होम /न्यूज /व्यवसाय /

आईपीओ से कमाई के लिए मौकों की होगी बरसात, सेबी ने अप्रैल-जून में 28 आईपीओ के लॉन्च को अनुमति दी

आईपीओ से कमाई के लिए मौकों की होगी बरसात, सेबी ने अप्रैल-जून में 28 आईपीओ के लॉन्च को अनुमति दी

सेबी ने अप्रैल-जून में 28 आईपीओ के लॉन्च को दी मंजूरी.

सेबी ने अप्रैल-जून में 28 आईपीओ के लॉन्च को दी मंजूरी.

शेयर बाजार नियामक सेबी ने अप्रैल-जून में कुल 28 आईपीओ आवेदनों को लॉन्च के लिए अनुमित दी है. इस वित्त वर्ष में अब तक 11 आईपीओ आए हैं जिनमें भारत का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ (एलआईसी) भी शामिल था.

हाइलाइट्स

सेबी ने अप्रैल-जून में 28 कंपनियों के आईपीओ को मंजूरी दी है.
यह आईपीओ के लॉन्च की कोई तिथि फिलहाल तय नहीं है.
चालू वित्त वर्ष में 11 आईपीओ आए हैं जिनमें एलआईसी का आईपीओ शामिल था.

नई दिल्ली. शेयर बाजार में निवेशक नए हो या पुराने, उनमें एक बात समान होती है कि वे बेहतर मूल्यांकन वाले आईपीओ की तलाश में होते हैं. इससे उन्हें किसी क्षमतावान कंपनी में शुरुआती दिनों में ही निवेश का मौका मिल जाता है और वे कम पैसों में ही तगड़ा मुनाफा कमा लेते हैं. इन निवेशकों के लिए खुशखबरी है. सेबी ने अप्रैल-जून में 28 आईपीओ को लॉन्च के लिए मंजूरी दी है.

इन आईपीओ के जरिए ये कंपनियां कुल 45,000 करोड़ रुपये जुटाने की योजना बना रही हैं. जिन कंपनियों ने आईपीओ लाने के लिए नियामक की मंजूरी हासिल की है उनमें लाइफस्टाइल रिटेल ब्रांड फैबइंडिया, एफआईएच मोबाइल्स और फॉक्सकॉन टेक्नोलॉजी समूह की सहायक कंपनी- भारत एफआईएच, टीवीएस सप्लाई चेन सॉल्युशंस, ब्लैकस्टोन समर्थित आधार हाउसिंग फाइनेंस और मैकलियोड्स फार्मास्युटिकल्स एंड किड्स क्लिनिक इंडिया शामिल हैं.

ये भी पढे़ं- तिमाही नतीजों और वैश्विक संकेतों समेत किन फैक्टर्स से तय होगी इस हफ्ते बाजार की चाल

आईपीओ की तारीख के लिए सही समय की तलाश

मर्चेंट बैंकरों ने कहा कि इन कंपनियों ने अभी तक अपने आईपीओ लाने की तारीख घोषित नहीं की है और इसके लिए सही समय की प्रतीक्षा कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि बाजार की मौजूदा स्थितियां चुनौतीपूर्ण हैं. आनंद राठी इनवेस्टमेंट बैंकिंग के निदेशक और इक्विटी पूंजी बाजार के प्रमुख प्रशांत राव ने कहा, ‘‘मौजूदा माहौल चुनौतीपूर्ण है और जिन कंपनियों के पास मंजूरी है, वे आईपीओ लाने के लिए सही वक्त का इंतजार कर रही हैं.” भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के आंकड़ों के अनुसार कुल 28 कंपनियों ने अप्रैल-जुलाई 2022-23 के दौरान आईपीओ के जरिए पूंजी जुटाने के लिए नियामक की मंजूरी हासिल की.

इस वित्त वर्ष अब तक 11 आईपीओ आए

बता दें कि चालू वित्त वर्ष में अब तक 11 कंपनियां आईपीओ के जरिए 33,254 करोड़ रुपये जुटा चुकी हैं. इसमें एक बड़ा हिस्सा (20,557 करोड़ रुपये) एलआईसी के आईपीओ का था. गौरतलब है कि बाजार की स्थिति के कारण मई के बाद इस साल एक भी आईपीओ नहीं आया है.

पिछले साल 52 कंपनियां लाई थीं आईपीओ

वित्त वर्ष 2021-22 में 52 कंपनियों ने आईपीओ के जरिए रिकॉर्ड 1.11 लाख करोड़ रुपये जुटाए थे. हालांकि, इनमें से कई शेयर औंधे मुंह गिरे और आईपीओ को लेकर निवेशक अब बहुत अधिक सतर्क हो गए हैं. जोमैटो व पेटीएम जैसे बड़े नामों में निवेशकों को अपने नाम की ही तरह बड़े स्तर पर निराश भी किया. इसका असर इस साल एलआईसी के आईपीओ पर भी पड़ा और एलआईसी के शेयर अभी तक गिरावट से रिकवर नहीं कर पाए हैं. बाजार के सेंटीमेंट्स को देखते हुए स्टार्टअप्स को अब फंडिंग हासिल करने में भी परेशानी हो रही है. हालांकि, जानकारों का मानना है कि अगले कुछ महीनों में फंडिंग एक बार फिर रफ्तार पकड़ सकती है.

Tags: Business news in hindi, Earn money, Investment, IPO, LIC IPO, Share market, Stock market

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर