लाइव टीवी

प्राइवेट अस्पतालों में इलाज कराना 7 गुना महंगा: रिपोर्ट

भाषा
Updated: November 24, 2019, 4:01 PM IST
प्राइवेट अस्पतालों में इलाज कराना 7 गुना महंगा: रिपोर्ट
प्राइवेट अस्पतालों में इलाज कराना 7 गुना महंगा

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) की एक रिपोर्ट से पता चलता है कि देश के निजी अस्पतालों (Private Hospitals) में लोगों को इलाज कराना सरकारी अस्पतालों की तुलना में सात गुना महंगा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश के निजी क्षेत्र के अस्पतालों में लोगों को इलाज कराना सरकारी अस्पतालों की तुलना में सात गुना अधिक खर्चीला पड़ता है. यह बात राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) की एक सर्वेक्षण रिपोर्ट में सामने आयी है. इसमें प्रसव के मामलों पर खर्च के आंकड़े शामिल नहीं किए गए हैं. यह आंकड़ा जुलाई-जून 2017-18 की अवधि के सर्वेक्षण पर आधारित है.

शनिवार को जारी की गई रिपोर्ट
राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण (एनएसएस) की 75वें दौर की ‘परिवारों का स्वास्थ्य पर खर्च’ संबंधी सर्वेक्षण रिपोर्ट शनिवार को जारी की गयी. इसके अनुसार इस दौरान परिवारों का सरकारी अस्पताल में इलाज कराने का औसत खर्च 4,452 रुपये रहा. जबकि निजी अस्पतालों में यह खर्च 31,845 रुपये बैठा.

ये भी पढ़ें: यहां FD पर मिल रहा है सबसे ज्यादा मुनाफा! 9 फीसदी की दर से मिलेगा ब्याज


क्या है ग्रामीण और शहरी क्षेत्र के अस्पतालों में खर्च
शहरी क्षेत्र में सरकारी अस्पतालों में यह खर्च करीब 4,837 रुपये जबकि ग्रामीण क्षेत्र में 4,290 रुपये रहा. वहीं निजी अस्पतालों में यह खर्च क्रमश: 38,822 रुपये और 27,347 रुपये था. ग्रामीण क्षेत्र में एक बार अस्पताल में भर्ती होने पर परिवार का औसत खर्च 16,676 रुपये रहा. जबकि शहरी क्षेत्रों में यह 26,475 रुपये था.यह रिपोर्ट 1.13 लाख परिवारों के बीच किए गए सर्वेक्षण पर आधारित है. इससे पहले इस तरह के तीन सर्वेक्षण 1995-96, 2004 और 2014 में हो चुके हैं.

42 फीसदी लोग सरकारी अस्पताल का चुनाव करते हैं
अस्पताल में भर्ती होने वाले मामलों में 42 फीसदी लोग सरकारी अस्पताल का चुनाव करते हैं. जबकि 55 फीसदी लोगों ने निजी अस्पतालों का रुख किया. गैर-सरकारी और परर्मार्थ संगठनों द्वारा संचालित अस्पतालों में भर्ती होने वालों का अनुपात 2.7 फीसदी रहा. इसमें प्रसव के दौरान भर्ती होने के आंकड़ों को शामिल नहीं किया गया है.

ये भी पढ़ें: नौकरी गई तो 2 साल तक पैसे देगी ESIC, सीधे बैंक खाते में पहुंचेगी रकम, जानें पूरी डिटेल

प्रसव के लिए सरकारी और निजी अस्तपतालों में बड़ा अंतर
प्रसव के लिए अस्पताल में भर्ती होने पर ग्रामीण इलाकों में परिवार का औसत खर्च सरकारी अस्पतालों में 2,404 रुपये और निजी अस्पतालों में 20,788 रुपये रहा. वहीं शहरी क्षेत्रों में यह खर्च क्रमश: 3,106 रुपये और 29,105 रुपये रहा. रिपोर्ट के अनुसार देश में 28 प्रतिशत प्रसव मामलों में ऑपरेशन किया गया.

सरकारी अस्पतालों में मात्र 17 फीसदी प्रसव के मामलों में ऑपरेशन किया गया और इनमें 92 फीसदी ऑपरेशन मुफ्त किए गए. वहीं निजी अस्पताओं में 55 फीसदी प्रसव के मामलों में ऑपरेशन किया गया और इनमें केवल एक प्रतिशत ऑपरेशन मुफ्त किए गए.

ये भी पढ़ें: सस्ते में AC और फ्रिज खरीदने का मौका, 1 जनवरी से 6,000 रुपये तक बढ़ सकता है दाम- जानें वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 24, 2019, 4:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर