ये हैं 50% से ज्यादा का मुनाफा देने वाले म्यूचुअल फंड्स, आप भी उठाएं फायदा

ये हैं 50% से ज्यादा का मुनाफा देने वाले म्यूचुअल फंड्स, आप भी उठाएं फायदा
देश में हर महीने करीब 12 लाख म्यूचुअल फंड खाते खुल रहे हैं.

ये हैं 50% से ज्यादा का मुनाफा देने वाले म्यूचुअल फंड्स, आप भी उठाएं फायदा

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 30, 2017, 11:18 AM IST
  • Share this:
साल 2017 रिटर्न के लिहाज से घरेलू निवेशकों के लिए बेहद शानदार रहा है. जहां एक ओर सेंसेक्स निफ्टी नए शिखर पर पहुंचे. वहीं, इसका फायदा उठाकर घरेलू म्यूचुअल फंड्स ने निवेशकों को 80 फीसदी तक का मुनाफा कराया है.

एक्सपर्ट्स सलाह दे रहे हैं कि जिन निवेशकों को शेयर बाजार में निवेश करने से डर लगता है. वह म्यूचुअल फंड्स का फायदा उठाकर अच्छे रिटर्न हासिल कर सकते है. आपको बता दें कि साल 2017 में एसबीआई स्मॉल एंड मिडकैप फंड ने 80 फीसदी, टाटा इंडिया कंज्यूमर फंड ने 75 फीसदी, रिलायंस स्मॉलकैप फंड ने 62 फीसदी का रिटर्न दिया है.

इन फंड्स ने दिया 80 फीसदी का बड़ा रिटर्न




छोटे निवेशकों ने जमकर लगाया पैसा
म्यूचुअल फंड में निवेश छोटे निवेशकों को खूब लुभा रहा है. देश में हर महीने करीब 12 लाख म्यूचुअल फंड खाते खुल रहे हैं. बाजार नियामक सेबी की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक आम निवेशकों की मजबूत भागीदारी के चलते देश में म्यूचुअल फंड खातों (फोलियो) की संख्या मौजूदा वित्त वर्ष के पहले आठ महीने में 95 लाख बढ़ी.



रिकॉर्ड स्तर पर पहुंची संख्या
म्यूचुअल फंड खातों की संख्या इस साल नवंबर के आखिर में 6.5 करोड़ रही जो कि अब तक उच्चतम स्तर है. सेबी के आंकड़ों के अनुसार 42 सक्रिय म्यूचुअल फंड कंपनियों के साथ कुल निवेशक खातों की संख्या या फोलियो की संख्या बढ़कर नवंबर के आखिर में 6,49,21,686 हो गई. यह संख्या मार्च के आखिर में 5,53,99,631 थी.

अगले साल शेयर बाजार में दिखेगा बड़ा उतार-चढ़ाव
एसबीआई म्युचुअल फंड के सीआईओ और ईडी नवनीत मुनोत की राय है कि 2018 में कंपनियों के नतीजों में सुधार की उम्मीद है. कंपनियों के नतीजे बेहतर होने पर रिटर्न बढ़ेगा. 2017 के मुकाबले अगले साल ज्यादा उतार-चढ़ाव देखने को मिलेगा.



अपने म्यूचुअल फंड्स का मुनाफा चेक जरूर करें
एसकोर्ट सिक्युरिटी के फंड मैनेजर आसिफ इकबाल के कहते है कि अक्सर नए साल में इन्‍वेस्‍टमेंट की सलाह दी जाती है, लेकिन म्‍युचुअल फंड में पहले से इन्‍वेस्‍टमेंट कर रखा है तो नया साल इसके रिव्‍यू के लिए बेहतर है. अगर आपका म्‍युचुअल फंड स्‍कीम्‍स रिटर्न के मामले में टॉप 3 या टॉप 5 में नहीं है तो इसे नए फंड में शिफ्ट करने के बारे में सोचना चाहिए. निवेशकों को हर दो से तीन माह पर एक बार जरूर रिटर्न के हिसाब से अपने निवेश का रिव्‍यू करते रहना चाहिए. इससे अपने निवेश का रिटर्न बढ़ाने में मदद मिलती है.



अब क्या करें निवेश
कोटक म्युचुअल फंड के एमडी और सीईओ नीलेश शाह की राय है कि एमएफ में रिटेल निवेशकों की भागीदारी बढ़ रही है. 2018 में बाजार में लिक्विडिटी में कमी आ सकती है. अगले साल महंगाई और ब्याज दरों में बढ़त भी संभव है. नीलेश शाह का मानना है कि तेजी में पिछड़ चुके अच्छे शेयर अगले साल ज्यादा रिटर्न देंगे. साथ ही उन्होंने सेक्टर की बजाय शेयरों पर ध्यान देकर निवेश की सलाह दी है.



रिलायंस कैपिटल के ग्लोबल हेड (इक्विटीज) सुनील सिंघानिया की राय है कि 2018 में इकोनॉमी की हालत बदलेगी. लेकिन अगले साल बहुत ज्यादा रिटर्न की उम्मीद नहीं है.

सुनील सिंघानिया का मानना है कि 2018 में एक्सपोर्ट कंपनियों, टेक्सटाइल और मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर पर फोकस रहेगा. उनकी राय है कि सरकार की तरफ से बड़े कदम उठाने का फायदा बाजार को होगा.

सिर्फ 8 हजार रु. में शुरू करें चॉकलेट बिजनेस, होगी लाखों में कमाई!

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज