5000 करोड़ से ज्यादा मुनाफा कमाने वाली ये हैं भारत की कंपनियां, मुनाफा जानकार रह जाएंगे हैरान

5446 करोड़ की शुद्ध बिक्री पर सीरम ने 2251 करोड़ का शुद्ध लाभ कमाया

5446 करोड़ की शुद्ध बिक्री पर सीरम ने 2251 करोड़ का शुद्ध लाभ कमाया

करीब 5446 करोड़ की शुद्ध बिक्री पर सीरम ने 2251 करोड़ का शुद्ध लाभ कमाया या कहें 41.3 प्रतिशत का नेट मार्जिन. दिलचस्प बात यह है कि इस मेट्रिक में नीचे के पायदान पर जो रहे वो या तो फाइनेंस बिजनेस या एकाधिकार संचालन वाली फर्म हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. कॉर्पोरेट डाटाबेस कैपिटलाइन (corporate database Capitoline) के अनुसार साल 2019-20 में ऐसी 418 भारतीय कंपनियां थी जिनका रेवेन्यू 5000 करोड़ से भी ऊपर का था. इनमें सबसे ज्यादा जिसने नेट प्रॉफिट कमाया वो सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) थी जिसे भारत में चल रही कोरोना वायरस (Corona virus) महामारी से रिकवरी के लिए वैक्सीन बनाने का काम इस पेडेंमिक (Pandemic) में सौंपा गया है. लाइव मिंट में दी गई रिपोर्ट के अनुसार, 5446 करोड़ की शुद्ध बिक्री पर सीरम ने 2251 करोड़ का शुद्ध लाभ कमाया या कहें 41.3 प्रतिशत का नेट मार्जिन. दिलचस्प बात यह है कि इस मेट्रिक में नीचे के पायदान पर जो रहे वो या तो फाइनेंस बिजनेस से जुड़े (जैसे सिटीबैंक, मुथूट फाइनेंस) थे या फिर एकाधिकार संचालन वाले फर्म (जैसे हिंदुस्तान जिंक एंड न्यूक्यिलर पावर कॉर्पोरेशन) है. जबकि 5000 करोड़ की इस सूची में 18 फॉर्मा कंपनीज है. जिसमें दूसरा नंबर मैकलेओड्स फार्मास्टूटिकल्स (Macleods Pharmaceuticals)का था. जिसका शुद्ध मार्जिंग 28 फीसदी था. 


दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन मैन्यूफैक्चरिंग कंपनी बन गई

सीरम कंपनी का हाई मार्जिंन इसलिए भी प्रासंगिक है क्योंकि कंपनी भारत में कोविड 19 वैक्सीन को तैयार कर रही है जिसकी इस समय भारत में सबसे ज्यादा जरूरत है. जिसके चलते यह दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन मैन्यूफैक्चरिंग कंपनी हो गई. अप्रैल 2020 के पहले यह कंपनी ऑक्सफोर्ड एस्ट्राजेने का कोविड 19 वैक्सीन में पार्टनर था जो कोविशील्ड (Covishield) बन गया. 


ये भी पढ़ें - कोरोना संकट से निपटने के लिए Twitter ने बढ़ाया हाथ, 1.5 करोड़ डॉलर किए डोनेट



रियल एस्टेट, फाइनेंस और एविएशन में रूचि रखता है पूनावाला समूह

पूनावाला समूह जिसके स्वामित्व में सीरम है की हॉर्स ब्रीडिंग, रियल एस्टेट, फाइनेंस और एविएशन में रूचि है. 2008-09 और 2015-16 के बीच, सीरम का राजस्व 23प्रतिशत की औसत से बढ़कर वार्षिक दर से बढ़कर 4630 करोड़ और शुद्ध लाभ 28 प्रतिशत बढ़कर 12,191 करोड़ हो गया.  लेकिन वर्ष 2015-16 और 2019-20 के बीच राजस्व वृद्धि 4 प्रतिशत तक गिर गई और शुद्ध लाभ फ्लैट बना रहा, हालांकि लाभ मार्जिन अभी भी उच्च बना हुआ है.




ये भी पढ़ें- HDFC Bank ग्राहकों के लिए अच्‍छी खबर! अब देश के हर गांव और कस्‍बे में मिलेंगी बैंकिंग सेवाएं, जानें कैसे


850 मिलियन टीकाकरण के लिए 1.7 बिलियन खुराक की आवश्यकता

भारत में 18 वर्ष से अधिक उम्र के 850 मिलियन टीकाकरण के लिए 1.7 बिलियन खुराक की आवश्यकता होगी. एक निजी टीवी को दिए साक्षात्कार में अदर पूनावाला ने कहा था कि कंपनी को 3000 करोड़ की जरूरत है या तो सरकार से या बैंक से जिससे हर महीने 100 मिलियन कोविड 19 वैक्सीन तैयार की जा सके. 



अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज