अपना शहर चुनें

States

तुर्की में 99 टन सोना की खोज, कई देशों की जीडीपी से भी ज्यादा ही इसकी कीमत

तुर्की में 99 टन सोना के बारे में पता चला है.
तुर्की में 99 टन सोना के बारे में पता चला है.

तुर्की (Turkey) में करीब 99 टन सोना के खादान के बारे में पता चला है. एक स्थानीय न्यूज एजेंसी रिपोर्ट में कहा गया है कि इतने सोने की कीमत करीब 6 अरब डॉलर होगी, जोकि कई देशों की जीडीपी से भी ज्यादा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 25, 2020, 8:58 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. तुर्की में 99 टन सोना के बारे में पता चला है. इसकी कीमत 6 अरब डॉलर से ज्यादा बताई जा रही है. यह रकम कई देशों की सकल घरेलू उत्पाद (GDP) से भी ज्यादा है. सोने के इतने बड़े खान की खोज फाहरेटिन पाईराज (Fahrettin Poyraz) नाम एक शख्स ने की है. पाईराज तुर्की के एग्रीकल्चर क्रेडिट कोऑपरेटिव्स (Agricultural Credit Cooperatives) के प्रमुख हैं. एक स्थानीय न्यूज एजेंसी से बात करते हुए पाईराज ने कहा कि दो साल के अंदर हम सोने की इस खान से कुछ हिस्सा निकालेंगे में सफल होंगे. इससे तुर्की की अर्थव्यवस्था को फायदा मिलने वाला है.

इस साल तुर्की में 38 टन सोने का उत्पादन
इस साल तुर्की ने सोने के उत्पादन को लेकर अपना ही रिकॉर्ड तोड़ दिया है. 2020 में तुर्की में 38 टन सोने का उत्पादन किया गया है. यहां के उर्जा मंत्री फेथ डॉनमेज़ (Faith Donmez) ने सितंबर महीने में ही लक्ष्य रखा था कि तुर्की को करीब 100 टन सोना उत्पादन करना है.

कई देशों की जीडीपी से भी ज्यादा है कीमत
तुर्की में सोने के इतने बड़े खादान के बारे में पता चलने के बाद इसकी कीमत आंकी गई है. यह कीमत करीब 6 अरब डॉलर से भी ज्यादा बताई जा रही है, जोकि कई देशों की जीडीपी से भी ज्यादा है. जबकि, मालदीव की जीडीपी 4.87 अरब डार है. बुरुंडी, बारबाडोस, गुयाना, मॉन्टेनेगरो, मॉरिशियाना की जीडीपी 6 अरब डॉलर से बहुत कम है.



यह भी पढ़ेंः Gold Price Today: गोल्‍ड के दाम में तेजी, चांदी हजार रुपये से ज्‍यादा हुई महंगी, चेक करें नई कीमतें

दूसरी तरफ, सीरिया से तुर्की आने वाले शरणार्थियों की मदद के लिए यूरोपीयन यूनियन 590 मिलियन डॉलर की मदद करने की प्लानिंग कर रहा है. ईयू करीब 18 लाख शरणार्थियों को पर्याप्त नकदी देगा और 7 लाख से ज्यादा बच्चों को शिक्षा देने का काम करेगा. इस प्रोग्राम को तुर्की के रेड क्रिसेंट मैनेज कर रहा है. यूनिसेफ और रेड क्रॉस भी इसमें पार्टनरशिप कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज