लाइव टीवी

'सरकार नहीं, लोगों को पावरफुल बना रहा आधार'

News18Hindi
Updated: July 20, 2017, 3:14 PM IST
'सरकार नहीं, लोगों को पावरफुल बना रहा आधार'
Aadhaar 116 करोड़ लोग भारत में आधार बनवा चुके हैं. (प्रतीकात्मक फोटो)

आधार हमारे जीवन में अब इंटरनेट की तरह बन गया है. जैसे हम इंटरनेट के बिना अपने जीवन को अधूरा समझते हैं वैसे ही आधार के बिना भी लोग महसूस करेंगे.

  • Share this:
यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) के CEO अजय भूषण पांडेय मजाकिया अंदाज में कहते हैं बॉलीवुड में स्क्रिप्ट लिखने वालों का काम कठिन होने वाला है. वह बताते हैं कि इसकी वजह यह है कि ज्यादातर लोगों ने 12 अंकों वाला आधार नंबर ले रखा है, ऐसे में कुंभ के मेले में जुड़वां भाइयों का बिछड़ना या अपराधी व्यक्ति को खुद को निर्दोष बताना या शेल कंपनियां खोलने को कोई तुक नहीं रह जाएगा.
IIT कानपुर के ग्रेजुएट और 1984 बैच के IAS ऑफिसर अजय भूषण पांडेय ने मनीकंट्रोल को दिए गए इंटरव्यू में बताया कि आधार हमारे जीवन में अब इंटरनेट की तरह बन गया है. जैसे हम इंटरनेट के बिना अपने जीवन को अधूरा समझते हैं वैसे ही आधार के बिना भी लोग महसूस करेंगे. पेश हैं इस इंटरव्यू के प्रमुख अंशः

दूसरे मौजूदा पहचान पत्रों से आधार कैसे अलग है, इसके पीछे आपका दृष्टिकोण क्या है?
हम 116 करोड़ लोगों का आधार बना चुके हैं, जिसके बाद यह हमारे देश में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाली आइडेंटिटी बन चुका है. भारत में अधिकांश लोगों के पास आधार कार्ड के अतिरिक्त कोई अन्य पहचान नहीं है. इसलिए हम आधार कार्ड के माध्यम से अधिक से अधिक सेवाएं देना चाहते हैं. आधार के जरिए ही सरकार लोगों को सब्सिडी दे रही हैं, अब PAN के साथ भी आधार लिंक कर दिया गया है. जिससे किसी भी व्यक्ति की आमदनी का पता लग सके और वह समय पर टैक्स दे रहा है यह भी पता लगाया जा सकता है. अभी तक भारत में ऐसा कोई पहचान पत्र लॉन्च नहीं हुआ, जो आधार के सिस्टम को टक्कर दे सके. आधार संख्या को सुरक्षित ढंग से डिजिटली प्रमाणित किया गया है. आधार ई-केवाईसी के माध्यम से सिर्फ आधार को साथ ले जाकर आप किसी भी बैंक में अकाउंट खुलवा सकते हैं.

क्या आधार के साथ सरकार हर व्यक्ति की गतिविधि और लेनदेन पर नजर रख पाएगी?
आधार के बारे में बात करते हुए लोग महसूस करते हैं कि सरकार बहुत शक्तिशाली होती जा रही है. बेशक, सरकार को सक्षम बनाया जा रहा है. लेकिन, इसके अलावा आधार लोगों को कहीं ज्यादा पावरफुल बना रहा है. आधार के होने से लोगों को कई फायदे हो रहे हैं जैसे अब गरीबों के पैसे बिचौलिए नहीं मार सकते हैं. आधार आपकी गोपनीयता का भरपूर ख्याल रखता है.
क्या विदेशी नागरिकों को आधार दिया जा सकता है?
अगर आप एक विदेशी नागरिक हैं, तो आपको वेरिफिकेशन के लिए कम से कम 182 दिनों के लिए यहां (भारत में) होना चाहिए. हमारा उद्देश्य सभी भारतीयों को आधार से जोड़ना है फिर वो चाहे भारत में काफी भी रहता हो, क्योंकि आधार किसी व्यक्ति की नागरिकता को साबित नहीं करता.

भारत में साइबर हमले अधिक हो रहे हैं, ऐसे हमलों से आधार डेटाबेस कितना सुरक्षित है?
हमने करीब 116 करोड़ लोगों को आधार दिया है, हम पिछले सात सालों से इसका संचालन कर रहे हैं और हमने 700 करोड़ से ज्यादा अथॉन्टिकेशन किए हैं. हम पहले सतर्क हैं, हमने पहले से ही अपने सिस्टम को साइबर अटैक से लड़ने के लिए सक्षम बनाया है.

ये भी पढ़ें: मुनाफा बढ़ने से छोटे बैंक के शेयरों में लगा पैसा डबल, आगे भी अच्छे रिटर्न का मौका

जीएसटी सेस लगने से सिगरेट की कीमतों में 9% की बढ़ोत्‍तरी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 20, 2017, 3:14 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर