिल करने की इजाजत देता है जिन्‍होंने लॉस रिटर्न दाखिल किया था.

ये भी पढ़ें :  Multibagger stock : अडाणी ग्रुप के इस शेयर ने भरी निवेशकों की झोली, 1 लाख के शेयर अब दे रहे 87 लाख रुपये

असेसमेंट की समयावधि बढ़ाई

सरकार आयकर विभाग को असेसमेंट पूरा करने के लिए दी गई समय सीमा को धीरे-धीरे कम कर रही है. एसेसमेंट वर्ष 2020-21 के लिए असेसमेंट आकलन वर्ष की समाप्ति के 1 वर्ष के भीतर पूरा किया जाना था. यह अवधि 31 मार्च 2022 को पूरी हो रही है. असेसमेंट वर्ष 2021-22 से, इस समय सीमा को और कम करके 9 महीने कर दिया गया था. हालांकि, गुरुवार को लोकसभा में पेश किए गए संशोधनों में, असेसमेंट वर्ष 2020-21 के लिए मूल्यांकन कार्रवाई को पूरा करने की समय सीमा बढ़ा दी गई है. असेसमेंट वर्ष 2020-21 (वित्त वर्ष 2019-20) के लिए असेसमेंट 31 मार्च 2022 तक पूरा किया जाना था जिसकी समय सीमा अब  30 सितंबर 2022 कर दी गई है.

ये भी पढ़ें :  Zerodha वाले नितिन कामत बोले- शेयरों से की है कमाई तो 31 मार्च से पहले जरूर कर लें ये काम

क्रिप्‍टो लॉस को क्रिप्‍टो गेन में समायोजित नहीं किया जा सकता

वित्‍त विधेयक के संशोधन पेश करते समय सरकार ने स्‍पष्‍ट किया कि एक क्रिप्‍टोकरेंसी में हुई हानि को दूसरी क्रिप्‍टो में हुए लाभ से सेट ऑफ (Set Off) नहीं किया जा सकता. उदाहरण के लिए अगर आपको बिटकॉइन से 100 रुपये का लाभ होता है इथेरियम में 70 रुपये की हानि होती है तो आपको 100 रुपये के लाभ पर ही टैक्‍स देना होगा न कि आपको अपने 30 रुपये के शुद्ध लाभ पर. टैक्‍स की यह दर सरचार्ज और सेस को छोड़कर 30 फीसदी है. यही नहीं आप क्रिप्‍टोकरेंसी में हुए लाभ और हानि को शेयर, म्‍यूचुअल फंड और रियल एस्‍टेट जैसी अन्‍य एसेस्‍ट से हुए लाभ या हानि में भी समायोजित नहीं कर पाओगे.

Tags: Cryptocurrency, Income tax, ITR filing

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर