Home /News /business /

Aviation News: भारत-UAE के बीच जल्द सामान्य होगी उड़ान, कम होगा हवाई किराया

Aviation News: भारत-UAE के बीच जल्द सामान्य होगी उड़ान, कम होगा हवाई किराया

भारत और यूएई के बीच एयर बबल एग्रीमेंट (air bubble agreement) के तहत निश्चित उड़ानें ही चल रही हैं.

भारत और यूएई के बीच एयर बबल एग्रीमेंट (air bubble agreement) के तहत निश्चित उड़ानें ही चल रही हैं.

संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के भारत में राजदूत अहमद अलबन्ना उम्मीद जताई जा रही है कि संयुक्त अरब अमीरात और भारत हवाई सेवा सामान्य होने से यात्रियों की संख्या में इजाफा होगा और हवाई किराये कम होंगे. इसका सीधा-सीधा फायदा यात्रियों को मिलेगा. उधर, नागरिक उड्डयन मंत्रालय (Ministry of Civil Aviation) के सचिव राजीव बंसल ने कहा है कि कोरोना काल में बंद की गईं सभी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें दिसंबर के अंत तक फिर से शुरू कर दी जाएंगी. उन्होंने कहा कि इस साल के अंत तक अंतरराष्ट्रीय उड़ान सेवाएं सामान्य होने की उम्मीद है.

अधिक पढ़ें ...

    Aviation News: संयुक्त अरब अमीरात (United Arab Emirates- UAE) ने भारत के साथ कोविड पूर्व उड़ान सेवाओं को फिर से शुरू करने की उम्मीद व्यक्त की है. यूएई का कहना है कि उड़ान सामान्य होने से विमान किराया और सीटों की कमी जैसे मुद्दों का समाधान होगा. जब कोविड महामारी आई तो भारत समेत तमाम देशों ने अपनी हवाई सेवाओं को रद्द कर दिया था. स्थित सामान्य होने पर भारत और यूएई के बीच एयर बबल एग्रीमेंट (air bubble agreement) के तहत निश्चित उड़ानें शुरू हुई थीं.

    अब जब लगभग सभी कुछ सामान्य हो चुका है, दोनों देशों के बीच उड़ान सेवा को भी कोविड से पहले की स्थिति पर लाया जा रहा है. भारत और अरब अमीरात के बीच निश्चित उड़ान सेवाएं होने के चलते विमान किराया बहुत अधिक बढ़ गया है. वर्तमान में भारत और दुबई (Dubai flight ticket price) के बीच हवाई किराया 40,000 रुपये के आसपास है.

    एयर बबल समझौते के तहत विमान में यात्रियों की संख्या को सीमित कर दिया गया है. विमानन कंपनियां केवल 30 परसेंट क्षमता का इस्तेमाल ही कर रही हैं. इससे यात्री किराये में इजाफा हो गया है. विमानन कंपनियों की संचालन लागत बढ़ गई है. इसके अलावा लगातार बढ़ती तेल की कीमतों का असर भी हवाई किराये पर पड़ा है.

    राजदूत ने जताई उम्मीद
    संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के भारत में राजदूत अहमद अलबन्ना उम्मीद जताई जा रही है कि संयुक्त अरब अमीरात और भारत हवाई सेवा सामान्य होने से यात्रियों की संख्या में इजाफा होगा और हवाई किराये कम होंगे. इसका सीधा-सीधा फायदा यात्रियों को मिलेगा.

    Indian Railways का  भारत गौरव ट्रेन चलाने का ऐलान, ट्रेनों में दिखेगी देश की संस्कृति

    वर्तमान में भारत का 25 देशों के साथ एयर बबल समझौता है. इनमें अमेरिका, ब्रिटेन, श्रीलंका, नेपाल, जर्मनी, दुबई, फ्रांस और कनाडा शामिल हैं.

    कोविड से पहले भारत और यूएई के बीच सप्ताह में 1,068 फ्लाइट का आवागमन होता था.

    संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के साथ हुए एयर बबल समझौते के अनुसार, दोनों देशों की एयरलाइंस को कुछ श्रेणियों में शामिल पैसेंजर्स को यात्रा कराने की अनुमति है.

    यूएई ने की घोषणाएं
    यूएई ने भी भारत से आने वाले यात्रियों के लिए कई नई घोषणाएं की हैं. यूएई के नेशनल क्राइसिस एंड इमरजेंसी मैनेजमेंट अथॉरिटी (NCEMA) ने बताया कि यूएई में रहने वाले वीजा धारक भारत से वापस आ सकते हैं. यूएई ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) से अनुमोदित वैक्सीन लगवाए लोगों को अपने देश में आने की मंजूरी दी हुई है. हालांकि इन लोगों का एयरपोर्ट पर रैपिड पोलीमरेज चेन रिएक्शन (पीसीआर) टेस्ट किया जा रहा है.

    क्रिप्टोकरेंसी को कानून के दायरे में लाने के खिलाफ हैं 54 फीसदी भारतीय- सर्वे

    बता दें कि कोरोनोवायरस महामारी के बीच पिछले साल मार्च से भारत के लिए अनुसूचित अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें निलंबित हैं. नागरिक उड्डयन महानिदेशक (DGCA) ने अनुसूचित अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानों पर निलंबन 30 नवंबर, 2021 तक बढ़ा दिया है.

    दिसंबर के अंत सामान्य हो सकती हैं इंटरनेशनल फ्लाइट्स
    नागरिक उड्डयन मंत्रालय (Ministry of Civil Aviation) के सचिव राजीव बंसल ने कहा है कि कोरोना काल में बंद की गईं सभी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें दिसंबर के अंत तक फिर से शुरू कर दी जाएंगी. उन्होंने कहा कि इस साल के अंत तक अंतरराष्ट्रीय उड़ान सेवाएं सामान्य होने की उम्मीद है.

    उन्होंने कहा कि भारत से आने और जाने वाली अंतरराष्ट्रीय उड़ानें पिछले साल मार्च से कोरोना वायरस महामारी के कारण निलंबित हैं. फिलहाल वंदे भारत मिशन के तहत फ्लाइट्स उड़ानें भर रही हैं. अब इस फैसले से विदेश से आने और जाने वाले लोगों को बड़ी राहत मिलेगी.

    Tags: Aviation News, Civil aviation, Dubai

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर