चीन को बड़ा झटका! भारत ने मेडिकल डिवाइस बनाने की बढ़ाई क्षमता, बंद हो जाएगा चीन से सामान आना

चीन को बड़ा झटका! भारत ने मेडिकल डिवाइस बनाने की बढ़ाई क्षमता, बंद हो जाएगा चीन से सामान आना
चीनी को बड़ा झटका! भारत ने मेडिकल डिवाइस बनाने की बढ़ाई क्षमता

भारत-चीन में तनाव बढ़ने के बीच भारत अपने हेल्थकेयर सेक्टर में चीन के सामान पर निर्भरता कम करने पर विचार कर रहा है. इसमें सबसे महत्वपूर्ण है मेडिकल डिवाइस इंडस्ट्री, जहां सबसे ज्यादा इंपोर्ट चीन से हो रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत-चीन में तनाव बढ़ने के बीच भारत अपने हेल्थकेयर सेक्टर में चीन के सामान पर निर्भरता कम करने पर विचार कर रहा है. इसमें सबसे महत्वपूर्ण है मेडिकल डिवाइस इंडस्ट्री, जहां सबसे ज्यादा इंपोर्ट चीन से हो रहा है. साधारण थर्मोमीटर से लेकर इलेक्ट्रोकार्डियोग्राफ यानि ईसीजी की मशीनों तक भारत काफी हद तक अपनी मेडिकल डिवाइसेस की जरूरत के लिए चीन पर निर्भर है. भारत के मेडिकल डिवाइस इंपोर्ट का कुल 11 फीसदी हिस्सा चीन से आता है.

कुछ डिवाइस कैटेगरी में तो 87 फीसदी तक निर्भरता चीन पर है. इनमें एक्यूपंक्चर उपकरण, प्रेग्नेंसी किट, क्लिनिकल थर्मोमीटर और कपड़ों के सामान काफी ज्यादा हैं. 2019-20 में भारत ने 42 हजार 245 करोड़ रुपए के चिकित्सा उपकरणों का आयात किया था जिसमें चीन से आने वाले उपकरण 4,559 करोड़ रुपए के थे. अब इंडस्ट्री आत्मनिर्भर मेडिकल डिवाइस सेक्टर के लिए एक नई योजना की मांग कर रही है.

ये भी पढ़ें:- बिना ब्रांच गए ICICI बैंक में खुलवाएं खाता, घर बैठे हो जाएगा KYC



इंडस्ट्री का कहना है कि पिछले 4 महीनों में भारत में मेडिकल डिवाइस बनाने के काम में तेजी आई है. मसलन, पहले भारत में PPE किट बनाने की क्षमता 62 लाख प्रति वर्ष थी जो अब बढ़कर 21 करोड़ हो गई है. पहले देश में सिर्फ 3,360 वेंटिलेटर बनाने की क्षमता थी जो अब बढ़कर 3 लाख 14 हजार हो गई है. इसी तरह जहां पहले एक करोड़ 30 लाख N95 मास्क बनाने की क्षमता थी वो अब बढ़कर 15 करोड़ से ज्यादा हो चुकी है.
इंडस्ट्री का दावा है कि अगर उसे सरकार की तरफ से मदद मिले तो एक साल में 4 हजार करोड़ का इंपोर्ट कम होकर एक हजार करोड़ तक हो जाएगा. जरूरत है सस्ते चीनी मेडिकल डिवाइस के आयात को कम करने के लिए एक स्पष्ट नीति की.

ये भी पढ़ें:- कोरोना को देखते हुए आ गया है आत्मनिर्भर पेट्रोल पंप, खुद भरना होगा फ्यूल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज