Covid 19 Vaccination: ट्रेड यूनियनों ने की मुफ्त वैक्सीनेशन की मांग, 1 मई को प्रदर्शन का ऐलान

वैक्सीनेशन (प्रतीकात्मक तस्वीर)

वैक्सीनेशन (प्रतीकात्मक तस्वीर)

ट्रेड यूनियनों ने गरीब परिवारों के लिए 7,500 रुपये प्रति माह नकद और 10 किलोग्राम मुफ्त राशन दिए जाने की भी मांग की है. साथ ही एक मई को सरकार की नीतियों का विरोध किए जाने की चेतावनी दी है.

  • Share this:
नई दिल्ली. देशभर में 1 मई से कोरोना वैक्सीनेशन (Vaccination) का अगला चरण शुरू होने जा रहा है. 1 मई से 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी. वहीं, केंद्रीय ट्रेड यूनियनों (Trade Unions) के एक संयुक्त मंच ने सबको मुफ्त वैक्सीन लगवाने की मांग को लेकर मई दिवस (1 मई) पर प्रदर्शन करने की घोषणा की है. इसमें 10 यूनियन शामिल हैं.

ये संगठन गरीब परिवारों के लिए 7,500 रुपये प्रति माह नकद और 10 किलोग्राम मुफ्त राशन दिए जाने की भी मांग कर रहे हैं. संगठनों से साझे बयान में कहा है कि वे 1 मई को सरकार की मजदूर-विरोधी, किसान-विरोधी और जन-विरोधी नीतियों का भी विरोध करेंगे.

ट्रेड यूनियनों ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र

संयुक्त मंच ने अपनी मांगों के संबंध में प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है. ट्रेड यूनियनों ने कोविड-19 संकट से निपटने में सरकार के लापरवाह रवैये की भर्त्सना की है. इन 10 संगठनों में इंडियन नेशनल ट्रेड यूनियन कांग्रेस (INTUC), ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस (AITUC), हिंद मजदूर सभा (HMS), सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन (CITU), ऑल इंडिया यूनाइटेड ट्रेड यूनियन सेंटर (AIUTUC), ट्रेड यूनियन को-ऑर्डिनेशन सेंटर (TUCC), सेल्फ-एंप्लॉयड वुमेन्स एसोसिएशन (SEWA), ऑल इंडिया सेंट्रल काउंसिल ऑफ ट्रेड यूनियंस (AICCTU), लेबर प्रोग्रेसिव फेडरेशन (LPF) और यूनाइटेड ट्रेड यूनियन कांग्रेस (UTUC) शामिल हैं.
इंप्लॉयर्स को छंटनी पर रोक लगाने की मांग

यूनियनों ने कोविड मामलों में वृद्धि को देखते हुए पर्याप्त अस्पताल के बिस्तर बढ़ाने, ऑक्सीजन और अन्य चिकित्सा सुविधाओं को मुहैया कराने की भी मांग की. इन यूनियनों ने यह भी कहा कि सभी इंप्लॉयर्स को छंटनी, मजदूरी में कटौती और निवास से बेदखली पर रोक लगाने के सख्त आदेश भी दिए जाएं.

छह महीनों के लिए प्रति व्यक्ति प्रति माह 10 किलो मुफ्त राशन की मांग



उन्होंने सभी इनकम टैक्स दायरे से बाहर के परिवारों के लिए 7,500 रुपये प्रति माह नकद सहायता और अगले छह महीनों के लिए प्रति व्यक्ति प्रति माह 10 किलो मुफ्त राशन की मांग की है. उन्होंने आशा और आंगनवाड़ी कर्मचारियों सहित सभी स्वास्थ्य देखभाल और फ्रंटलाइन श्रमिकों के लिए सुरक्षात्मक के साज-सामान और उपकरण तथा उन सभी के लिए व्यापक इंश्योरेंस कवरेज दिए जाने की भी मांग की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज