होम /न्यूज /व्यवसाय /इस साल छोटी कंपनियों के शेयरों ने निवेशकों को दिया बड़ा झटका, अब तक 13 प्रतिशत की गिरावट, आगे कैसी रहेगी चाल

इस साल छोटी कंपनियों के शेयरों ने निवेशकों को दिया बड़ा झटका, अब तक 13 प्रतिशत की गिरावट, आगे कैसी रहेगी चाल

 छोटी कंपनियों के शेयरों ने 2021 में शानदार प्रदर्शन करते हुए निवेशकों को 63 प्रतिशत का रिटर्न दिया था.

छोटी कंपनियों के शेयरों ने 2021 में शानदार प्रदर्शन करते हुए निवेशकों को 63 प्रतिशत का रिटर्न दिया था.

विशेषज्ञों का कहना है कि ‘अच्छे समय’ में छोटी कंपनियों के शेयर ‘लार्ज कैप’ की तुलना में ज्यादा चढ़ते हैं. ऐसे में मौजूद ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. शेयर बाजारों में गिरावट के बीच इस साल छोटी कंपनियों का प्रदर्शन बड़ी कंपनियों से कमजोर रहा है. बीएसई स्मॉलकैप और मिडकैप में इस साल अबतक 13 प्रतिशत की गिरावट आई है और सेंसेक्स की तुलना में इनका प्रदर्शन कहीं खराब रहा है.

हालांकि, विशेषज्ञों का कहना है कि ‘अच्छे समय’ में छोटी कंपनियों के शेयर ‘लार्ज कैप’ की तुलना में ज्यादा चढ़ते हैं. ऐसे में मौजूदा खराब दौर में इनमें कहीं अधिक ‘करेक्शन’ सामान्य बात है. भू-राजनीतिक तनाव, मुद्रास्फीति की चिंताओं और विदेशी फंड्स की जबरदस्त बिकवाली के बीच इस साल शेयर बाजारों को कई प्रतिकूल परिस्थितियों से जूझना पड़ा है.

सेंसेक्स से ज्यादा गिरा स्मॉलकैप
विशेषज्ञों ने कहा कि इन चुनौतियों की वजह से घरेलू और वैश्विक बाजारों में बेचैनी है. बीएसई का स्मॉलकैप सूचकांक इस साल अब तक 3,816.95 अंक यानी 12.95 प्रतिशत और मिडकैप 2,314.51 अंक यानी 9.26 फीसदी टूट चुका है. इसकी तुलना में 30 शेयरों वाले सेंसेक्स में 3,771.98 अंक या 6.47 प्रतिशत की गिरावट आई है.

यह भी पढ़ें- Cryptocurrency Price Today: बिटक्वॉइन की कीमत 22 हजार डॉलर के पार गई, एक्सपर्ट्स ने कहा- ऊपर टिकना मुश्किल

बाजार महंगा या सस्ता
इक्विटीमास्टर के सह-प्रमुख (शोध) राहुल शाह ने कहा, ‘‘मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांक अच्छे समय के दौरान सेंसेक्स की तुलना में कहीं अधिक चढ़े थे. इसलिए यह स्वाभाविक है कि वे बुरे समय में सेंसेक्स से अधिक गिरेंगे.’’उन्होंने आगे कहा कि जहां तक ​​मौजूदा दौर का सवाल है, बाजार अब महंगे नहीं हैं, लेकिन वे बहुत सस्ते भी नहीं हैं.

20 जून को बीएसई स्मॉलकैप निचले स्तर पर
शाह ने कहा, ‘‘यह एक ऐसा बाजार है जहां गुणवत्ता और वृद्धि को इनाम मिलता है जबकि ऊंचे मूल्यांकन और खराब गुणवत्ता को खारिज कर दिया जाता है.’’ इस साल 20 जून को बीएसई स्मॉलकैप अपने 52 सप्ताह के निचले स्तर 23,261.39 अंक पर आ गया था. यह 18 जनवरी को अपने एक साल के शिखर 31,304.44 अंक पर था.

यह भी पढ़ें- यह केमिकल स्टॉक ‘फायर’ बना, 5 दिन में 40 फीसदी भागा, एक्सपर्ट्स से सुनिए आगे का हाल

इसी तरह मिडकैप भी 20 जून को अपने 52-सप्ताह के निचले स्तर 20,814.22 अंक तक गिर गया था. यह पिछले साल 19 अक्टूबर को अपने एक साल के उच्चस्तर 27,246.34 तक चढ़ गया था. सेंसेक्स इस साल 17 जून को 52 सप्ताह के निचले स्तर 50,921.22 अंक तक फिसल गया था. 19 अक्टूबर, 2021 को सेंसेक्स अपने एक साल के उच्चस्तर 62,245.43 अंक पर पहुंच गया था.

मिडकैप और स्मॉलकैप का कमजोर प्रदर्शन
एमके इन्वेस्टमेंट मैनेजर्स लि. के कोष प्रबंधक सचिन शाह ने कहा, ‘‘पिछले छह माह में वैश्विक और घरेलू दोनों के पूंजी बाजारों में थोड़ी घबराहट है. स्पष्ट रूप से यह घबराहट आर्थिक मोर्चे पर चुनौतियों, भू-राजनीतिक तनाव, उच्च मुद्रास्फीति के माहौल, ऊंची ब्याज दरों और विदेशी संस्थागत निवेशकों की बिकवाली की वजह से है.’’

यह भी पढ़ें- Mutual Funds और विदेशी निवेशक इन 5 स्मॉलकैप स्टॉक में लगातार पैसा लगा रहे, पढ़िए आपको क्या करना चाहिए?

उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे में यह लगता है कि मिडकैप और स्मॉलकैप ने अधिक कमजोर प्रदर्शन किया है. लेकिन हमें यह भी ध्यान रखना होगा कि पिछले दो साल में मिडकैप और स्मॉलकैप का प्रदर्शन कहीं ज्यादा बेहतर रहा था.’’

पिछले साल 63 प्रतिशत का रिटर्न 
छोटी कंपनियों के शेयरों ने 2021 में शानदार प्रदर्शन करते हुए निवेशकों को 63 प्रतिशत का रिटर्न दिया था. 2021 में मिडकैप 7,028.65 अंक या 39.17 प्रतिशत चढ़ा था, जबकि स्मॉलकैप 11,359.65 अंक या 62.76 प्रतिशत उछला था. इसकी तुलना में सेंसेक्स पिछले साल 10,502.49 अंक या 21.99 प्रतिशत के लाभ में रहा था.

Tags: Investment, Nifty, Share market, Stock market

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें