TRAI चीफ आरएस शर्मा ने कहा- टेलीकॉम कंपनियों के डिजिटल नेटवर्क में आने से लोगों को होंगे बड़े फायदे

TRAI चीफ आरएस शर्मा ने कहा- टेलीकॉम कंपनियों के डिजिटल नेटवर्क में आने से लोगों को होंगे बड़े फायदे
TRAI के चेयरमैन आरएस शर्मा ने कहा कि हमें डिजिटल सुपरपावर और नॉलेज सोसायटी बनने की ओर कदम बढ़ाना चाहिए.

ट्राई (TRAI) चेयरमैन आरएस शर्मा ने कहा कि कोरोना संकट के बीच टेलीकॉम (Telecom) सेवाएं लोगों के जीवन में पहले के मुकाबले ज्‍यादा अहम और जरूरी हिस्‍सा बन गई हैं. उन्‍होंने उम्‍मीद जताई कि कोविड-19 के बाद के जीवन (Post Covid-19) में भी इसकी अहमियत कम नहीं होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 12, 2020, 7:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. टेलीकॉम रेग्‍युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) के चेयरमैन रामसेवक शर्मा (RS Sharma) का कहना है कि सिर्फ टेलीकॉम सेवा मुहैया कराने वाली कंपनियों (Telecom Companies) का डिजिटल नेटवर्क सेवा (Digital Network) के क्षेत्र में उतरना सकारात्‍मक संकेत है. उन्‍होंने कहा कि वर्क फ्रॉम होम अब आम बात होती जा रही है. इसके साथ ही डिस्‍टैंट एजुकेशन, टेलीमेडिसिन और दूसरी वर्चुअल ऐप्‍लीकेशन का इस्‍तेमाल सामान्‍य व्‍यवहार बनता जा रहा है. शर्मा ने इस सेक्‍टर को 'शाइनिंग स्‍टार' (Shining Star) करार दिया. उन्‍होंने कहा कि कोविड-19 संकट (Coroana Crisis) के बीच कंपनियों ने 24 घंटे कनेक्टिविटी बनाए रखी.

आपदा को अवसर में बदलने का मौका ना छोड़ें कंपनियां
ट्राई चेयरमैन शर्मा ने कहा कि मौजूदा हालात में टेलीकॉम सेवाएं लोगों के जीवन में पहले के मुकाबले बहुत ज्‍यादा अहम और जरूरी हिस्‍सा बन गई हैं. उन्‍होंने उम्‍मीद जताई कि कोविड-19 के बाद के जीवन (Post Covid-19) में भी इसकी अहमियत कम नहीं होगी. उन्‍होंने कहा कि टेलीकॉम कंपनियों और डिजिटल सेवा प्रदाताओं को आपदा को अवसर में बदलने का कोई मौका छोड़ना नहीं चाहिए. इस मौके का फायदा उठाते हुए हमें डिजिटल सुपरपावर (Digital Superpower) और नॉलेज सोसायटी (Knowledge Society) बनने की ओर कदम बढ़ाना चाहिए.

ये भी पढ़ें- सरकारी कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर! केंद्र सरकार ने बदल दिए सैलरी से जुड़े अहम नियम
'पूरी ताकत से लागू हो सकेगा डिजिटल इंडिया प्रोग्राम'


आरएस शर्मा ने कहा कि डिजिटल सुपरपावर बनने से हमारा डिजिटल इंडिया (Digital India) को पूरी ताकत के साथ लागू करने का सपना भी पूरा हो सकेगा. उन्‍होंने कहा कि देश की बड़ी टेलीकॉम कंपनियां अपनी सेवाओं को बेहतर बनाने और रिसोर्स का बेहतर इस्‍तेमाल करने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, बड़े आकार के डाटा व मशीन लर्निंग का इस्‍तेमाल कर रही हैं. मेरा मानना है कि सिर्फ टेलीकॉम सेवा क्षेत्र की कंपनियां भी डिजिटल नेटवर्क की ओर जल्‍द कदम बढ़ाएंगी. वे भी टेलीकॉम सेवा के अलावा दूसरी सर्विस उपलब्‍ध कराना जल्‍द शुरू करेंगी.

ये भी पढ़ें- कोरोना संकट के बीच कर्ज के बोझ में दबे ये राज्य, जानिए अपने स्टेट का हाल

' हर सेक्‍टर में लागत, समय और रिसोर्स की होगी बचत '
शर्मा ने कहा कि ये अच्‍छा बदलाव है क्‍योंकि मौजूदा हालात आने वाले समय में सामान्‍य लगने लगेंगे. आने वाले समय में ज्‍यादातर कंपनियां वर्क फ्रॉम होम को बढ़ावा देंगी. वहीं, स्‍कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटीज डिस्‍टैंट एजुकेशन को तव्‍वजो देना शुरू कर देंगी. यही नहीं डॉक्‍टर्स भी टेलीमेडिसिन, डिजिटल हेल्‍थकेयर नेटवर्क पर ज्‍यादा भरोसा करेंगे. वे डिजिटल नेटवर्क के जरिये ही मरीजों को सलाह देना पसंद करेंगे. इससे हर सेक्‍टर में लागत, समय और रिसोर्स की बचत होगी. साथ ही लोग भी इसमें कंफर्टेबल महसूस करेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज