तुर्की के राष्ट्रपति ने केंद्रीय बैंंक प्रमुख को दिखाया बाहर का रास्ता, कंरसी और महंगाई बनी वजह

तुर्की के राष्ट्रपति तैय्यप एर्दोआन
तुर्की के राष्ट्रपति तैय्यप एर्दोआन

तुर्की के राष्ट्रपति तैय्यप एर्दोआन (Tayyip Erdogan) ने केंद्रीय बैंक प्रमुख मूरत उयसाल को उनके पद से हटा दिया है. उन्होंने यह फैसला तुर्की की करंसी लीरा में रिकॉर्ड गिरावट और बढ़ती महंगाई दर की वजह से लिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 7, 2020, 4:07 PM IST
  • Share this:
अंकारा. तुर्की के राष्ट्रपति तैय्यप एर्दोआन (Tayyip Erdogan) ने करंसी ‘लीरा’ में रिकॉर्ड गिरावट और महंगाई दर के ऊंचाई पर बने रहने के बीच शनिवार को देश के केंद्रीय बैंक (Tukey Central Bank) के प्रमुख को हटा दिया. आधिकारिक गैजेट में राष्ट्रपति के फैसले की घोषणा की गयी है. इसके मुताबिक केंद्रीय बैंक के प्रमुख मूरत उयसाल (Murat Uysal) को हटा दिया गया है और उनके स्थान पर पूर्व वित्त मंत्री नासी अग्बल को लाया गया है.

इस साल लीरा की वैल्यू में भारी गिरावट
तुर्की की मुद्रा लीरा (Turkey Currency Lira) के साल की शुरुआत से अब तक अपने मूल्य का लगभग एक तिहाई गिर जाने के बाद राष्ट्रपति एर्दोआन ने यह निर्णय किया है. शुक्रवार को डॉलर के मुकाबले लीरा प्रति डालर 8.58 के रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंच गयी. देश में वार्षिक मुद्रास्फीति 11.89 फीसदी के स्तर पर रही.

जुलाई 2019 में केंद्रीय बैंक प्रमुख नियुक्त हुए थे उयसाल
एर्दोआन ने डिप्टी गवर्नर उयसाल को जुलाई 2019 में केंद्रीय बैंक का प्रमुख नियुक्त किया था. उनके पहले मुरत सेटींकाया को इसलिए पद से हटाया गया था क्योंकि उन्होंने तुर्की की अर्थव्यवस्था को बूस्ट करने के लिए ब्याज दरों में कोई कटौती नहीं की थी.



यह भी पढ़ें: दिवाली से पहले आपके पीएफ अकाउंट में आने वाला है पैसा! इन 4 तरीकों से चेक कर सकते हैं बैलेंस

एर्दोआन हमेशा उच्च ब्याज दर के खिलाफ रहते हैं. उन्होंने लगातार कर्ज की दर कम करने के लिए ब्याज दरों में कटौती का पक्ष रखा है. पिछले सप्ताह, उन्होंने कहा था कि तुर्की एक अर्थिक युद्ध के दौरान से गुजर रहा है. उन्होंने तीन बातों को तुर्की की अर्थव्यवस्था के लिए दुश्मन करार दिया था. वो ब्याज दर, एक्सचेंज दर और महंगाई है.

पिछले महीने अंतिम मौद्रिक नीति बैठक में केंद्रीय बैंक से उम्मीद की जा रही थी कि ब्याज दरें घटाई जाएंगी. लेकिन, केंद्रीय बैंक ने इस बैठक में ब्याज दरों को 10.25 फीसदी पर ही स्थिर रखने का फैसला लिया. इसके बाद से तुर्की की करंसी लीरा में बड़ी गिरावट देखने को मिली.

यह भी पढ़ें: LIC Policy: हर महीने मिलेंगे 36,000 रुपये, एक ही बार भरना होगा प्रीमियम, ऐसे उठाएं लाभ

इस साल 30 फीसदी लुढ़की लीरा
अमेरिकी डॉलर के मुकाबले लीरा में इस साल 30 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. साथ ही यह उभरती अर्थव्यवस्थाओं में सबसे खराब प्रदशर्न करने वाली करंसी बन गई है. आगामी 19 नवंबर को तुर्की के केंद्रीय बैंक की अगली बैठक होने वाली है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज