होम /न्यूज /व्यवसाय /शेयर मार्केट ने खूब रुलाया, 6 सत्र में निवेशकों के 12 लाख करोड़ रुपये हुए खाक

शेयर मार्केट ने खूब रुलाया, 6 सत्र में निवेशकों के 12 लाख करोड़ रुपये हुए खाक

शेयर बाजार में 12 लाख करोड़ की पूंजी स्वाहा.

शेयर बाजार में 12 लाख करोड़ की पूंजी स्वाहा.

पिछले 6 सत्रों में बीएसई पर लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप 28,134,219 करोड़ रुपये से घटकर 26,859,546 करोड़ रुपये पर पह ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

शेयर मार्केट में पिछले 6 सत्र में निवशकों के 12 लाख करोड़ रुपये से अधिक डूबे.
बीएसई का सेंसेक्स आज 509 अंकों की गिरावट के साथ 56600 के करीब बंद हुआ.
जानकारों के अनुसार, विदेशी निवेशक उभरती अर्थव्यवस्थाओं से पैसा निकाल रहे हैं.

नई दिल्ली. शेयर बाजार में बुधवार को भी बिकवाली का दौर जारी रहा. इस करोबारी हफ्ते के तीनों दिन शेयर मार्केट लाल निशान में ही रहा है. स्थिति पिछले हफ्ते भी कमोबेश ऐसी ही थी. शेयर मार्केट लगातार 6 सत्रों में नीचे गिरकर बंद हुआ. इस दौरान बाजार के निवेशकों की 12.74 लाख करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति स्वाहा हो गई.

बीएसई का सेंसेक्स आज 509.24 अंक (0.89 फीसदी) टूटकर 56598 के स्तर पर बंद हुआ. पिछले 6 सत्रों में बीएसई पर लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप 28,134,219 करोड़ रुपये से घटकर 26,859,546 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है. इस दौरान सेंसेक्स की कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 7,329,727 करोड़ रुपये से घटकर 7,011,820 करोड़ रुपये हो गया.

ये भी पढ़ें- क्या आप भी लगाते हैं Stock Market में पैसा? जानें टैक्स से जुड़े इन नियमों को

क्यों नहीं थम रही गिरावट?
जिओजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के हेड ऑफ रिसर्च विनोद नायर के अनुसार, निवेशक घरेलू बाजार की उच्च कीमतों को लेकर संशय में हैं. वहीं, विदेशी निवेशक सुरक्षित स्थान की खोज में उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं से पैसा निकाल रहे हैं. उनका कहना है कि भारतीय बाजार भले ही मजबूत फंडामेंटल्स के दम पर अभी और बाजारों से बेहतर चल रहे हैं लेकिन वैश्विक मंदी की चिंता ने निवेशकों की जोखिम लेने की शक्ति को कमजोर कर दिया है. घरेलू निवेशकों को रुझान फार्मा और आईटी शेयरों की तरफ बढ़ता दिख रहा है जो पिछले साल से ही खराब दौर का सामना कर रही हैं लेकिन अब रुपये में गिरावट के कारण उन्हें फायदा मिल रहा है.

महंगाई में आ सकती है कमी
विनोद नायर का कहना है कि आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की बैठक आज से शुरू हो गई है. इसमें रेपो रेट में एक बार फिर 30-35 बेसिस पॉइंट्स की वृद्धि की जा सकती है. हालांकि, उन्होंने कहा कि कमोडिटी की गिरती कीमतों के कारण संभव है कि महंगाई थोड़ी कम हो जाए. बता दें कि अगस्त में खुदरा महंगाई दर बढ़कर 7 फीसदी पर पहुंच गई थी. यह 8वां महीना था जब खुदरा महंगाई आरबीआई के संतोषजनक दायरे से बाहर रही थी.

रुपये में बड़ी गिरावट
रुपया भी शेयर बाजार का ही अनुसरण कर रहा है. बुधवार को रुपया 40 पैसे की गिरावट के साथ डॉलर के मुकाबले अब तक के अपने सबसे निचले स्तर 81.93 पर पहुंचकर बंद हुआ. बता दें कि रुपये की वैल्यू घटने से आयात महंगा होता है और आयतित वस्तुओं व सेवाओं के दाम बढ़ने लगते हैं.

Tags: BSE Sensex, Business news in hindi, Nifty, Share market, Stock market

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें