होम /न्यूज /व्यवसाय /

भारत में स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या 2026 तक एक अरब होगी, जानिए वजह

भारत में स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या 2026 तक एक अरब होगी, जानिए वजह

 डेली मेल में छपी एक ख़बरके मुताबिक, टीनएजर्स और यंग लोगों पर किए गए एक सर्वे (Survey) में पाया गया है कि इन वर्गों के लिए प्यार पाने या इश्क करने से ज्यादा जरूरी इंटरनेट का भरोसेमंद कनेक्शन पाना है.

डेली मेल में छपी एक ख़बरके मुताबिक, टीनएजर्स और यंग लोगों पर किए गए एक सर्वे (Survey) में पाया गया है कि इन वर्गों के लिए प्यार पाने या इश्क करने से ज्यादा जरूरी इंटरनेट का भरोसेमंद कनेक्शन पाना है.

डेलॉयट के 2022 ग्लोबल टीएमटी (प्रौद्योगिकी, मीडिया और मनोरंजन, दूरसंचार) अनुमान के अनुसार, ‘‘घरेलू बाजार में 2026 तक स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या बढ़कर एक अरब पर पहुंचने का अनुमान है.’’ भारत में वर्ष 2021 तक मोबाइल फोन के 1.2 अरब उपयोगकर्ता थे. इसमें से 75 करोड़ स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली . भारत में वर्ष 2026 तक स्मार्टफोन के एक अरब उपयोगकर्ता होंगे. डेलॉयट की मंगलवार को जारी रिपोर्ट के अनुसार, ग्रामीण इलाकों में इंटरनेट सुविधा से लैस मोबाइल फोन की बिक्री में वृद्धि से स्मार्टफोन उपयोगकर्ताओं की संख्या बढ़ेगी.

भारत में वर्ष 2021 तक मोबाइल फोन के 1.2 अरब उपयोगकर्ता थे. इसमें से 75 करोड़ स्मार्टफोन का इस्तेमाल करते हैं. डेलॉयट के 2022 ग्लोबल टीएमटी (प्रौद्योगिकी, मीडिया और मनोरंजन, दूरसंचार) अनुमान के अनुसार, ‘‘घरेलू बाजार में 2026 तक स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या बढ़कर एक अरब पर पहुंचने का अनुमान है.’’

ग्रामीण क्षेत्रों में तेजी से बढ़ रहे स्मार्टफोन ग्राहक
डेलॉयट के अनुसार, वर्ष 2021 से 2026 के बीच ग्रामीण क्षेत्रों में सालाना आधार पर स्मार्टफोन ग्राहकों की संख्या छह प्रतिशत की दर से बढ़ेगी. वहीं शहरी क्षेत्रों में इसमें सालाना 2.5 प्रतिशत की वृद्धि होगी. डेलॉयट के विश्लेषण के अनुसार, भारत स्मार्टफोन की मांग सालाना आधार पर छह प्रतिशत बढ़कर 2026 में 40 करोड़ हो जाएगी, जो 2021 में 30 करोड़ थी.

यह भी पढ़ें- Crude Oil ने लगाया शतक, रूस-यूक्रेन संकट से कच्चे तेल का दाम 100 डॉलर पहुंचा, 7 साल का उच्चतम स्तर

‘जेनरेशन Z (Generation Z) वाले युवा
डेली मेल में छपी एक ख़बरके मुताबिक, टीनएजर्स और यंग लोगों पर किए गए एक सर्वे (Survey) में पाया गया है कि इन वर्गों के लिए प्यार पाने या इश्क करने से ज्यादा जरूरी इंटरनेट का भरोसेमंद कनेक्शन पाना है. इस सर्वे के मुताबिक 1997 और 2012 के बीच पैदा हुई पीढ़ी के लिए छुट्टी पर जाने, दोस्त बनाने और यहां तक ​​कि घर खरीदने से अधिक महत्वपूर्ण ऑनलाइन रहना है. इस पीढ़ी को ‘जेनरेशन Z (Generation Z) या ‘ज़ूमर्स (Zoomers) भी कहा जाता है.

ब्रिटिश मोबाइल नेटवर्क ऑपरेटर ईई (E.E) द्वारा 2022 के लिए प्राथमिकता को लेकर किए गए सर्वे में पाया गया कि 74 % जूमर्स (Zoomers) के लिए ‘कनेक्टिविटी’ का बहुत महत्व है, जबकि 77% के लिए कैरियर में प्रगति अधिक महत्वपूर्ण है. 70 % जूमर्स छुट्टी पर जाने को लेकर मिलने वाले मौके को बड़ी बात मानते हैं तो 69% इस उम्र के किशोर और युवा नए दोस्त बनाना पसंद करते हैं. स्मार्टफोन यूजर बढ़ने की यह एक प्रमुख वजह है.

क्या कहते हैं जानकार
सर्वेक्षण में शामिल समूह के केवल 51% युवाओं ने कहा कि साथी के साथ बसना उनकी सर्वोच्च प्राथमिकताओं में है, जबकि केवल 43 % युवा विवाह करना और 40 % बच्चा चाहते हैं. ‘जेनरेशन जेड की अन्य प्राथमिकताओं में 55% के लिए घर के लिए पैसा जमा करना और 52% के लिए विश्व कप देखना है.

Tags: Smartphone, Smartphone sale, मोबाइल, मोबाइल-टेक

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर