• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • Trojan Malware: एंड्रायड फोन इस्तेमाल करने वाले बैंक ग्राहक सावधान! सावधानी हटी तो अकाउंट में लग जाएगी सेंध

Trojan Malware: एंड्रायड फोन इस्तेमाल करने वाले बैंक ग्राहक सावधान! सावधानी हटी तो अकाउंट में लग जाएगी सेंध

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (CERT-In) ने एक एडवाइजरी जारी की है जिसके मुताबिक भारतीय साइबर स्पेस में एक बैंकिंग ट्रोजन मैलवेयर (Trojan Malware) का पता चला है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. अगर आप भी एंड्रायड फोन के जरिए बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं तो आपके लिए जरूरी खबर है. देश की फेडरल साइबर सिक्योरिटी एजेंसी ने एक ताजा एडवाइजरी में कहा कि भारतीय साइबर स्पेस में एक बैंकिंग ट्रोजन मैलवेयर (Trojan Malware) का पता चला है जो एंड्रॉयड फोन का उपयोग करने वाले बैंक ग्राहकों पर चुपके से हमला करने के लिए तैयार है. यह पहले ही 27 से ज्यादा पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर के बैंकों को निशाना बना चुका है.

    भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (Indian Computer Emergency Response Team/CERT-In) ने मंगलवार को जारी एडवाइजरी में कहा है कि फिशिंग मैलवेयर ‘इनकम टैक्स रिफंड’ के रूप में दिखा रहा है और यह ग्राहक डेटा की गोपनीयता को प्रभावी ढंग से खतरे में डाल सकता है और परिणामस्वरूप बड़े पैमाने पर हमले और वित्तीय धोखाधड़ी हो सकता है.

    ये भी पढ़ें- करोड़ों नौकरीपेशा लोगों के लिए जरूरी खबर, इस एक गलती से PF का पैसा हो जाएगा साफ, EPFO ने दी ये सलाह

    एडवाइजरी में कहा गया है कि यह देखा गया है कि भारतीय बैंकिंग ग्राहकों को ड्रिनिक एंड्रॉयड मैलवेयर (Drinik Android Malware) का उपयोग करके एक नए प्रकार के मोबाइल बैंकिंग कैंपेन द्वारा निशाना बनाया जा रहा है. ड्रिनिक ने साल 2016 में एक एसएमएस चोरी करने वाले के रूप में शुरुआत की और हाल ही में एक बैंकिंग ट्रोजन के रूप में विकसित हुआ है जो फिशिंग स्क्रीन प्रदर्शित करता है और यूजर्स को संवेदनशील बैंकिंग जानकारी दर्ज करने के लिए राजी करता है.

    ये भी पढ़ें- महामारी के प्रकोप के कारण ADB ने घटाया देश की इकोनॉमिक ग्रोथ का अनुमान, 11% से घटाकर किया 10%

    सीईआरटी-इन ने कहा कि पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर के 27 से ज्यादा भारतीय बैंकों के ग्राहकों को पहले ही हमलावरों ने निशाना बनाया है. बता दें कि सीईआरटी-इन साइबर हमलों से निपटने और फिशिंग और हैकिंग हमलों और इसी तरह के ऑनलाइन हमलों के खिलाफ साइबर स्पेस की रक्षा करने के लिए फेडरल टेक्नोलॉजी आर्म है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन