COVID-19 के दौरान जरूर करा लें ये 4 बीमा पॉलिसी, बड़े-बड़े से जोखिमों से निपटने में नहीं होगी दिक्कत

COVID-19 के दौरान जरूर करा लें ये 4 बीमा पॉलिसी, जोखिमों से निपटना होगा आसान
COVID-19 के दौरान जरूर करा लें ये 4 बीमा पॉलिसी, जोखिमों से निपटना होगा आसान

जोखिमों से निपटने के लिए कुछ बीमा कवर यहाँ बताए गए हैं, जिनसे कोरोना वायरस जैसी महामारी में मदद मिल सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2020, 6:10 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दुनिया ने प्लेग से लेकर 2013 में आए इबोला और वर्तमान में चल रहे कोविड 19 जैसी कई महामारियों को देखा है. ये सभी महामारियां चुनौतियों के साथ आई और प्रत्याशित भी रही हैं. इनमें एक आम बात यह सामने आई है कि सभी ने हमें ज्यादा ताकत और मजबूती के साथ तैयार होने में खासी मदद की है. हम वास्तव में अनुमान नहीं लगा सकते कि भविष्य में क्या होगा लेकिन निश्चित रूप से खुद को होने वाले नुकसान को कम करने के लिए तैयार जरुर कर सकते हैं. हममें से किसी को भी अनुमान नहीं था कि कोविड 19 महामारी इतनी देर तक चलेगी कि यह हमारी जीवनशैली जोखिमों का सामना करना पड़ेगा. कुछ देशों में इसकी दूसरी लहर देखी जा रही है और हमें यकीन नहीं है कि यह भविष्य में कैसे चलेगा. जोखिमों से निपटने के लिए कुछ बीमा कवर यहाँ बताए गए हैं, जिनसे कोरोना वायरस जैसी महामारी में मदद मिल सकती है.

स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance)
महामारी के दौरान आपका स्वास्थ्य तत्काल जोखिम में है. आप 100 प्रतिशत सुनिश्चित नहीं होंगे कि यह आपको प्रभावित नहीं करेगा. स्वास्थ्य बीमा एक जरूरी चीज है, क्योंकि विभिन्न स्वास्थ्य क्षतिपूर्ति नीतियां आपको संक्रमण के दौरान सहयोग करती हैं. अगर बेस पॉलिसी लिमिट खत्म हो जाती है, तो पांच लाख रूपये तक की व्यक्तिगत पॉलिसी लेना चाहिए. स्वास्थ्य बीमा जरूरी है, क्योंकि ये आपको कवर करता है, भले ही महामारी हो या ना हो.

साइबर बीमा (Cyber Insurance)
कोरोना वायरस के दौरान लॉक डाउन से वर्क फ्रॉम होम की संस्कृति विकसित हुई. यात्रा में लगने वाला समय बचने के अलावा यह सायबर जोखिमों को साथ लेकर आया. ऑफिस की तुलना में घर से काम करने में साइबर सुरक्षा की कमी के कारण ईमेल हैक, फिशिंग आदि घटनाओं में वृद्धि हुई है. इंडियन कम्प्यूटर इमरजेंसी रेस्पोंस टीम ने इस साल अगस्त तक करीबन सात लाख साइबर अटैक रिपोर्ट किये जो पिछले साल चार लाख थे. इसे देखते हुए न केवल कम्पनियों को, बल्कि व्यक्तिगत रूप से भी साइबर बीमा जरूरी है.



मोटर बीमा (Motor Insurance)
आप सोच रहे होंगे कि घर में हैं तो मोटर वाहन के बारे में बात क्यों करें. यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है कि बाहर जाने के लिए लोग सार्वजनिक साधनों के बजाय निजी परिवहन वाहन ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं. इस तरह वाहन किसी अन्य आकस्मिक क्षति का सामना कर सकता है. भले ही लॉकडाउन में वाहन इस्तेमाल नहीं हुआ लेकिन मशीन में खराबी कभी भी आ सकती है. आपका वाहन पार्किंग में भी खड़ा है, तब भी आपको मोटर इंश्योरेंस लेना चाहिए.

घर का बीमा (Home Insurance)
हम में से ज्यादातर लोग महामारी के दौरान घर से काम कर रहे हैं, जिसका अर्थ है कि घर में किसी भी चोरी या बड़े नुकसान की संभावना काफी कम है. जब हम घर पर ज्यादा समय बिताते हैं, जो पहले इतना नहीं था. इससे घर पर संसाधनों का उपयोग बढ़ जाता है, जिससे आगजनी, शॉर्ट सर्किट जैसी दुर्घटना हो सकती है. मामूली नुकसान भी आपकी जेब पर बड़ा असर डाल सकता है. इसे देखते हुए घर के सभी जोखिमों को कवर करने के लिए बीमा होना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज