लाइव टीवी

ये नेता बोले इसलिए संवैधानिक अधिकार नहीं है बजट को, अरुण जेटली ने किया बचाव

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: February 3, 2019, 8:17 AM IST
ये नेता बोले इसलिए संवैधानिक अधिकार नहीं है बजट को, अरुण जेटली ने किया बचाव
फोटो- पीयूष गोयल.

ये अंतरिम बजट है. जब सरकार आखिरी बजट पेश करती है तो बचे हुए समय के खर्चों का ही बजट पेश करती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2019, 8:17 AM IST
  • Share this:
बजट में जो घोषणाएं की गई हैं उनका कोई नैतिक और संवैधानिक अधिकार नहीं है. ये अंतरिम बजट है. जब सरकार आखिरी बजट पेश करती है तो बचे हुए समय के खर्चों का ही बजट पेश करती है. इससे परे जाकर बजट में कोई घोषणा करता है तो उसे उसका परिणाम भुगतना पड़ता है. ये कहना है कांग्रेस के नेता हरीश रावत का.

हरीश रावत का कहना है कि यशवंत सिन्हा ने भी ऐसा ही किया था. जिसके चलते उनको जाना पड़ा. 2014 में हमने भी इनकम टैक्स में थोड़ी छूट दी थी. हमे भी जाना पड़ा. सही बात तो ये है कि 2014 में जितने भी जुमले थे उन्हें बजट में रेप्लिकेट किया गया है.

ये भी पढ़ें- ट्रेनों की सुरक्षा के लिए बजट में इस टेक्नोलॉजी की हो सकती है घोषणा 

दूसरी ओर मल्लिका अर्जुन खड़गे का कहना है, “क्या गेम चेंजर है? पहले ढाई लाख था. अब चुनाव सामने आ रहा है इसलिए 5 लाख कर दिया. कौन सी बड़ी बात है? पहले तो बोले थे हर जेब में 15 लाख देंगे वह तो दिया नहीं. किसानों को पांच सौ रुपये महीना दे रहे हैं वह भी चुनाव तक दो हजार दे देंगे. यह सब चुनावी मुद्दे हैं. लोगों को गुमराह करने की कोशिश की है. सब कुछ इलेक्शन घोषणा पत्र पढ़ा गया है संसद के अंदर. नोट बंदी से बहुत ज्यादा नुकसान हुआ है. छोटे उद्योग बंद हुए हैं उनका नुकसान हुआ है. व्यापारी खुद कहते हैं यह सब झूठ है. नोटबंदी से नौकरी गई एनएसएसओ के आंकड़े दबा दिए सरकार ने क्योंकि बेरोजगारी बढ़ी है.”

दूसरी ओर भाजपा नेता अरुण जेटली ने कहा है कि अंतरिम बजट सरकार के लिए एक मौका होता है अपनी पांच साल की सफलता को सामने रखने का. अपने प्रदर्शन पर मंथन करने का.

ये भी पढ़ें- आगरा में ड्राइवर से छीनी निजामुद्दीन आ रही राजधानी ट्रेन!

वहीं दूसरी ओर गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने बजट पर कहा कि बहुत अच्छा बजट आया है. इस बजट से समाज के सारे लोगों का भला होगा. चाहे आप इसको एग्रीकल्चर में ले लीजिए या फिर टैक्स के लिहाज से ले लीजिए हर जगह सरकार ने यही कोशिश की है कि लोगों का भला हो और उनकी योजना लोगों तक पहुंचे.
Loading...

ये भी पढ़ें- कड़ाके की सर्दी में यात्रियों से आधा घंटा पहले कंबल छीन लेगा रेलवे, जानें क्यों

पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने बजट पर अपनी राय देते हुए कहा, ये अंतरिम बजट नही पूर्ण बजट है. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बजट पर कहा कि ये बजट गांव, गरीब, मज़दूर और किसान को समर्पित है. खासकर माध्यम वर्ग के हित को ध्यान में रखकर ये बजट बनाया गया है.

बजट पर पूर्व सीएम शिवराज ने ट्वीट करते हुए कहा है कि मैं बजट में किसानों के लिए फैसले पर पीएम मोदी को धन्यवाद देता हूं. बजट में किसान के हित में आजतक का सबसे बड़ा क्रांतिकारी फैसला किया गया है.

बीजेपी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ रमन सिंह ने केंद्र के बजट का किया स्वागतकिया है. किसानों के खाते में सम्मान निधि पहुंचाने की योजना को बड़ी योजना बताया है. आयकर का दायरा बढ़ाने का भी स्वागत किया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 1, 2019, 1:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...