अब तुर्की संकट में फंसी दुनिया! शेयर बाजारों में गिरावट, भारत पर होगा ये असर

एक्सपर्ट्स का कहना है कि भारत के शेयर बाजार और रुपये पर इसका ज्यादा असर नहीं होगा. हालांकि, निवेशकों को फिलहाल संभलकर पैसा लगाना चाहिए.

News18Hindi
Updated: August 11, 2018, 7:21 PM IST
अब तुर्की संकट में फंसी दुनिया! शेयर बाजारों में गिरावट, भारत पर होगा ये असर
अब टर्की संकट में फंसी दुनिया! शेयर बाजारों में गिरावट, भारत पर होगा ये असर
News18Hindi
Updated: August 11, 2018, 7:21 PM IST
दुनियाभर के शेयर बाजारों में शुक्रवार के दिन भारी गिरावट देखने को मिली है. इसकी मुख्य वजह तुर्की को बताया जा रहा है. दरअसल तुर्की को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के एक ट्वीट किया. इसके बाद दुनिया के कई देशों की करेंसी में गिरावट गहरा गई. इस पर एक्सपर्ट्स का कहना है कि भारत के शेयर बाजार और रुपये पर इसका ज्यादा असर नहीं होगा. हालांकि, निवेशकों को फिलहाल संभलकर पैसा लगाना चाहिए.

(ये भी पढ़ें-इस तारीख से बंद हो जाएगा SBI का ये ATM कार्ड, नहीं कर पाएंगे कोई भी काम)

क्या है टर्की संकट?
अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को तुर्की से स्टील एवं एल्युमिनियम के आयात पर शुल्क दोगुना करने की घोषणा की. ट्रंप ने यह कदम ऐसे समय में उठाया है जब तुर्की पहले ही आर्थिक संकट से गुजर रहा है और अमेरिका के साथ कूटनीतिक विवादों में उलझा हुआ है. इससे वहां की करेंसी में गिरावट गहरा गई. इसका असर अमेरिका के शेयर बाजार के साथ-साथ यूरोप के बाजारों पर भी दिखाई दिया.अमेरिकी बेंचमार्क इंडेक्स डाओ जोंस करीब 200 अंक टूटकर बंद हुआ. नैस्डैक और एसएंडपी 500 इंडेक्स भी करीब 1 फीसदी नीचे बंद हुए.




डोनाल्ड ट्रंप ने किया ट्वीट
डोनाल्ड ट्रंप ने अपने ट्वीट में कहा, "मैंने तुर्की के इस्पात और एल्युमिनियम पर शुल्क दोगुना करने की अनुमति दे दी है. उनकी मुद्रा लीरा हमारे बेहद मजबूत डॉलर के मुकाबले तेजी से नीचे गिर रही है. अभी तुर्की के साथ हमारे संबंध ठीक नहीं हैं." मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, तुर्की द्वारा एक अमेरिकी पादरी को हिरासत में रखने की घटना के बाद से दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ा है. (ये भी पढ़ें- SBI को इस वजह से तीन महीने में हुआ 4876 करोड़ रुपये का घाटा)

SBI के ATM पर आपको मिलते हैं ये 5 फायदे


अब आगे क्या
मार्केट एक्सपर्ट अजय बग्गा का कहना है कि तुर्की सकंट का ज्यादा असर नहीं दिखेगा. भारतीय बाजार और करेंसी रुपये  में और ज्यादा गिरावट की आशंका नहीं है. तुर्की की करेंसी के लुढ़कने से रूस और अर्जेंटीना की मुद्रा पर असर देखने को मिला. हालांकि, अक्सर ऐसा होता है कि किसी करेंसी में भारी गिरावट आए तो उसका असर कुछ देशों पर ज्यादा होता है. पिछले एक साल में तुर्की की करेंसी में 40 फीसदी से ज्यादा की कमजोरी आ चुकी है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर