• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • कोरोना की दूसरी लहर का अर्थव्यवस्था पर ज्यादा समय तक नुकसान देखने को मिल सकता है: Moody’s

कोरोना की दूसरी लहर का अर्थव्यवस्था पर ज्यादा समय तक नुकसान देखने को मिल सकता है: Moody’s

 दूसरी लहर का अर्थव्यवस्था पर ज्यादा समय तक नुकसान देखने को मिल सकता है: मूडीज

दूसरी लहर का अर्थव्यवस्था पर ज्यादा समय तक नुकसान देखने को मिल सकता है: मूडीज

कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर को लेकर मूडीज ने अपनी ताजा रिपोर्ट जारी की है. रिपोर्ट के मुताबिक, दूसरी लहर का भारतीय अर्थव्यवस्था पर ज्यादा समय तक नुकसान देखने को मिल सकता है. इस नुकसान से इकोनॉमी को उबरने में एक बार फिर निर्यात बड़ा रोल निभाएगा.

  • Share this:
    कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर का भारतीय अर्थव्यवस्था पर ज्यादा समय तक नुकसान देखने को मिल सकता है. इस नुकसान से इकोनॉमी को उबरने में एक बार फिर निर्यात बड़ा रोल निभाएगा. मूडीज एनालिटिक्स ने अपनी एक ताजा रिपोर्ट में यह बात कही है.

    ‘एपीएसी आर्थिक परिदृश्य: डेल्टा बाधा’ शीर्षक से जारी रिपोर्ट में मूडीज एनालिटिक्स ने कहा कि Social distancing  का चालू तिमाही पर असर हो रहा है लेकिन साल के अंत तक economic recovery फिर से शुरू हो जाएगी.

    यह भी पढ़ें- Income Tax E-filing के नए Portal के लिए केंद्र सरकार ने इंफोसिस को 164.5 करोड़ रुपए दिए

    रिपोर्ट के अनुसार कोविड-19 का डेल्टा किस्म अब एशिया-प्रशांत (एपीएसी) क्षेत्र की अर्थव्यवस्थाओं पर प्रतिकूल प्रभाव डालने वाले कारकों में से एक है, लेकिन इस क्षेत्र में आवाजाही को लेकर प्रतिबंधों का जो असर है, वह पिछले साल की दूसरी तिमाही में आर्थिक नरमी जितनी गंभीर नहीं होगा.

    अर्थव्यवस्था में निर्यात की हिस्सेदारी कम 

    भारत में अर्थव्यवस्था में निर्यात की हिस्सेदारी अपेक्षाकृत कम है. जिंसों के ऊंचे दाम से निर्यात का मूल्य बढ़ा है. यह एक यह एक ऐसा कारक है जिसने कोविड-19 की पहली विनाशकारी लहर के बाद भारत को फिर से पटरी पर लाने में मदद की.

    यह भी पढ़ें- Deepfake क्या है? क्यों ये Fake news से कई सौ गुना ज्यादा खतरनाक है? लोकतंत्र के लिए भी हो सकता है खतरा



    रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘दूसरी लहर जब अब समाप्त होने की ओर बढ़ रहा है, उसका अर्थव्यवस्था पर ज्यादा समय तक नुकसान देखने को मिल सकता है. इसका कारण महामारी से छोटे कारोबारियों का बुरी तरह प्रभावित होना है. वहीं निर्यात पुनरूद्धार का एक बार फिर आधार होगा.’’

    टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाने के लिए जूझ रहा भारत

    वित्तीय जानकारी और विश्लेषण से जुड़ी मूडीज एनालिटिक्स ने टीकाकरण के संदर्भ में लिखा है कि भारत टीकाकररण अभियान को गति देने को लेकर जूझता दिख रहा है. उसने कहा कि वैश्विक आर्थिक पुनरूद्धार ठोस गति से जारी है, लेकिन एशिया के कुछ देशों में यह अल्प अवधि में प्रतिबिंबित होता नहीं दिखता. विशेष रूप से दक्षिण पूर्व एशिया में. इसका कारण कोविड-19 का डेल्टा संस्करण का पूरे क्षेत्र में फैलना और उसकी रोकथाम के लिये सामाजिक दूरी से जुड़ी पाबंदियां हैं.

    मूडीज एनालिटिक्स के अनुसार इस साल वैश्विक जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) वृद्धि दर 5 से 5.5 प्रतिशत रहेगी. यह 3 प्रतिशत की संभावित वृद्धि दर से ज्यादा है. इसका कारण पिछले साल की महामारी से जुड़ी नरमी के बाद से पुनरूद्धार बरकरार है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज