पोल्ट्री फार्म से ग्राहक तक ऐसे तय होता है एक अंडे का दाम, अब बिक रहा है 7 रुपये का

देशभर में हर रोज़ सुबह अंडे के दाम तय होते हैं और उसके बाद यह मैसेज हर पोर्ल्टी फार्म और होसलेलर तक पहुंच जाता है.
देशभर में हर रोज़ सुबह अंडे के दाम तय होते हैं और उसके बाद यह मैसेज हर पोर्ल्टी फार्म और होसलेलर तक पहुंच जाता है.

कोरोना (Corona) और लॉकडाउन के असर को देखते हुए अभी फिलहाल बाज़ार (Market) में अंडा 7 रुपये तक का बिक रहा है.  

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 17, 2020, 8:23 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अब अंडा (Egg) साल के 12 महीने बाज़ार में बिकता भी है और जमकर खाया भी जाता है. लेकिन सर्दियों (Winter) की शुरुआत इसके सीजन की दस्तक मानी जाती है. वैसे बारिश (Rain) में भी अंडे की सेल होती है, लेकिन लगातार नहीं. दो-चार दिन तेज़ बारिश हो गई तो अंडा बिकने लगता है. वर्ना कछुआ चाल तो उसकी बनी ही रहती है. लेकिन यही वो मौके होते हैं जब अंडे के दाम में उतार-चढ़ाव आता है. गौरतलब रहे, पोल्ट्री फार्म Poultry Farm से लेकर दुकान तक अंडा आने में चार जगह उसके रेट तय होते हैं. सबसे पहले रेट राज्य (State Rate) के हिसाब से तय किए जाते हैं. उसके बाद होलसेलर और रिटेलर मिलकर तय करते हैं. तब कहीं जाकर अंडा हमारे और आपके किचिन में पहुंचता है.

पोल्ट्री और रिटेल के रेट में होता है इतना फर्क

जब बाज़ार में अंडा 7 से 8 रुपये का रिटेल ग्राहक को मिल रहा था तो उस वक्त पोल्ट्री फार्म का रेट 5.50 रुपये एक अंडा का रेट था. पोल्ट्री फार्म हाउस के मालिक और यूपी पोल्ट्री फार्म एसोसिएशन के अध्यक्ष नवाब अली की मानें तो मौजूदा वक्त में पोल्ट्री फार्म से 100 अंडे 540 रुपये से लेकर 550 रुपये तक बिका था. पोल्ट्री से अंडा बड़े होलसेलर के यहां पहुंचता है. ट्रांसपोर्ट और लेबर का खर्च जोड़कर वो 100 अंडे पर 15 से 20 रुपये मुनाफा लेता है.



यह भी पढ़ें- दिवाली पर गहनों से ज्यादा लोग क्यों खरीदते हैं सोने-चांदी के सिक्के 
बड़े होलसेलर के यहां से छोटे-छोटे होलसेलर ले जाते हैं. लेकिन इनका मुनाफा ज़्यादा नहीं होता है. यह लोग 30 अंडों की एक क्रेट पर 3 से 5 रुपये तक कमाते हैं. बाकी फिर रिटेलर बाज़ार की डिमांड और स्टॉक को देखते हुए एक से सवा रुपये तक मुनाफा कमाते हैं. जैसे आजकल रिटेल बाज़ार में अंडा 7 रुपये तक का बिक रहा है.

बाज़ार में इसलिए बढ़ रहे हैं अंडे के दाम

पोल्ट्री फार्म के मालिक अनिल शाक्या बताते हैं, “आप किसी भी पोल्ट्री फार्म में चले जाइए वहां अब सिर्फ 40 से 45 फीसदी मुर्गियां ही बची हैं. बाकी की मुर्गी कोरोना काल की भेंट चढ़ चुकी हैं. इस काल में अंडे देने वाली मुर्गियां भी दाना न खिला पाने के चलते बेच दी गईं या ज़मीन में दफना दी गईं.

अब सर्दी शुरु होते ही अंडे की डिमांड बढ़ने लगी है, लेकिन पोल्ट्री डिमांड के हिसाब से अंडा सप्लाई नहीं कर पा रही हैं. अभी तो यह सीजन की शुरुआत है तब 7 रुपये का अंडा बिक रहा है. आगे चलकर अगर 8 रुपये का भी हो जाए  तो कोई बड़ी बात नहीं है.”
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज