होम /न्यूज /व्यवसाय /

1 रुपये किलो से भी सस्ता हुआ टमाटर, प्याज का भी बुरा हाल, लेकिन अब तेज़ी से बढ़ सकती हैं सब्जी और फलों की कीमतें

1 रुपये किलो से भी सस्ता हुआ टमाटर, प्याज का भी बुरा हाल, लेकिन अब तेज़ी से बढ़ सकती हैं सब्जी और फलों की कीमतें

1 रुपए किलो से भी सस्ता हुआ टमाटर, लेकिन अब तेज़ी से बढ़ सकते हैं सब्जी के दाम

1 रुपए किलो से भी सस्ता हुआ टमाटर, लेकिन अब तेज़ी से बढ़ सकते हैं सब्जी के दाम

22 मार्च से चल रहे हो लॉकडाउन के बाद से देश को अनलॉक किया गया है. लॉकडाउन के कारण सब्जियों के दाम में थोक बाज़ार में काफी गिरावट देखने को मिली है. आलू को छोड़कर प्याज-टमाटर समेत ज्यादातर हरी सब्जियों के दाम में कोरोना काल में कमी आई है. लेकिन अब कुछ कारोबारियों कि माने तो होटल, रेस्तरां और कैंटीन खुलने की वजह से उम्मीद की जार रही है कि टमाटर और प्याज के दाम में इजाफा हो सकता है.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. 22 मार्च से चल रहे हो लॉकडाउन के बाद से देश को अनलॉक किया गया है. लॉकडाउन के कारण सब्जियों के दाम में थोक बाज़ार में काफी गिरावट देखने को मिली है. आलू को छोड़कर प्याज-टमाटर समेत ज्यादातर हरी सब्जियों के दाम में कोरोना कॉल में कमी आई है. थोक मंडियों में प्याज का भाव 8.75 रुपये किलो चल रहा है. वहीं टमाटर 1 रुपये किलो से भी कम भाव पर बिकने लगा है. यही प्याज और टमाटर के दाम पिछले साल 100 रुपये से ऊंचे भाव बिका था. इस समय सब्जियों की कीमतें इतनी कम है कि किसानों को फसल की लागत भी नहीं मिल रही है.

    कुछ कारोबारियों कि माने तो होटल, रेस्तरां और कैंटीन खुलने की वजह से उम्मीद की जा रही है जिसके बाद टमाटर और प्याज के दामों में इजाफा हो सकता है. कैंटीन और होटल में सब्जियों की सप्लाई करने वाले ठेकेदार मंडी पहुंचने लगे हैं. सोशल डिस्टेंसिंग के रूल्स को ध्यान में रखते हुए दिल्ली समेत देश के ज्यादातर हिस्सों में धार्मिक स्थल, शॉपिंग मॉल, रेस्तरां आदि खुल गए हैं. इससे अब सब्जियों के भाव में तेजी आने की संभावना है. होटल, रेस्तरां और कैंटीन खुलने से फलों व सब्जियों की मांग में 10-15 फीसदी का इजाफा हो सकता है, लेकिन थोक मंडियों में इसको लेकर कारोबारियों में कोई उत्साह नहीं हैं.

    अगले महीने तक सब्जी और फल की मांग में 10-15 फीसदी की वृद्धि संभव
    चैंबर ऑफ आजादपुर फ्रूटस एंड वेजिटेबल्स एसोसिएशन के प्रेसीडेंट एम. आर. कृपलानी ने आईएएनएस से कहा कि होटल, रेस्तरां खुलने पर भी लोग कोरोना संक्रमण को लेकर वहां जाने से घबराएंगे, लेकिन धीरे-धीरे हालात सामान्य होने पर अगले महीने तक सब्जी और फल की मांग में 10-15 फीसदी की वृद्धि हो सकती है. लेकिन दाम में वृद्धि को लेकर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि मांग के मुकाबले आपूर्ति ज्यादा होने से हरी शाक-सब्जी के दाम में बहुत सुधार की उम्मीद नहीं है.

    प्याज-टमाटर के भाव गिरने की ये है वजह
    टमाटर और प्याज के दाम में गिरावट की वजह इनके उत्पादन में वृद्धि भी है. केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय की ओर से मंगलवार को जारी बागवानी फसलों के अग्रिम उत्पादन अनुमान के अनुसार, प्याज का उत्पादन पिछले साल की तुलना में इस साल 17.17 फीसदी ज्यादा 267.38 लाख टन होने का अनुमान है. टमाटर का उत्पादन पिछले साल के 19 0.1 लाख टन के मुकाबले 8.2 फीसदी बढ़कर 2 05.7 लाख टन का अनुमान है.

    ये भी पढ़ें :- एयरटेल ने खोल दिए रिटेल स्टोर, घरों पर होगी इन चीज़ों की डिलिवरी
     
    undefined

    Tags: Hotel, Onion Price, Tomato

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर