Home /News /business /

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 1,50,863 करोड रुपये टैक्स रिफंड किया, यदि आपको रिफंड नहीं मिला! तो ये करें

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 1,50,863 करोड रुपये टैक्स रिफंड किया, यदि आपको रिफंड नहीं मिला! तो ये करें

1 लाख 50 हजार 863 करोड़ रुपये का टैक्स रिफंड किया  गया.

1 लाख 50 हजार 863 करोड़ रुपये का टैक्स रिफंड किया गया.

1 अप्रैल 2020 से 20 दिसंबर 2020 के बीच 47 हजार 608 करोड़ रुपये का इनकम टैक्स (Income Tax) रिफंड किए गया है. वहीं इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के अनुसार कॉरपोरेट टैक्स (Corporate tax) के तौर पर देशभर में 1 लाख 3 हजार 255 करोड़ रुपये 201,796 केस में वापस किया गया है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 20 दिसंबर 2020 तक देशभर में 1 लाख 50 हजार 863 करोड़ रुपये का टैक्स रिफंड किया है. एक ट्विट के जरिए जानकारी देते हुए इनकम टैक्स ने बताया कि देशभर में 11.8 मिलियन टैक्सपेयर को 1 अप्रैल 2020 से 20 दिसंबर 2020 के बीच 47 हजार 608 करोड़ रुपये का इनकम टैक्स रिफंड किए गया है. वहीं इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के अनुसार कॉरपोरेट टैक्स के तौर पर देशभर में 1 लाख 3 हजार 255 करोड़ रुपये 201,796 केस में वापस किया गया है. 

    टैक्स रिफंड के मामलों के तेजी से निस्तारण पर चार्टर्ड एकाउंटेंट तरुण कुमार ने कहा कि, आयकर विभाग ने हाल ही में  CPC 2.0 तकनीक के जरिए टैक्स के रिफंड में तेजी लाई है. उनके अनुसार कई मामलों में तो देखने में मिला है कि आईटीआर फाइल करने के 7 दिन के भीतर ही टैक्स रिफंड टैक्सपेयर के अकाउंट में जुड़ गया. वहीं कई मामलों में कागजी कार्रवाई पूरी न होने की वजह से देरी भी हुई है.

     ITडिपार्टमेंट ने बीते महीने किया अपना सिस्टम अपग्रेड- आयकर विभाग ने बीते महीने एक ट्विट करके जानकरी दी थी कि, फिलहाल तकनीकी कारणों की वजह से टैक्स रिफंड के मामलों में देरी हो रही है. वहीं चार्टर्ड एकाउंटेंट तरुण कुमार का कहना है कि, इस दौरान आयकर विभाग अपने सिस्टम को अपग्रेड कर रहा था. जिसके चलते अब तेजी से टैक्स रिफंट के मामलों को निपटारा जा रहा है. 

    यह भी पढ़ें: पीएम किसान सम्मान निधि का करोड़ों किसानों को मिला फायदा, आपके खाते में नहीं आए पैसे तो इस नंबर पर करें शिकायत

    झटपट रिफंड स्कीम से टैक्स रिफंड हो रहा है जल्दी वापस- जल्दी रिफंड आने पर टैक्स व अकाउंटिंग फर्म टैक्स मैन के डिप्टी जनरल मैनेजर नवीन वाधवा ने कहा कि, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की झटपट रिफंड स्कीम की वजह से आईटीआर 1 और आईटीआर 4 के मामले में रिर्टन दाखिल करने के करीब एक सप्ताह में रिफंड वापस आ रहा है. उनके अनुसार यदि आपने कई महीने पहले टैक्स रिटर्न दाखिल किया है और अभी तक आपका रिफंड वापस नहीं आया है तो आप इसकी जांच करें.

    20 से 25 दिन में टैक्स हो जाता है रिफंड- टैक्स रिटर्न फाइलिंग सेवा प्रदाता करने वाली कंपनी  होस्टबुक लिमिटेड के संस्थापक कपिल राणा के अनुसार टैक्स रिटर्न फाइल करने के 20 से 25 दिन में टैक्स रिफंड आपके अकाउंट में आ जाता है. यदि अभी तक आपके अकाउंट में अभी तक रिफंड वापस नहीं आया है तो आप अपना मेल चेक कर सकते है. जिसमें हो सकता है कि आयकर विभाग ने आपके रिफंड को रोकने की वजह बताई हो. इसके साथ ही आप अपना अकाउंट नंबर भी एक बार चेक जरूर कर लें.

    यह भी पढ़ें: नेशनल पेंशन स्कीम में इस साल मिला डबल डिजिट रिटर्न, क्या आप भी कर सकते हैं मोटी कमाई?

     टैक्स रिफंड का स्टेटस ऐसे चेक करें- यदि सभी कुछ सही होने के बाद भी आपका टैक्स रिफंड वापस नहीं आया है. तो आप इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के ई-फाइलिंग पोर्टल और नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी लिमिटेड (NSDL) की वेबसाइट पर जाकर अपने रिफंड का स्टेटस चेक कर सकते हैं.

     आप 'पंजीकृत उपयोगकर्ता' अनुभाग के तहत अपने उपयोगकर्ता आईडी और पासवर्ड के रूप में अपने स्थायी खाता संख्या (पैन) का उपयोग करके ई-फाइलिंग पोर्टल (www.incometaxindiaefiling.gov.in) पर अपने खाते में लॉग इन कर सकते हैं. एक बार लॉग इन करने के बाद. 'ई-फाइल किए गए रिटर्न / फॉर्म' अनुभाग देखें. आयकर रिटर्न और संबंधित मूल्यांकन वर्ष का चयन करें. एक नया पेज 'माई रिटर्न' खुलेगा और आपके दाखिल रिटर्न की स्थिति दिखाएगा जैसे कि आईटीआर दायर, सत्यापित, आईटीआर प्रसंस्करण, धनवापसी की स्थिति या धन वापसी की स्थिति. 'स्थिति' मेनू के तहत, आप भुगतान का तरीका देख सकते हैं. इसके साथ ही आप NSDL की वेबसाइट (https://tin.tin.nsdl.com/oltas/refundstatuslogin.html) पर धन वापसी स्थिति की जांच कर सकते हैं. अपना पैन दर्ज करें और संबंधित विवरण प्राप्त करने के लिए संबंधित मूल्यांकन वर्ष का चयन करें.

    Tags: Business news, Income tax, Taxpayer

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर