Home /News /business /

30 नवंबर तक अगर किसानों ने नहीं किया ये काम तो नहीं मिलेंगे 6000 रुपये

30 नवंबर तक अगर किसानों ने नहीं किया ये काम तो नहीं मिलेंगे 6000 रुपये

Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Scheme: मोदी सरकार ने किसानों (Farmers) से जुड़ी इस योजना (Scheme) में आधार (Aadhaar) लिंक करवाने के लिए 30 नवंबर तक दी छूट दी है. जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, असम और मेघालय के किसानों के लिए 31 मार्च 2020 तक का मौका दिया गया है.

Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Scheme: मोदी सरकार ने किसानों (Farmers) से जुड़ी इस योजना (Scheme) में आधार (Aadhaar) लिंक करवाने के लिए 30 नवंबर तक दी छूट दी है. जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, असम और मेघालय के किसानों के लिए 31 मार्च 2020 तक का मौका दिया गया है.

Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Scheme: मोदी सरकार ने किसानों (Farmers) से जुड़ी इस योजना (Scheme) में आधार (Aadhaar) लिंक करवाने के लिए 30 नवंबर तक दी छूट दी है. जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, असम और मेघालय के किसानों के लिए 31 मार्च 2020 तक का मौका दिया गया है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. मोदी सरकार (Modi Government) ने पीएम-किसान सम्मान निधि स्कीम (Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Scheme) की किश्त पाने के लिए आधार नंबर (Aadhaar Number) को लिंक करवाने की अंतिम तारीख अब नजदीक आ रही है. अगर किसी ने इसे लिंक करवाने में देरी की तो उसके खाते में 6000 रुपए नहीं आएंगे. इसके लिए मोदी सरकार ने 30 नवंबर 2019 की तारीख तय की है. अगर आपने इस दौरान ऐसा नहीं किया तो खेती-किसानी के लिए 6000 रुपए की मदद नहीं मिलेगी. हालांकि, जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir), लद्दाख, असम और मेघालय के किसानों को 31 मार्च 2020 तक यह मौका दिया गया है.

    कितने किसानों को मिल चुका हैं पैसा - कृषि मंत्रालय (Ministry of Agriculture) के मुताबिक देश में 14.5 करोड़ किसान परिवार हैं. मोदी सरकार ने सभी किसानों को यह पैसा देने का प्लान बनाया है. इसके तहत करीब 87 हजार करोड़ रुपए खर्च किए जाने हैं. अब तक 7.63 करोड़ किसानों को इसका फायदा मिल चुका है. इसमें से सिर्फ 3.69 करोड़ लोगों को तीसरी किश्त मिली है.

    कुल मिलाकर अभी करीब 7 करोड़ किसान इसका लाभ लेने वालों की लाइन में खड़े हैं. कागजों की गड़बड़ी और आधार की कमी की वजह से काफी लोगों को पैसा नहीं मिल सका है. ऐसे में जिसे पैसा नहीं मिला है वे तय समय में अपना आधार लिंक करवा ले. वरना लाभ नहीं मिलेगा.

     Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Scheme, पीएम-किसान सम्मान निधि स्कीम, PM-Kisan, पीएम-किसान, aadhaar card, Jammu Kashmir, जम्मू कश्मीर, ladakh लद्दाख, आधार कार्ड, ministry of agriculture, कृषि मंत्रालय, किसान हेल्प डेस्क, KISAN Help Desk
    आधार में कमी की वजह से काफी किसानों को नहीं मिला है पीएम-किसान याेजना का पैसा


    कोई भी किसान कर सकता है रजिस्ट्रेशन
    यदि आपने भी इस स्कीम का लाभ लेने के लिए आवेदन दिया है और अब तक बैंक अकाउंट (Bank Account) में पैसा नहीं आया है तो उसका स्टेटस जानना बहुत आसान हो गया है. केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी (Kailash Chaudhary) ने बताया कि पीएम किसान पोर्टल (PM Kisan Portal ) पर जाकर कोई भी किसान भाई अपना आधार, मोबाइल और बैंक खाता नंबर दर्ज करके इसके स्टेटस की जानकारी ले सकता है. चौधरी का कहना है कि जैसे-जैसे राज्यों से लिस्ट आ रही है उसके हिसाब से स्कीम का पैसा जा रहा है.

    न मिले पैसा तो यहां करें शिकायत
    अगर आपको पैसा नहीं मिला है तो सबसे पहले अपने रेवेन्यू अधिकारी (लेखपाल) और क्षेत्र के कृषि अधिकारी से बात करें. वहां से भी सुनवाई न हो तो केंद्रीय कृषि मंत्रालय के किसान हेल्प डेस्क (PM-KISAN Help Desk) को ई-मेल Email (pmkisan-ict@gov.in) करें.

    यहां भी आपकी बात न बने तो इस किसान सेल के इस नंबर 011-23381092 (Direct HelpLine) पर फोन करके अपनी समस्या बता दें. यही नहीं इस योजना के फारमर वेलफेयर सेक्शन (Farmer's Welfare Section) में संपर्क कर सकते हैं. दिल्ली में इसका फोन नंबर है 011-23382401, जबकि ई-मेल आईडी (pmkisan-hqrs@gov.in) है.

    लाभ पाने के लिए तय की गई हैं ये शर्तें- पिछले वित्तीय वर्ष में इनकम टैक्स का भुगतान करने वाले इस लाभ से वंचित होंगे. हालांकि, केंद्र और राज्य सरकार के मल्टी टास्किंग स्टाफ/चतुर्थ श्रेणी/समूह डी कर्मचारियों को इस योजना का लाभ मिलेगा. केंद्र या राज्य सरकार में अधिकारी एवं 10 हजार से अधिक पेंशन पाने वाले किसानों को लाभ नहीं मिलेगा. पेशेवर, डॉक्टर, इंजीनियर, सीए, वकील, आर्किटेक्ट, जो कहीं खेती भी करता हो उसे लाभ नहीं मिलेगा. एमपी, एमएलए, मंत्री और मेयर को भी लाभ नहीं दिया जाएगा, भले ही वे किसानी भी करते हों.

    ये भी पढ़ें:

    सिर्फ पंजाब-हरियाणा में ही ‘जल’ और ‘वायु’ दोनों के लिए क्यों संकट बन रही धान की खेती?

    5795 गांवों के किसान बने मिसाल, नहीं जलाई पराली, चारे में हो रहा इस्तेमाल!

    Tags: Aadhar card, Farmer, Farming, Jammu and kashmir, Kisan, Ministry of Agriculture, Modi government

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर