मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, सस्ते होंगे ऑटो और होम लोन

News18Hindi
Updated: August 23, 2019, 6:43 PM IST
मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, सस्ते होंगे ऑटो और होम लोन
निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने कहा कि अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध (US-China trade war) के चलते वैश्विक व्यापार में काफी उतार-चढ़ाव वाली स्थिति पैदा हुई है.

निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने कहा कि अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध (US-China trade war) के चलते वैश्विक व्यापार में काफी उतार-चढ़ाव वाली स्थिति पैदा हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 23, 2019, 6:43 PM IST
  • Share this:
आर्थिक मंदी (Economic Slowdown) की खबरों के बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने शुक्रवार शाम प्रेस वार्ता कर कहा कि आर्थिक सुधार (Economic recovery) सरकार के एजेंडा में सबसे ऊपर है, सुधारों की प्रक्रिया जारी है, इसकी रफ्तार थमी नहीं है.' प्रेस वार्ता में सीतारमण ने जानकारी दी कि चीन, अमेरिका, जर्मनी, यूके, फ्रांस, कनाडा, इटली, जापान जैसे देशों से भारत की जीडीपी ग्रोथ (GDP Growth Rate) रेट ज्यादा है.

सीतारमण ने कहा कि अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध (US-China trade war) तथा मुद्रा अवमूल्यन के चलते वैश्विक व्यापार में काफी उतार-चढ़ाव वाली स्थिति पैदा हुई है. सीतारमण ने कहा कि अब होम, ऑटो और अन्य लोन पर ईएमआई घटाई जाएगी.

सीतारमण ने प्रेस वार्ता में जानकारी दी कि RBI की ओर से ब्याज दरों में कटौती का पूरा फायदा ग्राहकों को देने पर सभी बैंक सहमत हो गए हैं. वे होम, ऑटो और अन्य लोन पर ईएमआई घटाएंगे. रेपो रेट (Repo Rate) में कटौती के मुताबिक एमसीएलआर में कटौती होगी. सरकारी बैंकों को लोन पूरा होने के 15 दिन के भीतर डॉक्यूमेंट ग्राहकों को देने पड़ेंगे. सभी तरह के लोन अप्लीकेशन ऑनलाइन होंगे. लोन अप्लीकेशन की ऑनलाइन ट्रैकिंग होगी.

सरचार्ज लिया गया वापस

इससे पहले विदेशी निवेशकों की मांगों को देखते हुए, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को बजट में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों पर बढ़े हुए सरचार्ज के रोलबैक की घोषणा की. उन्होंने कहा कि इक्विटी शेयर्स के ट्रांसफर से होने वाले लॉन्ग और शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन पर सरचार्ज वापस ले लिया गया है. मंत्री ने कहा, "बजट से पहले की स्थिति बहाल की जाती है.' वित्त मंत्री ने कहा कि यह पूंजी बाजार में निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए किया जा रहा है. बढ़े हुए अधिभार को बढ़ाने के लिए बजट में लिए गए निर्णय ने शेयर बाजारों को हिला दिया था.

बजट में सरचार्ज में वृद्धि के बाद, 2-5 करोड़ रुपये की कर योग्य आय वाले व्यक्तियों के लिए प्रभावी आयकर दर 35.88 प्रतिशत से 39 प्रतिशत हो गई और 5 करोड़ रुपये से 42.7 प्रतिशत से ऊपर के लोगों के लिए. इस महीने की शुरुआत में, पूंजी बाजार के प्रतिभागियों और विदेशी संस्थागत निवेशकों ने सीतारमण को मांगों का एक चार्टर पेश किया, जिसमें एफपीआई पर सरचार्ज के रोलबैक और लाभांश वितरण की समीक्षा शामिल थी.

सीतारमण ने आगे कहा कि स्टार्टअप्स और उनके निवेशकों की वास्तविक कठिनाइयों को कम करने के लिए, उनके लिए परी कर प्रावधानों को वापस लेने का निर्णय लिया गया है. स्टार्टअप्स की समस्याओं के समाधान के लिए CBDT के एक सदस्य के तहत एक समर्पित सेल भी स्थापित की जाएगी.
Loading...

यह भी पढ़ें- 

बैंकिंग सेक्टर की हालत ख़राब, अब ये बैंक करेगा बड़ी छंटनी!
SBI ग्राहकों के लिए बड़ी खबर! FD की ब्याज दरों में किया बदलाव
सरकार के इस कदम से मज़दूरों के खाते में सीधे आएंगे पैसे!


 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 23, 2019, 6:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...