पूरा होगा UAE में नौकरी करने का सपना, 10 साल तक के 'Golden' वीजा​ नियमों में ढील

UAE ने 10 साल के गोल्डेन वीजा का दायरा अन्य प्रोफेशनल्स के लिए बढ़ा दिया है.
UAE ने 10 साल के गोल्डेन वीजा का दायरा अन्य प्रोफेशनल्स के लिए बढ़ा दिया है.

संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने 10 साल के गोल्डेन वीजा का दायरा कई अन्य प्रोफेशनल्स तक बढ़ा दिया है. दुबई के शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम (Sheikh Mohammed bin Rashid Al Maktoum), यूएई के प्रधानमंत्री और उपराष्ट्रपति ने एक ट्वीट के जरिए इसकी घोषणा की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 16, 2020, 12:06 PM IST
  • Share this:
दुबई. संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने रविवार को अधिक पेशेवरों को 10 साल का गोल्डन वीजा (Golden Visa) जारी करने की मंजूरी दे दी है. इसमें पीएचडी डिग्रीधारक, चिकित्सक, इंजीनियर और विश्वविद्यालयों के कुछ खास स्नातक भी शामिल हैं. गौरतलब है कि यूएई प्रतिभाशाली और अधिक पेशेवर लोगों को खाड़ी देशों में बसाने और राष्ट्र निर्माण में उनका योगदान पाने के लिए गोल्डन वीजा मुहैया कराती है. दुबई के शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम (Sheikh Mohammed bin Rashid Al Maktoum), यूएई के प्रधानमंत्री और उपराष्ट्रपति ने एक ट्वीट के जरिए इसकी घोषणा की है.

देश में प्रतिभाशाली लोगों का स्वागत
उन्होंने ट्वीट किया, 'प्रवासी पेशेवर लोग जिनमें चिकित्सक, इलेक्ट्रॉनिक्स, प्रोग्रामिंग, सभी पीएचडी डिग्रीधारक, कंप्यूटर इंजीनियरिंग, यूएई द्वारा मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों के स्नातक, प्रोग्रामिंग, बिजली और जैव प्रौद्योगिकी जिनका जीपीए (Grade Point Average) 3.8 या उससे अधिक हो, को 10 साल का गोल्डन वीजा जारी करने के फैसले को हमने मंजूरी दे दी है.'


यह भी पढ़ें: अस्थायी कर्मचारियों के लिए सरकार का नया नियम, पूरा कर लेंगे ये काम तो मिलेंगे कई फायदे



शेख मोहम्मद ने ट्वीट किया, 'यह पहला बैच है और इसके बाद अन्य श्रेणियां भी होंगी, हम चाहते हैं कि प्रतिभाशाली और समझदार लोग यूएई में आएं और विकास व उपलब्धियों की प्रक्रिया में शामिल हों.'

इस दिन से लागू होगा नई गोल्डन वीजा
इस पर गल्फ न्यूज ने बताया कि विशेष डिग्रीधारकों को भी गोल्डन वीजा जारी किया जाएगा. इसमें महामारी विज्ञान, विषाणु विज्ञान और कृत्रिम बुद्धिमता जैसे क्षेत्र के विशेषज्ञ भी शामिल हैं. गौरतलब है कि इस कदम को यूएई के मंत्रिमंडल की भी मुहर लग चुकी हैं. यह नियम 1 दिसंबर, 2020 से लागू होंगे. गतिशील जीवन शैली और सुरक्षा के अलावा, जो कि यूएई में जीवन की मुख्य विशेषताएं मानी जाती हैं, गोल्डन रेजीडेंसी धारकों और उनके परिवारों को 10 साल के रेजिडेंसी वीजा की पेशकश की जाएगी.
नई गोल्डान वीजा नीति का लक्ष्य

यह भी पढ़ें: दुनिया के सबसे बड़े व्यापार समझौते में क्यों शामिल नहीं हुआ भारत, क्या होगा इसका असर?

रिपोर्ट में कहा गया है कि नई गोल्डन रेजिडेंसी श्रेणियां यूएई में करियर के लिहाज से नवाचार, रचनात्मकता और अनुप्रयुक्त अनुसंधान को प्रोत्साहित करने के लिए कार्यक्रम का विस्तार करती हैं. नई गोल्डन वीजा नीति का लक्ष्य विभिन्न क्षेत्रों और वैज्ञानिक विषयों के विशेषज्ञों व प्रतिभाशाली पेशेवरों को आकर्षित करने और उन्हें देश में बनाए रखना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज