होम /न्यूज /व्यवसाय /Tax Evasion : चीन से जमकर माल मंगाया-बिल कम दिखाया, रडार पर आए 16000 करोड़ की टैक्स चोरी करने वाले कारोबारी

Tax Evasion : चीन से जमकर माल मंगाया-बिल कम दिखाया, रडार पर आए 16000 करोड़ की टैक्स चोरी करने वाले कारोबारी

भारत और चीन के द्विपक्षीय व्यापार के आंकड़ों में भारी अंतर के बाद अब इनकम टैक्स अधिकारी इसकी जांच में जुट गए हैं.

भारत और चीन के द्विपक्षीय व्यापार के आंकड़ों में भारी अंतर के बाद अब इनकम टैक्स अधिकारी इसकी जांच में जुट गए हैं.

सरकारी जांच अधिकारी ने कहा कि चीन से अंडर-इनवॉइसिंग के कई मामले सामने आए हैं. इसलिए हमने 32 इंपोर्टर्स को 16,000 करोड़ ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

भारत और चीन के द्विपक्षीय व्यापार के आंकड़ों में भारी अंतर देखने को मिला.
इंपोटर्स पर कस्टम ड्यूटी बचाने के लिए कम बिल दिखाने का शक है.
आयात किए जाने वाले माल में ज्यादातर इलेक्ट्रॉनिक्स गुड्स, गैजेट्स और मेटल्स प्रोडक्ट्स हैं.

नई दिल्ली. भारत और चीन के बीच हुए द्विपक्षीय व्यापार के आंकड़ों में भारी अंतर के बाद अब इनकम टैक्स अधिकारी टैक्स चोरी की जांच में जुट गए हैं. दरअसल, दोनों देशों से मिले डेटा में आया यह अंतर बहुत बड़ा है. अधिकारियों को इस बात की आशंका है कि कुछ लोगों ने चीन से माल मंगाकर बिल कम दिखाया और कर चोरी की है. कस्टम अधिकारियों ने अप्रैल 2019 से दिसंबर 2020 तक अंडर-इनवॉइसिंग के जरिये लगभग 16,000 करोड़ रुपये की संदिग्ध टैक्स चोरी को लेकर सितंबर 2022 के अंतिम सप्ताह में 32 आयातकों को नोटिस जारी किया है.

टैक्स बचाने के लिए बिल में की हेराफेरी
एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘जांच में अंडर-इनवॉइसिंग के कई मामले सामने आए हैं, खासकर चीन से. इसलिए हमने 32 आयातकों को 16,000 करोड़ रुपये की संदिग्ध टैक्स चोरी के लिए नोटिस भेजा है.’ अधिकारी ने कहा कि आने वाले दिनों में ऐसे और भी नोटिस भेजे जाने की उम्‍मीद है. चीन से आयात किए जाने वाले माल में ज्यादातर इलेक्ट्रॉनिक्स गुड्स, गैजेट्स और मेटल प्रोडक्ट्स हैं. अक्सर इंपोटर्स कस्टम ड्यूटी बचाने के लिए बिल कम दिखाते हैं, क्योंकि घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने इलेक्ट्रॉनिक गुड्स और मोबाइल फोन के आयात पर इम्पोर्ट शुल्क बढ़ाया है.

ये भी पढ़ें- चीन को बड़ा झटका! ऐपल नहीं करेगा चीनी कंपनी की चिप्‍स का इस्‍तेमाल, क्‍या है इस फैसले की वजह?

साल दर साल बढ़ा यह अंतर
आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, भारत ने 2022 के पहले 9 महीनों में 79.16 बिलियन डॉलर मूल्य के सामान का आयात किया. द इकोनॉमिक टाइम्‍स की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन के सीमा शुल्क के सामान्य प्रशासन ने दिखाया कि इसी अवधि में भारत को देश का निर्यात 89.99 बिलियन डॉलर था, जिसमें $ 10 बिलियन का बड़ा अंतर पाया गया.

हर बीते साल के साथ यह अंतर बढ़ता गया. कैलेंडर वर्ष 2019 में चीन से भारत का आयात 68.35 बिलियन डॉलर था, जबकि चीन के डेटा ने 74.92 बिलियन डॉलर का निर्यात दिखाया, जिसमें लगभग 6 बिलियन डॉलर का अंतर था, जो 2020 में बढ़कर 8 बिलियन डॉलर और 2021 में 10 बिलियन डॉलर हो गया.

Tags: Business news in hindi, China india, Import-Export, Income tax, India china latest news hindi, Tax Evasion

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें